आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

रॉयल्टी की जंग में ऐपल की हार

बीबीसी

Updated Wed, 07 Nov 2012 12:03 AM IST
apple defeat at battle of royalty
अमेरिका की एक अदालत ने कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कंपनी ऐपल की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें उसने गूगल की मोटोरोला इकाई पर अपने उत्पादों के पेटेंट के एवज में ज्यादा रॉयल्टी मांगने का आरोप लगाया था। ऐपल की ओर से इस्तेमाल किए गए मोटोरोला के उत्पादों पर मोटोरोला कंपनी ने उनसे 2.25 प्रतिशत ज्यादा कीमत की मांग की है जो ऐपल के मुताबिक काफी ज्यादा है।
पिछले सप्ताह मोटोरोला ने अदालत से मांग की थी वो उसके उत्पाद की कीमत तय करे, लेकिन ऐपल ने कहा कि इन उत्पादों के लिए एक डॉलर से ज्य़ादा कीमत अदा नहीं करेगा। जिन कंपनियों के पास उद्योगों में इस्तेमाल किए जाने वाले उत्पादों का पेटेंट हासिल है, उनसे उम्मीद की जाती है कि वो उन्हें सही कीमत में अन्य कंपनियों को उपलब्ध कराए।

मोटोरोला ने कहा है कि वो अब भी ऐपल के साथ समझौता करने को तैयार है। इन कंपनियों ने एक वक्तव्य जारी कर कहा है, 'मोटोरोला लंबे समय से हमें सही कीमत पर पेटेंट उत्पाद देता रहा है। उन्होंने हमसे जो भी कीमत लिया है वो उद्योगों के लिए तय नियमों के अनुकूल है।'

उत्पादों में फर्क
गूगल ने इसी साल मोटोरोला के उत्पाद 'मोबिलिटी' को साढ़े बारह अरब डॉलर में खरीदा था। ये कदम गूगल का अब तक का सबसे बड़ा व्यवसायिक समझौता था और इससे गूगल को मोटोरोला के 17 हजार से ज्यादा उत्पादों का पेटेंट मिल गया था। हालांकि औद्योगिक समूहों के लिए ये जरूरी होता है कि वो उद्योगों में इस्तेमाल होने वाले जरूरी पेटेंट उत्पादों को सही और वाजिब कीमत में उपलब्ध कराएं, लेकिन विशेषज्ञों के लिए ये तय करना मुश्किल है कि वो 'सही' कीमत क्या होगी।

फ्रोस्ट एंड सुलीवन के एंड्यु मिलरॉय ने बीबीसी से बातचीत करते हुए कहा, 'ये तय करना वाकई मुश्किल है कि पेटेंट उत्पादों के लिए सही कीमत क्या होनी चाहिए।' ये कीमत तय करने के लिए कुछ बेहद ही जटिल नियम तय किए गए हैं, लेकिन उनके इस्तेमाल के दौरान भी हमें कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है जो हर उत्पाद के साथ बदल जाता है, और ये कोई विज्ञान नहीं है।

हालांकि कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि इस मुकदमे का खारिज होना ऐपल के लिए एक बड़ा झटका है और इससे भविष्य में मोटोरोला कंपनी को फायदा हो सकता है। जैसा कि इंडियाना यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ लॉ के प्रोफेसर ली-शेवर ने कहा, 'इस फैसले ने ऐपल कंपनी को वापिस उसी जगह पहुंचा दिया है जहां से उसने शुरुआत की थी।'
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

पहली फ्लॉप के बाद गायब हुआ रानी मुखर्जी का 'हीरो', रोजी रोटी कमाने के लिए कर रहा ये काम

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

बार-बार लगती है भूख? हो सकती है ये बीमारी

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

सबसे बड़ी हिट फिल्म देने वाली 16 साल की इस हिरोइन के साथ हुई छेड़छाड़, आरोपी अरेस्ट

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

आपके महंगे रत्नों की चमक को फीका कर देंगी ये जड़ें, इस्तेमाल करके देखें फायदा

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

38 साल की इस एक्ट्रेस ने किया खुलासा, डेढ़ साल पहले गुपचुप रचाई थी शादी

  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +

Most Read

मृत भारतीय इंजीनियर के सम्मान में US ने किया बड़ा ऐलान

Kansas March 16 'Indian-American Appreciation Day' to honour Indian engineer Srinivas Kuchibhotla
  • शनिवार, 18 मार्च 2017
  • +

ट्रंप का पाकिस्तान को झटका, 'मदद' में होगी कटौती

donald Trump' s budget to cut foreign aid, may impact Pakistan
  • शुक्रवार, 17 मार्च 2017
  • +

नस्लीय हमलों के खिलाफ भारतीय एकजुट, बोले- दखल दें राष्ट्रपति ट्रंप

Hate Crime: Indians community protest out side White House
  • सोमवार, 20 मार्च 2017
  • +

इंसान को मंगल पर भेजेंगे ट्रंप, बिल पर किए सिग्नेचर

Trump Signs Bill Directing NASA to Send Humans to Mars
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

ट्रंप ने जब जर्मन चांसलर से नजरें तक नहीं मिलाई

Awkward photo-op: Trump snubs Angela Merkel's request for handshake
  • शनिवार, 18 मार्च 2017
  • +

अमेरिका के 'हेल्थ केयर बिल' पर टिकीं सबकी नजरें, आज हो सकता है पास

Trump fights for healthcare bill, makes headway with conservatives
  • गुरुवार, 23 मार्च 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top