आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

सैंडी तूफान में फंसा भारतीय बच्चों का दल

बीबीसी हिन्दी

Updated Tue, 30 Oct 2012 12:59 PM IST
indian children contigent stucked in sandy storm
दिल्ली और शिमला से गई बच्चों की एक टीम भी अमेरिका के चक्रवाती तूफान सैंडी की वजह से वहां फंस गई है। 31 बच्चों का यह दल दस दिन के शैक्षिक टूर पर नासा गया था लेकिन फिलहाल न्यूजर्सी में फंसा है।
न्यूजर्सी, न्यूयॉर्क, मैरीलैंड, पैंसिल्वानिया और कनेक्टिकट सहित अमरीका के 12 राज्य तूफ़ान की चपेट में आ गए हैं। तूफान के कारण मूसलाधार बारिश हो रही है, कई जगह बाढ़ जैसी स्थिति है, बिलली गुल है और जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

बच्चों की इस टीम के संचालक रोहित शेखर शर्मा ने फोन पर बीबीसी को बताया कि सभी बच्चे और दल के बाकी लोग सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा, ''इसमें कोई शक नहीं कि बच्चे घबराए और डरे हुए हैं। लेकिन हमने पूरा इंतजाम कर रखा है।''

इंतजाम
उन्होंने कहा, ''क्योंकि यहां पर पहले से ही चेतावनी दी गई थी इसलिए हमने पहले से ही पानी और खाने का सामान खरीद लिया है। इसके अलावा हमने मोमबत्तियां भी जमा कर रखी हैं।''

उन्होंने बताया कि यह बच्चे दिल्ली के अहल्कॉन पब्लिक स्कूल और शिमला के ऑकलैंड पब्लिक स्कूल के हैं और इनमें पांचवीं से लेकर दसवीं कक्षा तक के छात्र हैं। टूर का यह अंतिम चरण था और बुधवार को दल वापिस आने वाला था।

रोहित ने कहा, ''हमने सोमवार को काफी शॉपिंग की क्योंकि हम वापसी की तैयारी कर रहे थे। लेकिन फिलहाल सभी उड़ानें स्थगित कर दी गई हैं और अभी कुछ कह पाना मुश्किल है कि कब वापस जा पाएंगे।''

मस्ती और गाना
उन्होंने कहा, ''बच्चे अपने मां बाप को 'मिस' कर रहे हैं लेकिन हम लोग मज़ाक मस्ती कर के, नाच-गाने से खुद को खुश और व्यस्त रखने की कोशिश कर रहे हैं और अपना समय बिता रहे हैं।'' रोहित ने बताया कि वे लोग न्यूजर्सी के एक होटल में रुके हैं।

उन्होंने कहा, ''खिड़की से बाहर देखूं तो बाहर तेज हवाएं चल रही हैं। वैसे तो यह शहर रात दिन चलता रहता है लेकिन अब पूरी तरह से खाली है। दरअसल प्रशासन ने लोगों के बाहर निकलने या बाहर खड़े होने को लेकर लोगों को अगाह किया है। यहां आपातकाल घोषित किया गया है।''

रोहित ने बताया, ''यहां न तो लिफ्ट काम कर रही है न ही हम कुछ खाने पीने के लिए ऑर्डर कर सकते हैं। यहां के लोगों को बिजली के बिना रहने के आदत नहीं है इसलिए यहां जेनरेटर या इनवर्टर जैसी चीजें उपलब्ध नहीं हैं।''
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

अब ज्वेलरी खरीदने पर लगेगा टैक्स, देख लें कितना?

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

भारत के कई शहरों में बढ़ रहा सेक्स का ये नया तरीका

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

इस गर्मी में बड़े सस्ते दामों पर AC बेचेगी सरकार

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

'मुझे टेप लगाना पसंद नहीं , बिना कपड़ों के इंटीमेट सीन करना अच्छा लगता है'

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

क्या आप भी लगाते हैं डियोड्रेंट ? तो जरूर पढ़ें ये खबर

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

जबर ख़बर

30 शौचालयों के गड्ढों की सफाई में जुटे केंद्रीय सचिव '

Read More

Most Read

पाकिस्तान ने फिर UN में उठाया कश्मीर मुद्दा

Pak raises Kashmir issue at United Nations
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

टूटने वाला है अमेरिका का सबसे ऊंचा बांध, लाखों लोगों को हटाया गया

US tallest dam in danger of imminent collapse, Immediate evacuation ordered
  • सोमवार, 13 फरवरी 2017
  • +

अब वायरलेस तकनीक से चार्ज कीजिए मोबाइल

charge mobile with wireless charging technology
  • शनिवार, 18 फरवरी 2017
  • +

दलाई लामा को अमेरिकी यूनिवर्सिटी में बुलाने पर हंगामा

america university's invite to Dalai Lama sparks uproar
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

'आतंकवाद पर भारत की चिंता को दूर करने के लिए पाक पर दबाव बनाए चीन'

‘China should ask Pakistan to address India’s concern on terrorism’
  • बुधवार, 15 फरवरी 2017
  • +

अमेरिका के सबसे बड़े बांध के टूटने का खतरा, 2 लाख लोगों को हटाया गया

AMERICA's Biggest Dam Is At Risk of Bursting
  • मंगलवार, 14 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top