आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

71 पुरखों को मुक्ति चाहिए

Nainital

Updated Thu, 01 Nov 2012 12:00 PM IST
हल्द्वानी। करीब 2500 वर्ष पहले राजा सागर के 60 हजार पुरखे जो कपिल मुनि के श्राप से भस्म हो गये थे उनकी मुक्ति का मार्ग उत्तराखंड से ही प्रशस्त हुआ था। राजा सागर के पौत्र भागीरथ की जटिल तपस्या से हिमालय रूपी शिव की जटाओं से होती हुई गंगा हरिद्वार के मैदान पर उतरी और भागीरथ के पुरखों को मुक्ति दी। लेकिन आज 2500 साल बाद भागीरथ की तपस्या से हमारे पास गंगा की अविरल धारा भी है तब देवभूमि के 71 लोग दशकों से मुक्ति का मार्ग तलाश रहे हैं। ये वे लोग हैं जिनके अस्थि कलश हल्द्वानी के श्मशान घाट और बरसाती नहर स्थित क्रियाशाला में उनके अपनों ने ही छोड़ दिए हैं। कई अस्थि कलश तो मुक्ति की तलाश में फट चुके हैं लेकिन साल में दो-दो बार शराद करने वालों को पुरखों की याद नहीं आई।
गरुड़ पुराण के दसवें अध्याय के 79वें श्लोक में भी कहा गया है कि दस दिन के भीतर यदि अस्थियां गंगा में प्रवाहित नहीं की तो मरने वाले की ब्रह्मलोक से पुनरावृत्ति नही होती। यह भी मान्यता है कि जितने समय तक अस्थि गंगाजल में रहती हैं उतने समय तक मनुष्य को स्वर्गलोक मिलता है। यही कारण है कि आज भी पाकिस्तान, अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देशों में रहने वाले प्रवासी भारतीय और विदेशी भी हर साल बड़ी संख्या में पुरखों की मुक्ति के लिए गंगा की शरण में आते हैं। लेकिन मुक्ति का मार्ग अपने ही देश में भटकने लगता है।
मुक्तिधाम समिति के महामंत्री राजकुमार केसरवानी बताते हैं कि हल्द्वानी की क्रियाशाला में 15 अस्थि कलश सालों से रखे हुए हैं। जो मुक्ति की राह तक रहे हैं। शमशान घाट में भी 56 अस्थि कलश हैं जिन्हें आज भी विसर्जन के लिए अपनों का इंतजार है। श्री केसरवानी ने बताते हैं कि अब लोग चिता जलाने के बाद विसर्जन के लिए अस्थि कलश छोड़ जाने की बात कहकर जाते हैं लेकिन लौटते नहीं। जबकि अस्थि विसर्जन में एक घंटे का भी समय नहीं लगता। उन्होंने बताया कि वर्ष 1999 समिति ने तीन दर्जन से अधिक अस्थि कलशों का विसर्जन किया था। इस बार भी मुक्तिधाम समिति ने कार्तिक पूर्णिमा के बाद अस्थि कलशों के विसर्जन का निर्णय लिया है ताकि पुरखों को मुक्ति मिले। इस संबंध में डा. भुवन चंद्र त्रिपाठी और पंडित गोपाल दत्त भट्ट का कहना है कि जब तक अस्थि कलश का विसर्जन नहीं किया जाता तब तक पुरखों को मुक्ति नहीं मिलती। अस्थियां दस दिन के भीतर और अधिक से अधिक तीन महीने में विसर्जित कर दी जानी चाहिए।
  • कैसा लगा
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

प्याज के छिलके भी हैं काम के, यकीन नहीं हो रहा तो खुद ट्राई करें

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

सामने खड़ी थी पुलिस, वो लाश से मांस नोंचकर खाता रहा...

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

इंटरव्यू में जाने से पहले ऐसे करें अपना मेकअप, नौकरी होगी पक्की

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

देखते ही देखते 30 मीटर पीछे खिसक गया 2000 टन का मंदिर

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

बॉलीवुड की 'सिमरन' की बहन को देखा क्या आपने, कुछ ऐसा है उनका बोल्ड STYLE

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

Most Read

नवरात्र में टूट सकती है सपा, मुलायम-शिवपाल बनाएंगे नई पार्टी, ये हो सकता है नाम

samajwadi party will be divided mulayam and shivpal announce new party
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

यूपी कैबिनेट का बड़ा फैसला, सातवें वेतन आयोग के एरियर भुगतान को मिली मंजूरी

Uttra Pradesh cabinet meeting and its decision.
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

अखिलेश के ट्वीट पर आज बोले योगी, 'उन्हें नहीं पता किसान की परिभाषा'

Cm yogi reply to Akhilesh tweet on loan issue
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

निकाहनामा के समय दूल्हे ने नहीं हटाया सेहरा, दुल्हन ने किया शादी से इनकार

Bride refused marriage in kannauj
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

प्रद्युम्न मर्डर केसः पिंटो परिवार की याचिका पर सुनवाई से हाईकोर्ट के जज का इंकार

pradyuman murder case, Ryan school owners pinto family anticipatory bail plea in High Court
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

सीएम योगी ने पेश किया छह माह का लेखा जोखा, पुलिस, युवाओं और किसानों पर दिया जोर

cm yogi presented six moth up government report card
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!