आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

फलस्तीन पर ‘नाम’ की बैठक रद्द

Ashok Kumar

Ashok Kumar

Updated Sat, 11 Aug 2012 04:32 PM IST
meeting of nam on palastine cancelled
फलस्तीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र में उसकी सदस्यता की मजबूत दावेदारी की कोशिश को समर्थन देने के लिए भारत सहित गुट निरपेक्ष राष्ट्रों की वेस्ट बैंक के रमल्ला में प्रस्तावित बैठक इस्राइल के विरोध के बाद आखिरी क्षणों में रद्द करनी पड़ी। इस्राइल ने उसके द्वारा अधिग्रहित रमल्ला के में पांच देशों के प्रतिनिधियों को प्रवेश देने से मना कर दिया गया था।
फलस्तीन प्रशासन (पीए) की 12 नॉन अलाइड मूवमेंट (नाम) देशों के साथ बैठक रविवार शाम को प्रस्तावित थी। इस दौरान विभिन्न देशों के मंत्री और प्रतिनिधि दो दिनों तक विचार विमर्श करते। यहां फलस्तीन की यूएन में मजबूत दावेदारी के लिए एक प्रस्ताव पर सभी सदस्यों द्वारा हस्ताक्षर भी किया जाता।

इस्राइल ने बांग्लादेश, मलयेशिया, इंडोनेशिया, और क्यूबा जैसे देशों के मंत्रियों और प्रतिनिधियों को प्रवेश देने से इनकार किया। बैठक रद्द होने के बाद भारत के विदेश मंत्रालय के सचिव (ईस्ट) संजय सिंह को बीच रास्ते से ही नई दिल्ली के लिए वापस लौटना पड़ा। इसमें उन देशों के प्रतिनिधियों को आने से रोका गया, जिनका इस्राइल के साथ कोई राजनयिक संबंध नहीं है। इस्राइली विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि भारत जैसे अन्य देशों के अधिकारियों को इसलिए वेस्ट बैंक आने से नहीं रोका गया, क्योंकि इन देशों के हमारे साथ विशेष राजनयिक संबंध हैं।

क्या है ‘नाम’
गुट निरपेक्ष आंदोलन (नाम) राष्ट्रों की एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है, जिन्होंने यह निश्चय किया है कि वे विश्व के किसी भी पावर ब्लॉक (शक्तिशाली देश) के गुट में नहीं रहेंगे। यह आंदोलन भारत के प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू, मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति गमाल अब्दुल नासर एवं युगोस्लाविया के राष्ट्रपति जोसिप ब्रॉज़ टीटो द्वारा शुरू किया गया था। इसकी स्थापना अप्रैल 1955 में हुई थी और 2007 तक तक इसमें 118 सदस्य हो चुके थे।

कभी काफी प्रभावी रहा है ‘नाम’
अमेरिका और रूस के बीच शीतयुद्ध के समय में गुट निरपेक्ष आंदोलन (नाम) काफी प्रभावशाली रहा है। दोनों देशों के बीच वर्ष 1947 से लेकर 1999 तक कोल्ड वार छिड़ा रहा। नाम के गठन होने के बाद दोनों ही देश इस संगठन को अपने साथ लाने की कोशिश करते रहे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

'अनुष्का शर्मा' की दिलकश अदाओं और परफेक्ट फिगर का ये है राज

  • गुरुवार, 27 जुलाई 2017
  • +

India Couture Week 2017: शर्मीली दिशा पाटनी का शो स्टॉपर अंदाज

  • गुरुवार, 27 जुलाई 2017
  • +

लाल आंखें, शरीर पर बाघ जैसे निशान, लोगों ने पूछा 'कहीं यह एलियन तो नहीं'?

  • गुरुवार, 27 जुलाई 2017
  • +

रफ्तार में दौड़ती ट्रेन की छत पर चला रहा था साइकिल, तभी बिगड़ा बैलेंस और...

  • गुरुवार, 27 जुलाई 2017
  • +

19 साल की लड़की ने एक हफ्ते में इतनी बार जीती लॉटरी कि करोड़ों में पहुंचा बैंक बैलेंस

  • गुरुवार, 27 जुलाई 2017
  • +

Most Read

सऊदी के क्राउन प्रिंस बने कार्यकारी ‘किंग’, छुट्टी पर हैं मोहम्मद बिन सलमान किंग

Crown Prince of Saudi Arabia became the 'King'
  • मंगलवार, 25 जुलाई 2017
  • +

सऊदी अरब ने अपनी मुद्रा रियाल में पहली बार जारी किया 'सुकुक'

 Saudi Arabia releases its currency for the first time in 'Suquk'
  • मंगलवार, 25 जुलाई 2017
  • +

'रेपिस्ट से शादी' कानून का विरोध, सड़कों पर लटकी मिली दुल्हन की ड्रेस

marry your rapist law in arab countries, people start protesting
  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

कतर ने बदला अपना आतंक निरोधक कानून, बनाई आतंकी संगठनों की सूची

Qatar has changed its Anti-Terror Law, list of terrorist organizations created
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

इसराइल ने यरूशलम में हरम-अल शरीफ से हटाए मेटल डिटेक्टर

Israel removed metal detector from Harm-al-Sharif in Jerusalem
  • मंगलवार, 25 जुलाई 2017
  • +

जंग के बाद क्या वापस बस पाएगा इराक का प्राचीन शहर मोसुल!

after recapture does Mosul again Settle back
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!