आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

केले के भरोसे भरना होगा पेट?

Vikrant Chaturvedi

Vikrant Chaturvedi

Updated Wed, 31 Oct 2012 01:33 PM IST
will banana be only food to survive
एक नई रिपोर्ट कहती है कि जलवायु परिवर्तन के कारण भविष्य में केला ही करोड़ों लोगों के लिए खाने का मुख्य आधार हो सकता है।
कृषि के क्षेत्र में शोध से जुड़ी एक संस्था सीजीआईएआर का कहना है कि आने वाले समय में कुछ विकासशील देशों में आलू की जगह फल ले सकते हैं। जैसे जैसे तापमान बढ़ेगा, वैसे वैसे कसावा और लोबिया के पौधों की अहमियत कृषि में बढ़ सकती है। इस रिपोर्ट के लेखक कहते हैं कि जलवायु परिवर्तन के कारण पारंपरिक फसलें संघर्ष कर रही हैं ऐसे में लोगों को नया और भिन्न भिन्न प्रकार का खान-पान अपनाना होगा।

जलवायु परिवर्तन की चुनौती
विश्व खाद्य सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र की कमेटी के आग्रह पर विशेषज्ञों के एक दल ने ये जानने की कोशिश कि दुनिया की 22 सबसे महत्वपूर्ण कृषि संबंधी सामग्रियों पर जलवायु परिवर्तन का कितना असर पड़ेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि कैलोरी प्रदान करने के लिहाज से दुनिया की तीन सबसे बड़ी फसलें मक्का, चावल और गेहूं हैं जिनका उत्पादन कई विकासशील देशों में घटेगा।

रिपोर्ट के अनुसार ठंडे मौसम में बढ़िया उगने वाली आलू की फसल को जलवायु परिवर्तन की वजह से नुकसान हो सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि इन बदलावों के कारण कई तरह के केलों की खेती का मार्ग प्रशस्त हो सकता है। ये बात उन इलाकों पर भी लागू हो सकती है जहां अभी आलू उगाया जाता है। इस रिपोर्ट के लेखकों में से एक डॉ। फिलिम थोर्नटन ने बीबीसी को बताया कि केले की अपनी कुछ सीमाएं हैं लेकिन निश्चित जगहों पर वो आलू का अच्छा विकल्प हो सकता है।

नया खान-पान कितना आसान

रिपोर्ट कहती है कि गेहूं दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण फसल है जिसमें प्रोटीन और कैलोरी होती हैं। लेकिन शोध बताता है कि विकासशील दुनिया में गेहूं के सामने संकट मंडरा रहा है क्योंकि कपास, मक्का और सोयाबीन की फसलों के मिलने वाले अच्छे दामों की वजह गेहूं की खेती सिमट रही है। इस तरह जलवायु परिवर्तन के कारण इस पर और ज्यादा खतरा मंडरा रहा है।

खास कर दक्षिण एशिया में एक विकल्प कसावा हो सकता है जो जलवायु के विभिन्न दबावों को झेल सकता है। लेकिन नई फसलों और खान-पान को अपनाना लोगों के लिए कितना आसान होगा। कृषि और खाद्य सुरक्षा शोध समूह (सीसीएएफएस) में जलवायु परिवर्तन निदेशक ब्रूस कैंपबेल कहते हैं कि जिस तरह के बदलाव भविष्य में होंगे, अतीत में ऐसे बदलाव पहले हो चुके हैं।

वो बताते हैं, “दो दशक पहले तक अफ्रीका के कुछ हिस्सों में चावल की बिल्कुल खपत नहीं होती थी, लेकिन अब होती है। लोगों ने दामों की वजह से अपने खाने को बदला, इसे पाना आसान है, इसे पकाना आसान है। मुझे लगता है कि इस तरह के बदलाव होते हैं और आगे भी होंगे।” कैंपबेल कहते हैं कि बदलाव वाकई संभव है, इसमें कोई बड़ी बात नहीं है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

जायरा के बारे में वो बातें, जो आप नहीं जानते

  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

फरवरी में 823 साल बाद बनेगा बेहद शुभ संयोग, क्या आपको म‌िलने वाला है बड़ा लाभ?

  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

'जानलेवा जीभ' से खतरे में आई जान, यूं बचा नवजात

  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

'दंगल गर्ल' की जायरा हिम्मत बढ़ाने आगे आए कश्मीर के युवा

  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

BIGG BOSS: स्वामी ओम पर बरसे सलमान, कहा ' उसे हिंदुस्तान झेल रहा है, बावला हो गया है वो

  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

Most Read

परिवार का खर्चा समेत टॉयलेट पेपर तक की कीमत खुद चुकाई: ओबामा

Obama said pays the bills for everything, I broke the notion of living on taxpayers money
  • सोमवार, 16 जनवरी 2017
  • +

भारत के साथ परमाणु करार पूरा होने की उम्मीद: अमेरिका

Nuclear deal with India by the end of 2017. Expected completion: US
  • मंगलवार, 17 जनवरी 2017
  • +

24 घंटे मालिक के शरीर पर लेटा रहा कुत्ता, बचाई जान

The dog was lying on owners body till 24 hours, saved lives
  • सोमवार, 16 जनवरी 2017
  • +

अमेरिकी कंपनी ने वापस मंगाए स्वास्तिक छाप वाले जूते

US company bring back Swastik print shoes from market
  • रविवार, 15 जनवरी 2017
  • +

'पाकिस्तान को ट्रंप के पागलपन वाली कूटनीति की जरूरत'

Pakistan needsTrump's crazy  diplomacy says expert
  • बुधवार, 11 जनवरी 2017
  • +

राष्ट्रपति अवार्ड के लिए ओबामा ने 4 भारतीय मूल के युवाओं को चुना

Barack Obama chose four Indian-American scientists for the highest honour
  • बुधवार, 11 जनवरी 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top