आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

क्यों मौत के बाद ज़िंदा हो उठते हैं लोग?

Santosh Trivedi

Santosh Trivedi

Updated Sat, 27 Oct 2012 03:45 PM IST
do people become alive after death
आपने कई बार फिल्मों में देखा होगा कि कोई व्यक्ति मर जाने के बाद फिर ज़िंदा हो गया। अफसाना सा लगने वाला ये किस्सा ब्रिटेन में इस हफ़्ते हक़ीकत में सामने आया।
तस्लीम रफ़ीक नाम की महिला घर पर बेहोश हो गई और उसे अस्पताल ले जाया गया जहाँ डॉक्टरों ने 45 मिनट तक उसकी जान बचाने की कोशिश की।

तस्लीम के परिवार को बताया गया कि उनका निधन हो गया है। लेकिन रिपोर्टों की मानें तो जब 11 घंटे बाद बेटी ने माँ से कुछ पूछा तो तस्लीम उठ गईं।

इसी तरह अप्रैल में ख़बर आई थी कि मृत घोषित किए जाने के छह दिन बाद एक चीनी महिला अपने ही ताबूत से उठ खड़ी हुई थी।

1996 में भी ऐसा एक किस्सा हुआ थ। ब्रिटेन में एक किसान की पत्नी ने नए साल से पहले आत्महत्या की और उन्हें मृत बता दिया गया। लेकिन शवगृह में पाया गया कि उनकी साँसें चल रही हैं।

तो ऐसा कैसे हो जाता है कि डॉक्टर जिसे मरा हुआ घोषित कर दें वो फिर जि़दा हो जाते हैं?

ज़िंदा या मृत तस्लीमा के मामले में रेडिंग में रॉयल बर्कशायर अस्पताल का कहना है कि डॉक्टर नब्ज़ को नहीं पकड़ पाए क्योंकि वो बहुत ज़्यादा धीमे चल रही थी। हालांकि चिकित्सिक मानते हैं कि ऐसा बेहद कम होता है कि इस तरह की स्थिति में गलत आकलन हो जाए।

वैसे ब्रिटेन में मौत की कोई क़ानूनी परिभाषा नहीं है लेकिन जब चीज़ें अस्पष्ट हों तो ऐसी स्तिथि में मौत की पुष्टि के लिए कुछ दिशा निर्देश हैं।

ब्रिटेन के डॉक्टर पीटर सिम्पसन कहते हैं, “अगर दिशा निर्देश ठीक से माने जाएँ तो ग़लत आकलन संभव ही नहीं है। मौत से वापस ज़िंदा होने के मामले मैने विदेशों से ही सुने हैं जहाँ दिशा निर्देश कड़े नहीं है।

मौत हो चुकी है या नहीं ये तय करने के तीन अंश हैं। पहले पूछिए कि मौत क्यों हुई, फिर मौत का डायगनोसिस करो। मौत की पुष्टि करने से पहले पाँच मिनट तक इंतज़ार करो।”

मौत के डायगनोसिस में ये परखना ज़रूरी है- दिल की धड़कन और साँस पर नज़र रखना और ये देखना कि आँखों की पुतलियाँ बड़ी हो चुकी हैं और कुछ प्रतिक्रिया दे रही हैं या नहीं।

डॉक्टर पीटर कहते हैं, “अगर कुछ शक हो तो दोबारा जाँच करनी चाहिए। कई बार दिल काम करना बंद कर देता है और फिर चलने लगता है। इसे ऑटोरिससिटेशन कहते हैं। ये ज़्यादा से ज़्यादा 90 सैकेंड तक होता है।”

फिर चलने लगी साँस ऑटोरिससिटेशन को लज़ारस सिंड्रोम भी कहते हैं। लज़ारस सिंड्रोम इसलिए कहा जाता है क्योंकि ईशु मसीह ने लज़ारस नाम के व्यक्ति की मौत के चार दिन बाद उसे ज़िंदा कर दिया था।

2001 में इमरजेंसी मेडिकल पत्रिका में इस तरह के 25 मामले बताए गए थे। ऑटोरिससिटेशन का मतलब है कि दोबारा होश में लाने की विफल कोशिशों के बाद प्रवाह अपने आप फिर से शुरु हो जाए।

ऑटोरिससिटेशन की वजह से ही ब्रिटेन में 2009 में माइकल विल्किल्सन नाम के व्यक्ति की अंतिम क्रिया के दौरान नब्ज़ वापस लौट आई थी और उन्हें आईसीयू में भर्ती किया गया था। वे दो दिन तक ज़िंदा रहे और अंतत उन्हें मृत घोषित किया गया।

जब शरीर का तापमान बेहद कम हो जाए कुछ मामले ऐसे होते हैं जहाँ भ्रम की स्थिति होती है -जैसे अगर दवाओं के कारण मरीज़ का तापमान बहुत कम हो जाता है या किसी मेडिकल डिसऑडर्र की वजह से मरीज़ के खून के रसायनों में बदलाव आ जाता है ( मधुमेह वगैहर में)।

डॉक्टर पीटर कहते हैं, “ऐसी स्थितियों में अगर आप लक्ष्णों को नज़रअंदाज़ करते हैं तो मौत का डायगनोसिस गलत हो सकता है। जब तक मरीज सामान्य न हो जाए तब तक इंतज़ार करना चाहिए।”

बीबीसी की हॉरीज़न डॉक्यूमेंट्री से जुड़े डॉक्टर केविन फ़ॉन्ग एक वाक्या बताते हैं, “नार्वे की ऐना स्कीइंग के दौरान बर्फीली नदी में गिर गई थीं और 80 मिनट तक फँसी रहीं। इस कारण उनके शरीर के तापमान सामान्य से 20 डिग्री कम हो गया।

डॉक्टरों ने उन्हें बचाने के लिए नौ घंटे कोशिश की। एक मशीन उनके खून को शरीर के बाहर गर्म करती थी और फिर उसे नसों में प्रवाहित किया जाता था। जैसे जैसे शरीर का तापमान सामान्य हुआ, ऐना का दिल धड़कने लगा। वो मृत से ज़िंदा हो गई।

डॉक्टर की नैतिक ज़िम्मेदारी
मौत की पुष्टि के दिशा निर्देशों में ये नैतिक बात भी शामिल है कि ये बात बिना बेवजह की देरी से बता देनी चाहिए।

डॉक्टर डेनियल कहते हैं, “किसी की मौत की पुष्टि करना दूसरों पर गहरा असर डालता है। डॉक्टरों की ये नैतिक ज़िम्मेदारी है कि वो मौत का डायगनोसिस सही तरीके से करें। ज्ञान और अनुभव की कमी, समय की कमी, थकावट, सहकर्मचारियों का दबाव ...ये सब बातें किसी डॉक्टर के आकलन को प्रभावित कर सकती हैं।

डॉक्टर डेनियल के मुताबिक जटिल मामलों में अनुभवी डॉक्टरों को ही मौत की पुष्टि करनी चाहिए। किसी दूसरे डॉक्टर की राय लेने से गलती की गुंजाइश कम हो जाती है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Amarujala Hindi News APP
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news, Crime all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

आखिर क्यों करीना को साइन करना पड़ा था 'No Kissing Clause', अब ऐश्वर्या ने भी लिया ये फैसला

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

व्रत में सेंधा नमक क्यों खाते हैं? आप भी जान लें

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

PHOTOS: ऐश्वर्या राय ने पहनी अब तक की सबसे अजीब ड्रेस, शाहरुख की भी छूट गई हंसी

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

पत्नी को छोड़ इस राजकुमारी के साथ 'लिव इन' में रहते थे फिरोज खान, फिर सामने आया था ‌इतना बड़ा सच

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

नवरात्रि 2017ः इस पंडाल में मां दुर्गा ने पहनी 20 किलो सोने की साड़ी, जानें खासियत

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

Most Read

इटली: हजारों लोगों ने देखा प्लेन क्रैश का खौफनाक मंजर, पायलट की मौत

military plane of the Italian Air Force crashed, pilot killed
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

IS ने दी प्रिंस हैरी को युद्ध की चुनौती, आतंकी अबु उकायल ने जारी किया धमकी का वीडियो

IS challenges Prince Harry to fight war, Abu Yukayl issued video of threat
  • मंगलवार, 26 सितंबर 2017
  • +

जर्मनी में आम चुनाव संपन्न, चौथी बार चांसलर बनीं एंजेला मर्केल

Angela Mercail will become Chancellor for the fourth time in Germany
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

लंदन: पार्सन्स ग्रीन स्टेशन पर बम धमाके का 7वां आरोपी गिरफ्तार

seventh man arrested in bomb attack on London train
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

पुर्तगाल ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थायी सदस्यता का किया समर्थन

Portugal support India for permanent membership of United Nations Security Council
  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

स्विट्जरलैंड में बलूचिस्तान की आजादी के लगे पोस्टर, भड़का पाकिस्तान

pakistan induced on Poster for Balochistan independence in Switzerland
  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!