आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

फलस्तीन पर ‘नाम’ की बैठक रद्द

Ashok Kumar

Ashok Kumar

Updated Sat, 11 Aug 2012 04:32 PM IST
meeting of nam on palastine cancelled
फलस्तीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र में उसकी सदस्यता की मजबूत दावेदारी की कोशिश को समर्थन देने के लिए भारत सहित गुट निरपेक्ष राष्ट्रों की वेस्ट बैंक के रमल्ला में प्रस्तावित बैठक इस्राइल के विरोध के बाद आखिरी क्षणों में रद्द करनी पड़ी। इस्राइल ने उसके द्वारा अधिग्रहित रमल्ला के में पांच देशों के प्रतिनिधियों को प्रवेश देने से मना कर दिया गया था।
फलस्तीन प्रशासन (पीए) की 12 नॉन अलाइड मूवमेंट (नाम) देशों के साथ बैठक रविवार शाम को प्रस्तावित थी। इस दौरान विभिन्न देशों के मंत्री और प्रतिनिधि दो दिनों तक विचार विमर्श करते। यहां फलस्तीन की यूएन में मजबूत दावेदारी के लिए एक प्रस्ताव पर सभी सदस्यों द्वारा हस्ताक्षर भी किया जाता।

इस्राइल ने बांग्लादेश, मलयेशिया, इंडोनेशिया, और क्यूबा जैसे देशों के मंत्रियों और प्रतिनिधियों को प्रवेश देने से इनकार किया। बैठक रद्द होने के बाद भारत के विदेश मंत्रालय के सचिव (ईस्ट) संजय सिंह को बीच रास्ते से ही नई दिल्ली के लिए वापस लौटना पड़ा। इसमें उन देशों के प्रतिनिधियों को आने से रोका गया, जिनका इस्राइल के साथ कोई राजनयिक संबंध नहीं है। इस्राइली विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि भारत जैसे अन्य देशों के अधिकारियों को इसलिए वेस्ट बैंक आने से नहीं रोका गया, क्योंकि इन देशों के हमारे साथ विशेष राजनयिक संबंध हैं।

क्या है ‘नाम’
गुट निरपेक्ष आंदोलन (नाम) राष्ट्रों की एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है, जिन्होंने यह निश्चय किया है कि वे विश्व के किसी भी पावर ब्लॉक (शक्तिशाली देश) के गुट में नहीं रहेंगे। यह आंदोलन भारत के प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति गमाल अब्दुल नासर एवं युगोस्लाविया के राष्ट्रपति जोसिप ब्रॉज़ टीटो द्वारा शुरू किया गया था। इसकी स्थापना अप्रैल 1955 में हुई थी और 2007 तक तक इसमें 118 सदस्य हो चुके थे।

कभी काफी प्रभावी रहा है ‘नाम’
अमेरिका और रूस के बीच शीतयुद्ध के समय में गुट निरपेक्ष आंदोलन (नाम) काफी प्रभावशाली रहा है। दोनों देशों के बीच वर्ष 1947 से लेकर 1999 तक कोल्ड वार छिड़ा रहा। नाम के गठन होने के बाद दोनों ही देश इस संगठन को अपने साथ लाने की कोशिश करते रहे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

डॉक्टरों ने लगभग खोद डाला इस औरत का चेहरा, देखकर डर जाते हैं लोग

  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

FlashBack : यश चोपड़ा की इस हीरोइन ने अंडरवर्ल्ड से मिली धमकी के बाद छोड़ दिया था देश

  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

गुनगुने पानी से नहाने के होते हैं 5 जबरदस्त फायदे, सर्दी में रोज नहाएं

  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

आखिरी वनडे में इन खिलाड़ियों पर कप्तान कोहली लगाएंगे दांव

  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

अक्षय की हीरोइन ने कराया सेक्सी फोेटोशूट, देखिए तस्वीरें

  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

Most Read

IS आतंकियों ने 14 मौलवियों को किया अगवा

IS kidnapped 14 clerics: Afgan govt
  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

बहरीन में तीन शियाओं को गोली मार कर दी गई मौत की सजा

Bahrain executes three Shia men
  • सोमवार, 16 जनवरी 2017
  • +

सऊदी अरब में वेतन मांगा तो मिली जेल और कोड़ों की सजा

Protesting workers get jail in Saudi Arabia, for unpaid wages unrest
  • बुधवार, 4 जनवरी 2017
  • +

ISIS ने जारी किया कैदियों की हत्या करते बच्चों का वीडियो

ISIS video shows kids killing prisoners
  • मंगलवार, 10 जनवरी 2017
  • +

इस्राइल में सेना पर आतंकी हमला, ट्रक से चार सैनिकों को रौंदा

israel: 4 Soldiers Killed After Truck Rams Into Pedestrians
  • रविवार, 8 जनवरी 2017
  • +

इराक में मिली कंकालों से भरी 2400 साल पुरानी कब्र

2400-year-old tomb full of skeletons found in Iraq
  • बुधवार, 11 जनवरी 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top