आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

लिखावट जिसका रहस्य जानने में जुटे हैं वैज्ञानिक

बीबीसी हिंदी

Updated Thu, 25 Oct 2012 08:58 PM IST
Scientists are trying to unravel mystery of handwriting
यह लिखावट कांस्य युग की है और ये वो वक्त है जब मानव सभ्यता भुखमरी की कगार पर थी।
शोधकर्ताओं ने इस लिखावट को नाम दिया है प्रोटो-ऐलामाइट जिसका इस्तेमाल 3200 ईसा पूर्व से 2900 ईसा पूर्व के बीच किया जाता था। जिस इलाके में यह लिखावट पाई गई वह इलाका आज ईरान के नाम से जाना जाता है।

बीबीसी संवाददाता सीगन कॉगलन के मुताबिक ऑक्सफोर्ड के ऐशमोलियन संग्रहालय में चमकती रोशनी के बीच एक काले बक्से रुपी मशीन में रखी हैं वो बेहतरीन तस्वीरें जो अब इस लिखावट की दस्तावेज़ हैं।

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस खास मशीन के ज़रिए मिट्टी की उन ‘टेबलेट’ रुपी पट्टियों को हर कोण से देखा जा सकता है जिनपर यह लिखावट सुरक्षित है। इस नई मशीन के ज़रिए शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि इस लिखावट से जुड़े राज़ समझने में उन्हें कामयाबी मिलेगी।

ऑक्सफोर्ड के वुल्फसन कॉलेज से जुड़े जेकब डाहल के मुताबिक, ''मुझे लगता है कि आखिरकार हम उस समय पर पहुंच गए हैं जब हमें एक बड़ी कामयाबी मिलने वाली है।''

विलुप्त लिखावट
लेकिन क्या वजह है कि इस लिखावट को समझना इतना मुश्किल रहा है?

डॉक्टर डाहल के मुताबिक एक वजह तो ये है कि विशेषज्ञों को न इन चिन्हों की कोई जानकारी है और न ही इस लिखावट की शैली किसी दूसरी प्रागैतिहासिक भाषा से मिलती है।

साथ ही पिछले दिनों हुए कुछ अध्ययनों में यह सामने आया कि इस लिखावट में कुछ गलतियां भी थीं जिसके चलते शोधकर्ता भ्रमित हुए।

समस्या ये भी है कि ये एक लिखित भाषा है और इस भाषा में शब्द कैसे बोले जाते थे इसके बारे में कोई जानकारी मौजूद नहीं है। ऐसे में भाषा से जुड़े कई संकेतों का पता लगाना भी मुश्किल है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक अब तक मिली जानकारियां ये कहती हैं कि इस लिखावट के ज़रिए उस दौर के लोगों ने कविताएं या साहित्य नहीं लिखा बल्कि व्यापार और रोज़मर्रा के कामकाज से जुड़ी जानकारियां बांटी हैं।

लिखावट का लेखाजोखा
--इस लिखावट को प्रोटो-एलामाइट का नाम दिया गया है।
--ये लिखावट वर्तमान ईरान के इलाके में इस्तेमाल की जाती थी।
--गीली मिट्टी की पट्टियों पर ये लिखावट दाईं से बाईं ओर लिखी जाती थी।
--कांस्य युग की जानकारियां समेटे इस लिखावट की एक हज़ार टेबलेट मौजूद हैं।
--सबसे पहले इस लिखावट की जानकारी 19सवीं सदी में फ्रांस के पुरातत्ववेत्ताओं को हुई।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

Nokia 3310 की कीमत का हुआ खुलासा, 17 मई से शुरू होगी डिलीवरी

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

फॉक्सवैगन पोलो जीटी का लिमिटेड स्पोर्ट वर्जन हुआ लॉन्च

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

सलमान की इस हीरोइन ने शेयर की ऐसी फोटो, पार हुईं सारी हदें

  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

इस बी-ग्रेड फिल्म के चक्कर में दिवालिया हो गए थे जैकी श्रॉफ, घर तक रखना पड़ा था गिरवी

  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

विराट की दाढ़ी पर ये क्या बोल गईं अनुष्का

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

Most Read

फ्रांस चुनाव: पेन बोलीं- मस्जिदों पर लगेगा ताला

France votes in presidential election today
  • रविवार, 23 अप्रैल 2017
  • +

पेरिस में आतंकी हमला, ISIS ने ली जिम्मेदारी

One policeman killed after shooting incident in Paris
  • शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017
  • +

आयरिश महिला की नस्ली टिप्पणी, 'तुम कलंक हो! गो बैक टू इंडिया।'

Ireland: Woman yells at train passengers Go back to India
  • गुरुवार, 20 अप्रैल 2017
  • +

फ्रांस चुनावः मेरी ली पेन ने नेशनल फ्रंट पार्टी के प्रेसिडेंट का पद छोड़ा!

France Presidential Election marine Le Pen 'steps down' as National Front leader
  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

एक क्लिक में जानिए, फ्रांस में कैसे होता है राष्ट्रपति का चयन

How the President is elected in France
  • रविवार, 23 अप्रैल 2017
  • +

एयरपोर्ट पर भारतीय मूल की महिला से कहा- कपड़े उतारो, सरकार सख्त

Frankfurt airport: Indian woman asked to strip as part of 'random security check'
  • रविवार, 2 अप्रैल 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top