आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

'नेहरू, गांधी ने किया सबसे अधिक प्रभावित'

न्यूयॉर्क/एजेंसी

Updated Sun, 23 Sep 2012 06:22 PM IST
nehru gandhi among biggest sources of influence
म्यांमार की लोकतंत्र समर्थक नेता आंग सान सू की ने अमेरिकी छात्रों को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की रचनाओं को पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया है। साथ ही कहा कि गांधीजी और जवाहर लाल नेहरू ने उन्हें सबसे अधिक प्रभावित किया है।
सू की ने कहा कि गांधीजी, मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन लूथर किंग और उनके पिता एवं राजनीतिक गुरु आंग सान सभी सिद्धांतवादी व्यक्ति थे। तानाशाह सैन्य शासक ने जब उन्हें घर में नजरबंद कर दिया तो खुद को अनुशासित रखने के लिए वे इनकी रचनाएं पढ़ा करती थीं।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी में छात्रों को संबोधित करते हुए नोबेल पुरस्कार विजेता सू की (67) ने कहा कि गांधी जी की रचनाओं ने उन्हें बहुत अधिक प्रेरित किया है। उन्होंने छात्रों से भी उन रचनाओं को पढ़ने का आग्रह किया। वर्षों तक नजरबंद रहने के दौरान उनकी प्रेरणा स्रोत कौन थे, इस बारे में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि वास्तव में गांधीजी का व्यक्तित्व अद्भुत है।

मेरा मानना है कि आप उनके बारे में जितना अधिक पढ़ते जाएंगे, उतना ज्यादा प्रभावित होंगे। वे कौन और क्या थे, इन सवालों के जवाब भी आसानी से मिलते जाएंगे। लोकतंत्र समर्थक नेता ने कहा कि आपको याद होना चाहिए, अहिंसा के मार्ग पर चलकर बदलाव की बात गांधी जी से पहले किसी ने सोचा भी नहीं था। वे पहले व्यक्ति थे, जो इस मार्ग पर चले और दृढ़ निश्चय किया कि हिंसा के बगैर क्रांतिकारी बदलाव संभव है। भारत में पढ़ी सू की ने बताया कि नेहरू जी और उनके पिता के बीच काफी अच्छे संबंध थे।

‘सैनिकों के लिए नफरत की भावना नहीं’
सू की ने भले ही अपने जीवन के करीब 15 साल घर में नजरबंद रहकर बिताए हों पर म्यांमार के सैनिकों के लिए उनके मन में नफरत की भावना नहीं है। उन्होंने बताया कि मेरी परवरिश जिस माहौल में हुई, मुझे लगता था कि मैं सैन्य परिवार का एक हिस्सा हूं। मुझे अपने पिता के बारे में ज्यादा कुछ याद नहीं, तसवीरों में उन्हें सेना की वर्दी में देखा है। स्थिति काफी विषम लगती है कि पिता ने सेना की स्थापना की और बाद में सेना ने ही मुझे नजरबंद कर दिया। इसके बावजूद अपने पिता के कारण मैंने जनरल से कभी नफरत नहीं की, हां उनके कार्यों से जरूर की।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

परिवार है बड़ा तो ये कारें है बेहतरीन विकल्प

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

NIFT-2017: एंट्रेंस टेस्ट का रिजल्ट जारी, ऐसे करें चेक

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

अपने स्मार्टफोन में ऐसे करें एंड्रॉयड नूगट 7.0 अपडेट 

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

सरकारी नौकरी में इंजीनियर्स के लिए बम्पर भर्तियां, यहां करें आवेदन

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

कार्पेट पर लगे दागों को इन आसान तरीकों से करें साफ

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

Most Read

अमेरिका: हिट एंड रन में एक और भारतीय इंजीनियर की मौत

America: Indian engineer killed, wife critically injured in hit-and-run accident
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

निक्की हेली ने कहा- लॉ स्टूडेंट थीं मां, महिला होने के चलते भारत में नहीं बन सकीं जज

US diplomat Nikki Haley says why her mother couldn’t be a judge in India
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

ट्रंप ने PM मोदी को फोन कर दी चुनाव में जीत पर बधाई

donald trump calls pm modi congratulates him on his success in assembly elections
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

10 साल की लड़की के कपड़ों से एयरलाइंस को ऐतराज, प्लेन पर चढ़ने से रोका

 Two Girls Barred From United Flight For Wearing Leggings
  • सोमवार, 27 मार्च 2017
  • +

सिख लड़की पर चिल्लाया अमेरिकी, कहा- लेबनान लौट जाओ

man shouts go back to Lebanon to Sikh- American girl in NEW YORK
  • शनिवार, 25 मार्च 2017
  • +

साल के अंत में वॉशिंगटन में मिलेंगे PM मोदी और ट्रंप

Trump waits for Modi to meet in Washington
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top