आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

महिलाओं के सहारे वारे-न्यारे?

Santosh Trivedi

Santosh Trivedi

Updated Sat, 13 Oct 2012 11:05 AM IST
women will don in office now
तकनीक-उद्योग भले ही अपनी उस छवि से बाहर नहीं निकला हो जिसमें ज्यादातर काम पुरुषों के हवाले है लेकिन धीमी गति से ही सही तकनीक उद्योग में भी महिलाएं अपना दबदबा साबित कर रही हैं।
जो तकनीक कंपनियां आज भी महिलाओं को नियुक्त करने से परहेज़ करती हैं उनके मालिकों को यह तथ्य जानना चाहिए कि जिन तकनीक कंपनियों में ज़्यादा से ज्यादा महिलाएं प्रबंधन पदों पर काम करती हैं उनमें निवेश और मुनाफा 34 फ़ीसदी तक ज्यादा रहता है।

बढ़ेगा महिलाओं का दबदबा
अमरीकी अर्थव्यवस्था पर नज़र डालें तो जहां दूसरे क्षेत्रों में महिलाएं हर तरह के काम करती नज़र आती हैं वहीं विज्ञान और तकनीक से जुड़े क्षेत्रों में उनकी भागीदारी 25 फीसदी से ज्यादा नहीं। ब्रिटेन में ये आंकड़ा और भी खराब है जहां तकनीक क्षेत्र में काम करने वाली महिलाओं की हिस्सेदारी 17 फीसदी से ज्यादा नहीं।

वहीं कंपनी मालिकों की मानें तो उनके उत्पाद खरीदने वाली महिला ग्राहकों की संख्या बढ़ रही है और जब तक उनकी जेब पर कोई असर नहीं उन्हें इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि काम महिलाएं कर रही हैं या पुरुष।

लेकिन सच ये है कि भारत और चीन जैसे बाज़ारों में जैसे-जैसे महिला ग्राहकों की संख्या बढ़ेगी उनकी ज़रूरतों पर आधारित तकनीक और उत्पादों की मांग बढ़ेगी। ज़ाहिर है ये मांग बेहतर ढंग से तभी पूरी की जा सकती है जब इन्हें बनाने वालों में महिलाएं शामिल हों।

'लिटिल मिस गीक'
‘जेंडर मार्केटिंग’ मामलों की जानकार डॉक्टर ग्लोरिया मॉस के मुताबिक, ''इस तरह की कंपनियों के आंकड़ें देखें तो मैंने अक्सर ये पाया है कि सुझावों और तकनीक प्रारुपों के चुनाव में पुरुषों को पुरुष और महिलाओं को महिला पदाधिकारी तरजीह देते हैं।''

यही वजह है कि महिलाओं की भागीदारी के लिए महिलाओं का प्रबंधन पदों पर नियुक्त होना ज़रूरी है। कुल मिलाकर अब स्थितियां बदलने का समय आ गया है। तकनीक कंपनियों के मालिकों को इस रुढ़िवादी सोच से उबरना होगा कि महिलाएं कुछ खास किस्म के काम नहीं कर सकतीं।

इस सोच को बदलने के लिए चलाया जा रहा 'लिटिल मिस गीक' अभियान इसी लक्ष्य को लेकर चलता है. कोशिश है तकनीक कंपनियों का अगली पीढ़ी में ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को शामिल किया जाए। जो कंपनियां ऐसा करेंगी उन्हें इसके सकारात्मक परिणाम नज़र आएंगे और जो नहीं कर पाएंगी उनके पास पीछे रह जाने की एक यह वजह भी होगी।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

कंगना के घर में आई खुशियां, जल्द आएगा नन्हा मेहमान

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

मोबाइल के टेक्स्ट मैसेज को दूसरे फोन में कैसे करें ट्रांसफर

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

ब्लू आर1 प्लस स्मार्टफोन लॉन्च, जानें क्या है स्पेसिफिकेशन

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

'नो एंट्री' के सीक्वल में सलमान खान का डबल धमाका

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

मेष राशि वालों को इस सप्ताह होगा अपनी गलतियों का अहसास, जानें अपना प्रेम राशिफल

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

Most Read

'उत्तर कोरिया के साथ जंग नहीं कूटनीति से निपटेंगे'

American President Donald Trump says, 'major, major' conflict with North Korea possible
  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

US ने किया बैलिस्टिक मिसाइल मिनटमैन III का टेस्ट

US Air Force tests 'The Minuteman III' intercontinental ballistic missile
  • गुरुवार, 27 अप्रैल 2017
  • +

अमेरिकी इतिहास में सबसे बड़ी टैक्स कटौती का ऐलान

Trump administration announces ‘one of the biggest tax cuts in American history’
  • गुरुवार, 27 अप्रैल 2017
  • +

ट्रंप की जीत की भविष्यवाणी करने वाले ने की 13 मई से तीसरे विश्वयुद्ध की घोषणा

World War III Will Begin On May 13 According To Mystic Who Predicted Trump's Win
  • शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017
  • +

ट्रंप इफेक्‍ट! पूरी दुनिया में घटी भारतीयों की नौकरियां

Changes in foreign visa rules have reduced employment for Indians
  • रविवार, 23 अप्रैल 2017
  • +

लाखों भारतीय नौकरीपेशा कर रहे हैं US के ग्रीन कार्ड का इंतजार, ट्रंप लेंगे फैसला

 h1b visa Indian holders see hope in Trump review and waiting for green card of america
  • शनिवार, 22 अप्रैल 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top