आपका शहर Close

जीवनशैली में ये 9 साथ, तो हो सकते हैं पागल

बीबीसी हिन्दी

Updated Thu, 20 Jul 2017 05:38 PM IST
9 Lifestyle Factors That Can Affect Your Mental Health

file

लैंसेट में एक अंतरराष्ट्रीय अध्ययन के मुताबिक़ पागलपन के हर तीन से एक मामले को रोका जा सकता है अगर लोग जीवन में मस्तिष्क के स्वास्थ्य का ख़्याल रखें। अध्ययन के मुताबिक पढ़ने-लिखने की आदत में कमी, सुनने में परेशानी, धूम्रपान और शारीरिक तौर पर कम सक्रिय होने से पागलपन का ख़तरा बढ़ सकता है।
लंदन में अलज़ाइमर की एसोसिएशन इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में यह अध्ययन पेश किया गया है। अध्ययन के मुताबिक़, एक अनुमान है कि दुनियाभर में 2050 तक क़रीब 13.1 करोड़ लोग पागलपन का शिकार हो सकते हैं।

अनुमान के मुताबिक़, वर्तमान में 4.7 करोड़ लोग इससे पीड़ित हैं। अध्ययन के मुख्य लेखक और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफ़ेसर गिल लिविंग्सटन ने कहा, "पागलपन का इलाज बाद में किया जा सकता है, लेकिन मानसिक बदलाव बहुत साल पहले ही शुरू हो जाते हैं।"


उन्होंने कहा, "अगर अभी इसके लिए एक्शन लिया जाएगा तो आगे चलकर पागलपन के शिकार लोगों और उनके परिवारों की ज़िंदगी में बड़ा बदलाव देखा जा सकता है. इससे समाज को भी सुधारा जा सकेगा।"

24 अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों की ओर से किए गए इस अध्ययन के मुताबिक़, किसी भी व्यक्ति में पागलपन का ख़तरा बढ़ने और घटने की सबसे बड़ी वजह उनका रहन-सहन होता है।


ये हैं बड़े फ़ैक्टर

    आधी उम्र में सुनने की समस्या - 9%
    शिक्षा पूरी न कर पाना - 8%
    धूम्रपान- 5%
    डिप्रेशन - 4%
    शारीरिक सक्रियता में कमी - 3%
    समाज से दूरी यानी एकाकीपन- 2%
    हाई ब्लड प्रेशर - 2%
    मोटापा- 1%
    टाइप 2 डायबिटीज - 1%


ये रिस्क फ़ैक्टर क़रीब 35 फीसदी तक होते हैं जिन पर काबू किया जा सकता है लेकिन 65 फीसदी अन्य फ़ैक्टर हैं जिनमें व्यक्तिगत तौर पर कोई नियंत्रण नहीं होता। इससे बचने के उपायों का जिक्र करते हुए स्टडी में कहा गया कि धूम्रपान न करना, व्यायाम करना, वजन सही रखना, हाई ब्लडप्रेशर और डायबिटीज का इलाज़ न सिर्फ पागलपन, बल्कि कैंसर के ख़तरे से भी बचाता है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

Comments

स्पॉटलाइट

इंटरव्यू के जरिए 10वीं पास के लिए CSIO में नौकरी, 40 हजार सैलरी

  • शुक्रवार, 20 अक्टूबर 2017
  • +

'दीपिका पादुकोण के ट्वीट के बाद एक्शन में आई पुलिस, 5 आरोपियों को किया गिरफ्तार

  • शुक्रवार, 20 अक्टूबर 2017
  • +

पोती आराध्या संग दिवाली पर कुछ ऐसे दिखाई दिए बिग बी, देखें PHOTOS

  • शुक्रवार, 20 अक्टूबर 2017
  • +

दिवाली पर पटाखे छोड़ने के बाद हाथों को धोना न भूलें, हो सकते हैं गंभीर रोग

  • शुक्रवार, 20 अक्टूबर 2017
  • +

...जब बर्थडे पर फटेहाल दिखे थे बॉबी देओल तो सनी ने जबरन कटवाया था केक

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

हिंसा का रास्ता छोड़ इराकी एकता के लिए काम करें सभी पक्ष : संयुक्त राष्ट्र

United nations concern over reported violence in Iraq Kirkuk
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

केमिस्ट्री के नोबल पुरस्कार की घोषणा, तीन वैज्ञानिकों की खोज ने सबको चौंकाया

Nobel Prize 2017 in chemistry for developing of biomolecules research
  • बुधवार, 4 अक्टूबर 2017
  • +

भारत में सू की का घर था इस राजनीतिक दल का मुख्यालय, लेडी श्रीराम कॉलेज में की पढ़ाई

facts about myanmar State Counsellor aung san suu kyi
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों को अधिक मदद की जरूरत: UN

Rohingya refugees need more help in Bangladesh says UN
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

संयुक्त राष्ट्र शांति सुधार पर अमेरिकी कदम का स्वागत : भारत 

india Welcom America move on UN peacekeeping reform
  • सोमवार, 18 सितंबर 2017
  • +

'पूरी दुनिया भुगतेगी डोकलाम के गंभीर परिणाम'

china-india playing dangerous game on Doklam says Bruce Riedel
  • बुधवार, 9 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!