आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

लिखावट जिसका रहस्य जानने में जुटे हैं वैज्ञानिक

बीबीसी हिंदी

Updated Thu, 25 Oct 2012 08:58 PM IST
Scientists are trying to unravel mystery of handwriting
यह लिखावट कांस्य युग की है और ये वो वक्त है जब मानव सभ्यता भुखमरी की कगार पर थी।
शोधकर्ताओं ने इस लिखावट को नाम दिया है प्रोटो-ऐलामाइट जिसका इस्तेमाल 3200 ईसा पूर्व से 2900 ईसा पूर्व के बीच किया जाता था। जिस इलाके में यह लिखावट पाई गई वह इलाका आज ईरान के नाम से जाना जाता है।

बीबीसी संवाददाता सीगन कॉगलन के मुताबिक ऑक्सफोर्ड के ऐशमोलियन संग्रहालय में चमकती रोशनी के बीच एक काले बक्से रुपी मशीन में रखी हैं वो बेहतरीन तस्वीरें जो अब इस लिखावट की दस्तावेज़ हैं।

वैज्ञानिकों का मानना है कि इस खास मशीन के ज़रिए मिट्टी की उन ‘टेबलेट’ रुपी पट्टियों को हर कोण से देखा जा सकता है जिनपर यह लिखावट सुरक्षित है। इस नई मशीन के ज़रिए शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि इस लिखावट से जुड़े राज़ समझने में उन्हें कामयाबी मिलेगी।

ऑक्सफोर्ड के वुल्फसन कॉलेज से जुड़े जेकब डाहल के मुताबिक, ''मुझे लगता है कि आखिरकार हम उस समय पर पहुंच गए हैं जब हमें एक बड़ी कामयाबी मिलने वाली है।''

विलुप्त लिखावट
लेकिन क्या वजह है कि इस लिखावट को समझना इतना मुश्किल रहा है?

डॉक्टर डाहल के मुताबिक एक वजह तो ये है कि विशेषज्ञों को न इन चिन्हों की कोई जानकारी है और न ही इस लिखावट की शैली किसी दूसरी प्रागैतिहासिक भाषा से मिलती है।

साथ ही पिछले दिनों हुए कुछ अध्ययनों में यह सामने आया कि इस लिखावट में कुछ गलतियां भी थीं जिसके चलते शोधकर्ता भ्रमित हुए।

समस्या ये भी है कि ये एक लिखित भाषा है और इस भाषा में शब्द कैसे बोले जाते थे इसके बारे में कोई जानकारी मौजूद नहीं है। ऐसे में भाषा से जुड़े कई संकेतों का पता लगाना भी मुश्किल है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक अब तक मिली जानकारियां ये कहती हैं कि इस लिखावट के ज़रिए उस दौर के लोगों ने कविताएं या साहित्य नहीं लिखा बल्कि व्यापार और रोज़मर्रा के कामकाज से जुड़ी जानकारियां बांटी हैं।

लिखावट का लेखाजोखा
--इस लिखावट को प्रोटो-एलामाइट का नाम दिया गया है।
--ये लिखावट वर्तमान ईरान के इलाके में इस्तेमाल की जाती थी।
--गीली मिट्टी की पट्टियों पर ये लिखावट दाईं से बाईं ओर लिखी जाती थी।
--कांस्य युग की जानकारियां समेटे इस लिखावट की एक हज़ार टेबलेट मौजूद हैं।
--सबसे पहले इस लिखावट की जानकारी 19सवीं सदी में फ्रांस के पुरातत्ववेत्ताओं को हुई।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

मालदीव में छुट्टियां मना रही हैं निया शर्मा, हॉट तस्वीरें हुई वायरल

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

'हिन्दी मीडियम' में प्रिंसिपल की भूमिका में नजर आएंगी अमृता सिंह

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

हल्दी का ये नुस्खा छूमंतर करेगा पैरों की सूजन, आजमा कर देखें

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

VIDEO : 'टाइगर जिंदा है' का एक्शन सीन आया सामने

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

क्या सोनाक्षी के आगे नाचने को राजी होंगे युवराज-हेजल?

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

Most Read

लंदन हमले की 10 बड़ी बातें : क्या अकेला था हमलावर ?

top 10 points of Westminster shooting incident outside uk parliament
  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

लंदन हमला: 'लोग चीख रहे थे नीचे झुको वापस जाओ'

 London attack: pepole shouted, 'get undeer cover now'
  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

अमेरिका के बाद अब ब्रिटेन ने भी 6 देशों की फ्लाइट में लैपटॉप-टैब किया बैन

 After US, UK Bans Laptop, Tablet On Flights From 6 Countries
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय पादरी पर नस्लीय हमला

Racial attacks on Indian priest in Australia
  • मंगलवार, 21 मार्च 2017
  • +

शादी हो गई खास, जब पेंग्विन बने मेहमान

amazing wedding ceremony where penguins are welcoming bride and groom
  • बुधवार, 15 मार्च 2017
  • +

स्विट्जरलैंड के कैफे में गोलीबारी में 2 की मौत, 1 गंभीर

Two persons killed, 1 badly injured after shooting at a Switzerland cafe
  • शुक्रवार, 10 मार्च 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top