आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

उम्मीदों से बड़ी बराक ओबामा की जीत

बीबीसी

Updated Thu, 08 Nov 2012 12:54 AM IST
barack obama wins big than expectations
अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा मिट रोमनी को पछाड़ कर अपने दूसरे कार्यकाल के लिए चुन लिए गए हैं। चार साल पहले देश के पहले अश्वेत राष्ट्रपति ओबामा ने जीत के लिए 270 इलेक्टोरल वोट जीतकर इतिहास रच दिया है। विजय हासिल करने के बाद जोश से भरे भाषण में बराक ओबामा ने कहा कि वो मिट रोमनी से बात करेंगे।
ओबामा ने कहा, 'हम बात करके देखेंगे कि हम कैसे एक साथ काम करके देश को आगे बढ़ा सकते हैं।' बराक ओबामा को ये जीत अमेरिका के माली हालात पर अंसतोष और मिट रोमनी की कड़ी चुनौती के बावजूद मिली है. साथ ही उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी ने सीनेट में अपना बहुमत बरकरार रखा है जो पार्टी के पास साल 2007 से है, लेकिन रिपब्लिकन पार्टी ने भी प्रतिनिधि सभा पर अपना नियंत्रण बनाए रखा है।

जानकारों का मानना है कि इसकी वजह से पहले कार्यकाल की ही तरह इस बार भी ओबामा और प्रतिनिधि सभा के बीच कई कानूनों को पारित करने को लेकर गतिरोध बन सकता है। अपने भाषण में ओबामा ने विरोधियों से उनके साथ मिलकर काम करने का आग्रह किया।

‘एक देश’
अब तक आए नतीजों में बराक ओबामा को 303 इलेक्टोरल वोट हासिल हुए हैं जबकि मिट रोमनी को 206 वोट मिले हैं. अब सिर्फ फ्लोरिडा राज्य के 29 मतों का नतीजा आना बाकी है। अमेरिका में हर राज्य में राष्ट्रपति के उम्मीदवार को मत डाले जाते हैं और उसके बाद जिसे बहुमत मिलता है उसके खाते में उस राज्य के सभी इलेक्टोरल वोट डाल दिए जाते हैं।

उधर कुल वोटों में दोनों उम्मीदवारों के बीच खास अंतर नहीं है। कुल मतों की सिर्फ सांकेतिक और राजनीतिक अहमियत है क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में विजेता का फ़ैसला इलेक्टोरल कॉलेज के मतों से ही होता है। जीत के बाद ओबामा का भाषण जोश से भरा और उनके चिर-परिचित अंदाज में था।

अपने समर्थकों के नारों के बीच ओबामा ने कहा, “हम अपने दिल की गहराईयों में जानते हैं कि अमेरिका के लिए बेहतरीन वक्त आना अभी बाकी है। मैं पहले से कहीं अधिक प्रेरित और दृढ़संकल्प होकर भविष्य को संवारने के लिए व्हाइट हाउस में लौट रहा हूं।”

और फिर उन्होंने अपने समर्थकों के शोर-शराबे के बीच ये जुमला कहा जिस पर लंबे समय तक तालियां गूंजती रहीं, “हम अमेरिकी परिवार हैं। हमारा पतन और उदय एक ही राष्ट्र की तरह होगा।”

‘सियासत से पहले लोकहित’
उधर बॉस्टन में मिट रोमनी ने राष्ट्रपति को जीत पर बधाई दी और कहा कि उन्होंने चुनाव अभियान अपनी पूरी ताकत झोंक दी। मुसीबतों से जूझती अमेरिकी अर्थव्यवस्था की ओर इशारा करते हुए रोमनी ने कहा कि अब विभाजक सियासी चालों को छोड़कर दो पार्टियों की कोशिश होनी चाहिए कि वो लोकहित से सर्वोपरि मानें।

मिट रोमनी ने कहा, “मुझे उम्मीद है कि मैं इस देश को अलग ढंग से चलाने की आपकी उम्मीदें पर खरा उतरा होऊंगा, लेकिन अमेरिका ने दूसरे नेता को चुना है। इसलिए मैं आपके साथ मिलकर ओबामा और इस देश के लिए प्रार्थना करता हूं।”

अरबों का खर्च
ऐसा नहीं की रोमनी बुरी तरह हारे हों। उन्होंने पिछले चुनावों में ओबामा के साथ रहे नॉर्थ कैरोलिना और इंडियाना राज्यों में जीत हासिल की, लेकिन वो ओहायो जैसे कुछ महत्वपूर्ण राज्यों में नहीं जीते पाए, और इसी वजह से वो जीत के लिए जरुरी 270 इलेक्टोरल कॉलेज के वोटों को हासिल नहीं कर पाए।

मंगलवार को राष्ट्रपति चुनाव के अलावा 11 राज्यों में गवर्नर, सौ सदस्यों वाली सीनेट की एक-तिहाई सीटों और प्रतिनिधि सभा की सभी 435 सीटों के लिए भी मतदान हुआ था। ओबामा की जीत बढ़ती बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था की ढीली रफ़्तार के बीच हुई है, लेकिन मतदाताओं ने उन्हें साल 2009 में कार व्यवसाय को डूबने से बचाने और पिछले साल पाकिस्तान में बिन लादेन को मारने का श्रेय दिया।

इस चुनाव पर दोनों दलों और उनके सहयोगियों ने 800 करोड़ रुपए से भी अधिक का खर्च किया। इनमें अधिकतर ख़र्चा स्विंग स्टेट कहे जाने वाले राज्यों में विज्ञापनों पर किया गया।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

महिलाएं प्यार में देती हैं मर्दों को इस वजह से धोखा, रिसर्च में हुआ खुलासा

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

...तो इन वजहों से महिलाओं का जल्दी बढ़ता है वजन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

जब बोनी कपूर की सास ने प्रेग्नेंट श्रीदेवी के साथ की थी ये हरकत, पैरों तले खिसक गई थी जमीन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

भूलकर भी बेडरूम में न रखें ये चीज, नहीं तो बर्बाद हो जाएगी आपकी शादीशुदा जिंदगी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

‘चाय की चुस्की’ नहीं होगी बेस्वाद, ऐसे भागेगी एसिडिटी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

Most Read

अमेरिका बोला- आतंकियों को पनाह देता है पाकिस्तान

America said Pakistan is a safe place for terrorists
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

चीन बॉर्डर विवाद के बीच भारत को मिला US का साथ, संसद में पास हुआ सहयोगी बिल

US House passes NDAA defence bill to co operation with India
  • शनिवार, 15 जुलाई 2017
  • +

आतंकवाद पर अमेरिका भारत ‌के साथ, आतंक फैलाने को नहीं मिलेगी पाक को मदद

US Congress adopts amendments to NDA Act,now difficulties for pak to get fund from us
  • शनिवार, 15 जुलाई 2017
  • +

शीर्ष अमेरिकी सीनेटर जॉन मैकेन ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित

US Senator John McCain diagnosed with brain cancer says US Media
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

फ्रांस की फर्स्ट लेडी के फिगर पर ट्रंप का कमेंट, कहा- 'यू आर इन गुड शेप'

you're in such great shape, Trump criticised for 'creepy' comment to Brigitte Macro
  • शुक्रवार, 14 जुलाई 2017
  • +

यूएस वीजा: अमेरिका ने 6 मुस्लिम राष्ट्रों के लिए वीजा आवेदन का दायरा बढ़ाया

US government Has Set New Criteria For Visa Applicants From Six Muslim Nations
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!