आपका शहर Close

प्रेमचंद ने 1905 में जो किया वो आज के युवा नहीं कर पाते!

हिंदी साहित्य में यूं तो तमाम नाम हैं, लेकिन मुंशी प्रेमचंद उन नामों में ऐसा नाम है, जो हर वंचित की रहनुमाई करता है। हिंदी पढ़ने वाले किसी भी शख्स से पूछिए कि आपने किससे पढ़ा है, उसका पहला जवाब प्रेमचंद ही होगा। प्रेमचंद ने अपने जीवन में ना सिर्फ कुरीतियों पर लिखा बल्कि उसे बदलने के लिए भी खुद आगे आए।  

LiveConversation

Also View

अपनी इस आदत की वजह से रोजे पूरे नहीं कर पाती थीं बेगम अख्तर

अपनी इस आदत की वजह से रोजे पूरे नहीं कर पाती थीं बेगम अख्तर
बेगम अख्तर को गजल की मलिका कहा जाता था और आज अगर वो होतीं तो एक सौ तीन साल की होतीं।
X
LiveConversation
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!