आपका शहर Close

जहाँ बाल मज़दूर नहीं डॉक्टर करते हैं मज़दूरी

बीबीसी हिन्दी

Updated Sat, 27 Oct 2012 03:52 PM IST
place where doctors work as labour not children
भारत हो या उज़्बेकिस्तान या अन्य इलाक़े, कई ऐसे देश हैं जहाँ छोटे बच्चे खेतों और फैक्ट्रियों में काम करने को मजबूर हैं।
उज्बेकिस्तान की फैक्ट्रियों में भी हालात कुछ ऐसे ही थे। लेकिन इस साल वहाँ मज़दूरी करने वाले बच्चे स्कूल जा रहे हैं और खेतों में उनका काम नर्स, सर्जन और दफतरों में काम करने वाले लोग करने को मजबूर हैं- वो भी बिना पैसों के।

दरअसल एडिडास और मार्कस एंड स्पेंसर जैसी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों ने बाल मज़ूदरी के विरोध में उज्बेकिस्तान से कपास लेने से मना कर दिया। इसके बाद वहाँ बच्चों को तो मज़दूरी से हटा लिया गया है लेकिन सरकार ये काम करने के लिए डॉक्टरों को जबरन खेतों में भेज रही है।

डॉक्टर साहब तो खेत में हैं..
मलवीना (बदला हुआ नाम) राजधानी ताशकंद में एक क्लिनिक में नर्स है और वो इस फैसले से बेहद नाराज़ हैं। वे कहती हैं, “मेरी उम्र 50 साल है। मुझे दमे की बीमारी है। हमें हाथ से कपास तोड़नी पड़ती है और इसके बदले में पैसे भी नहीं मिले। मैं पिछले 15 दिनों से एक गाँव में यही काम कर रही थी। वरिष्ठ से वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी को भी काम करना पड़ा।”

मलवीना बताती हैं, “एक मरीज़ ने सर्जन को फ़ोन किया जो हमारे साथ खेत में ही था। मरीज़ का कहना था कि आपने पिछले हफ्ते मेरा ऑपरेशन किया था, अब मुझे बुखार है, मैं क्या करूँ।”

खेतों में काम करो वरना..
उज़्बेकिस्तान में कपास की खेती अर्थव्यवस्था की रीढ़ मानी जाती है। उत्पादन सरकारी नियंत्रण में होता है और खेतों से जल्द से जल्द कपास इकट्ठा करने के लिए सरकार सोवियत-स्टाइल में कपास तोड़ने का कोटा तय देती है।

इसलिए जब कंपनियों ने बाल मज़दूरों द्वारा इकट्ठा कपास खरीदने से मना कर दिया तो उज़्बेक प्रधानमंत्री ने बाल मज़दूरी पर तो प्रतिबंध लगा दिया लेकिन शिक्षकों, सफाई कर्मचारियों और डॉक्टरों को ये काम जबरन करना पड़ रहा है।

रिपोर्टों के मुताबिक जब मरीज़ आते हैं तो उन्हें वापस भेज दिया जाता है क्योंकि डॉक्टर तो खेत में होते हैं। बीबीसी को उज़्बेकिस्तान से रिपोर्टिंग की अनुमति नहीं है। मलवीना बताती हैं कि जब खेतों में काम करने की बारी आई थी तो क्लिनिक पर किसी ने पीठ दर्द तो किसी ने बल्ड प्रेशर का बहाना बनाया। लेकिन हेड डॉक्टर का साफ कहना था कि खेत नहीं जाने पर नौकरी चली जाएगी।

पैसे भी नहीं मिलते
मलवीना को सुबह चार बजे उठाया जाता है और एक घंटे तक चलने के बाद काम शुरु होता है। शाम को छह बजे काम खत्म होता है। हर किसी को 60 किलोग्राम कपास इकट्ठा करनी होती है और अगर लक्ष्य पूरा न हो तो स्थानीय लोगों से खरीदकर लक्ष्य पूरा करना पड़ता है।

मलवीना और साथी लोग अपने पैसे से किराया देकर रहते हैं और नहाने धोने के लिए अलग से पैसे लगते हैं। मलवीन जैसे कई लोग हैं। समरक़ंद इलाक़े के एक प्रोफेसर ने बताया कि वे काफी बीमार हैं और वे एक मज़ूदर को 100 डॉलर देते हैं ताकि वो उनकी जगह कपास तोड़ सके।

हालांकि वे ख़ुश हैं कि इस साल बच्चों को खेतों में काम नहीं करना पड़ा। कॉटन कैंपेन संस्था की मैनेजर वेलेंटिना कहती हैं कि बाल मज़ूदरी कई देशों में होती है लेकिन उज्बेकिस्तान में सरकार ही ये करवाती है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Comments

स्पॉटलाइट

एक ऐसा परिवार, 100 खतरनाक जानवर करते हैं इसकी रखवाली

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

बाल झड़ने की वजह से लड़कियां पास न आएं तो करें मेथी का यूं इस्तेमाल

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

भूलकर भी न करें छठ पूजा में ये 6 गलतियां, पड़ सकती है भारी

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

बदलते मौसम में डाइट में शामिल करेंगे ये खास चीज तो फौलाद बन जाएंगी हड्डियां

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

पनामा पेपर्स का खुलासा करने वालीं पत्रकार की बम धमाके में मौत

Panama Papers case Malta journalist Daphne Caruana Galizia killed in car bomb blast
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

UK का सबसे युवा करोड़पति बना भारतीय मूल का लड़का, महज 1 साल में हासिल किया मुकाम

Akshay Ruparelia Indian Origin Teenager UK Youngest Millionaire
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

ड्राइवरलेस कार में आप चुनेंगे कि दुर्घटना में कौन बचेगा

driver less car you will choose who will survive in accident
  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

बेटी की याद में भारतीय दंपति ने चलाया एलर्जी पर अनोखा अभियान

BRITISH-INDIAN COUPLE LAUNCH AWARENESS DRIVE IN MEMORY OF DAUGHTER
  • रविवार, 22 अक्टूबर 2017
  • +

'लिंकन इन द बार्डो' के लिए अमेरिकी लेखक जॉर्ज सॉन्डर्स को मिला मैन बुकर पुरस्कार

american writer George Saunders wins 2017 Man Booker prize for Lincoln in the Bardo
  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

जर्मनी: म्यूनिख में चार लोगों को चाकू मारकर फरार हुआ शख्स

Germany Munich man with knife attack four people wounded
  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!