आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

देर रात कॉल रेट में मिलने वाली छूट खत्म

इरम अब्बास, बीबीसी संवाददाता, इस्लामाबाद

Updated Fri, 07 Dec 2012 04:45 PM IST
tarrifes of late-night call rates ban in pak
पाकिस्तान में देर रात कॉल रेट में दी जाने वाली छूट को खत्म कर दिया गया है।
पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी (पीटीए) का तर्क है कि इससे देश के युवाओं का नैतिक पतन हो रहा था।

अथॉरिटी ने उन शिकायतों का भी हवाला दिया है जिन्हें पाकिस्तान के कई रूढ़िवादी परिवारों ने दर्ज कराया है।

अथॉरिटी का कहना है कि इस सेवा को खत्म करने के पीछे की बड़ी वजह ये है कि इसका अधिकांश इस्तेमाल किशोर-वर्ग अपने प्रेम संबंधों के लिए कर रहे थे जो कि पाकिस्तान के रूढ़िवादी परिवारों को नागवार गुजर रहा था।

टेलिकॉम कंपनियों ने इस प्रतिबंध को इस्लामाबाद हाईकोर्ट में चुनौती दी है।

मामला कोर्ट में

इस मामले में अब इस्लामाबाद हाई कोर्ट को फैसला सुनाना है कि आखिर देर रात की बातचीत नैतिकता के लिए खतरा है या नहीं।

पाकिस्तान में देर रात कॉल पैकेज किशोरों और युवाओं के साथ-साथ लंबे समय तक काम करने वाले लोगों के बीच खासा लोकप्रिय है।


पीटीए का कहना है कि ये कदम इसलिए उठाना जरूरी हो गया था क्योंकि इस बारे में काफी शिकायतें आने लगी थीं।

जबकि पाकिस्तान की दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी 'टेलिनोर' के सीएफओ आमिर इब्राहिम का कहना है, 'युवाओं को शिक्षा देने का काम टेलिकॉम इंडस्ट्री का नहीं था।'

उन्होंने बीबीसी से बातचीत में कहा, ''युवाओं में आचार और नैतिकता उनकी परवरिश के साथ आती है, उनके माता पिता से आती है।''

अथॉरिटी पर उपभोक्ता अधिकारों के हनन का आरोप भी लग रहा है।

पीटीए ने अदालत को देर रात हुई आपत्तिजनक बातचीत के कई क्लिप्स सौंपे है।

हालांकि मौलिक बातचीत को सार्वजनिक नहीं किया गया है लेकिन मोबाइल कंपनी को अपनी याचिका वापस लेनी पड़ सकती है।

इसके साथ ही दूससंचार नियामक एक बार फिर सवालों के घेरे में आ सकता है।

कटघरे में 'पीटीए'


ऐसा पहली बार हुआ है कि पाक टेलिकॉम अथॉरिटी ने सार्वजनिक तौर पर इस बात को स्वीकारा है कि आम लोगों की बातचीत को रिकॉर्ड किया गया।

पाकिस्तान में मोबाइल कंपनियां फोन कॉल्स और एसएमएस में सरकार के दखल को मंजूरी देने के लिए कानूनी तौर पर बाध्य हैं।

लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि ये कानूनी प्रावधान इस मामले में काम नहीं आएगा।

कानून विशेषज्ञ मलिक गुलाम साबिर ने बीबीसी से कहा, ''रात के वक्त होने वाली व्यक्तिगत बातचीत को राष्ट्रीय सुरक्षा के आधार पर रिकॉर्ड नहीं किया जा सकता''।

मलिक ने इसे उपभोक्ताओं की निजता का हनन करार दिया है।

" युवाओं को शिक्षा देने का काम टेलिकॉम इंडस्ट्री का नहीं है।"

आमिर इब्राहिम, सीएफओ,टेलिनोर

" रात के वक्त होने वाली व्यक्तिगत बातचीत को राष्ट्रीय सुरक्षा के आधार पर रिकॉर्ड नहीं किया जा सकता।"

मलिक गुलाम साबिर,कानून विशेषज्ञ
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

दीपिका पादुकोण को मिला ये खास सम्मान

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

लेक्सस ने भारत में लॉन्च की एक साथ तीन कार

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

'अंगूरी भाभी' का आरोप, प्रोड्यूसर के पति ने की छेड़छाड़

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

आपके बिजनेस को नुकसान से बचाएगा यह उपाय, आजमाकर देखें

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

स्मार्टफोन से बेहतरीन फोटो खींचने के लिए जरूर पढ़ें ये टिप्स

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

Most Read

भारत पाकिस्तान पर कर सकता है एटमी हमला!

india use nuclear weapons agianst pakistan
  • मंगलवार, 21 मार्च 2017
  • +

हिंदुओं के पक्ष में बोले नवाज, जारी हुआ फतवा

fatwa issued against pakistans prime minister nawaz sharif
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

पाक की खुफिया एजेंसी के कब्जे में हैं हमारे दो मौलवी

sources says both indian clerics are in coustody of pakistan agencies
  • शनिवार, 18 मार्च 2017
  • +

जब एक हिंदू युवती ने नवाज शरीफ को सुनाया गायत्री मंत्र

Holi celebration in Pakistan with nawaz sharif. Gayatri mantra sing by marishas malini in Pakistan 
  • शनिवार, 18 मार्च 2017
  • +

PAK के विरोध में 'बच्चा-बच्चा कट मरेगा..' के लगे नारे

Protest in PoK against Pakistan move to declare Gilgit-Baltistan as 5th province
  • मंगलवार, 21 मार्च 2017
  • +

पाकिस्तान में 19 साल बाद जनगणना लेकिन सिखों की नहीं होगी गिनती

Sikh community in Pakistan, not represented in Pakistan's first national headcount in 19 years
  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top