आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

साधु यू ही नहीं बने सपा के दादा

Varanasi

Updated Sun, 02 Dec 2012 05:30 AM IST
वाराणसी। साधु! रामकरण यादव को चौधरी चरण सिंह ने यही नाम दिया था। उनकी सादगी (साधुपना) जनता को भी भाती थी। लोग उनमें गांधी का अक्स देखते थे। चाहने वालों के बीच वह पूर्वांचल के गांधी भी थे जबकि गांधी और गांधीवाद से उनका रिश्ता था तो सिर्फ इतना कि वह सहकारिता आंदोलन से निकले नेता भर थे। यह जुमला इसलिए भी बेमानी है क्योंकि पश्चिम के यादव समाज में भी दादा की पकड़ उतनी ही गहरी थी, जितनी पूरब के जिलों में। सन 1985 तक चौधरी साहब का जमाना बीतने को था और साधु से उनका नाम बदल कर दादा हो गया। वह समाजवादी पार्टी की राजनीति के चौधरी हो गए। सीधे चुनाव के मैदान में उतरना छोड़ दिया और सबको जिताने में लग गए। दादा को अजातशत्रु माना जाता था क्योंकि वह जिसके समर्थन में खड़े रहते थे, उसके हाथ जीत लगती थी।
दादा के निधन की खबर सुनकर डा. बहादुर सिंह यादव ने कहा कि राजनीति का कैंसर दादा को खा गया। यह सही है कि दादा को कैंसर था। उनके नाम से एक ब्लाग बना है। उसमें 22 जुलाई 2009 के बाद कोई पोस्ट नहीं की गई है। उसमें ‘फिर खुदा ही मालिक है’ शीर्षक से एक पोस्ट है, जिसमें राजनीति के वर्तमान हालात का जिक्र है। आदमी के नहीं रहने पर उससे जुड़े हर जर्रे के मायने निकाले जाते हैं। नहीं मालूम कि इन बातों से कोई मतलब निकलता भी या नहीं है। इतना तो तय है कि दादा ने 85 साल चार दिन के जीवन में जो किया, उसकी मिसाल और व्याख्या तरह-तरह से होगी।
ईशोपुर गांव में 27 नवंबर 1927 को जन्मे दादा के सार्वजनिक जीवन की शुरुआत ग्राम पंचायत से हुई। ग्राम प्रधान, खानपुर सहकारी समिति के सभापति के रूप में वह लोगों का विश्वास जीतते गए और कद बढ़ता गया। स्कूल में तो वह आठवीं जमात से आगे नहीं बढ़ पाए थे लेकिन सार्वजनिक जीवन में वह स्नातक, स्नातकोत्तर, पीएचडी तक करते चले गए। वर्ष 1969 के मध्यावधि चुनाव में वह बीकेडी से ही सैदपुर, जो आधा गाजीपुर और आधा बनारस में पड़ता था, के विधायक चुने गए। उनके नेतृत्व में 1974 में भारतीय क्रांतिदल ने गाजीपुर जिले की सभी सीटें जीतीं तो वह अजातशत्रु कहलाने लगे लेकिन वह खुद चुनाव नहीं जीत पाए। सन 1967 में जब मुलायम सिंह यादव चुनाव हार गए थे। तब दादा चौधरी चरण सिंह के करीबी थे। चौधरी साहब से कह कर उन्होंने उनको विधान परिषद का सदस्य बनवाया। नेता विरोधी दल के रूप में जगह दिलाई। वर्ष 1985 में जब दलित मजदूर किसान पार्टी टूटी और मुलायम सिंह यादव ने अलग राह चुनी तो दादा को अपने साथ खड़े पाया। वह उनके सेनापति बने। मुलायम सिंह के साथ पूर्वांचल भर में सघन दौरा किया और समाजवादी पार्टी का संगठन खड़ा किया। वह साधु से दादा बन चुके थे। समाजवादी पार्टी की बैठकों में कार्यकर्ता और खुद नेताजी (मुलायम सिंह) भी उनको दादा कहने लगे। समाजवादी पार्टी आज पूर्वांचल में मजबूत है तो वह दादा की वजह से ही। दादा ने विधानसभा चुनाव से किनारा कर लिया लेकिन पार्टी ऐसे नेता के अनुभव से वंचित कैसे रहती। पार्टी ने वर्ष 1990 और 1997 में उन्हें विधानसभा परिषद का सदस्य बनाया। ईशोपुर गांव में उनके नाम से इंटर कालेज और डिग्री कालेज दोनों स्थापित हैं।
पिछले दिनों दादा के भर्ती होने की खबर सुनकर सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 6 अक्तूूबर को उनकी सेहत का हाल जानने बनारस पहुंचे थे। उसके बाद दादा कई बार घर और अस्पताल का चक्कर लगाते रहे लेकिन उनकी सेहत नहीं सुधरी। इस बीच शिवपाल सिंह यादव उनको देखने आए और फिर बलराम यादव। गाजीपुर के वरिष्ठ नेता दयानंद यादव के मुताबिक दादा की सादगी, प्रतिबद्धता और ईमानदारी के नेता और कार्यकर्ता दोनों ही कायल थे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

महिलाएं प्यार में देती हैं मर्दों को इस वजह से धोखा, रिसर्च में हुआ खुलासा

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

...तो इन वजहों से महिलाओं का जल्दी बढ़ता है वजन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

जब बोनी कपूर की सास ने प्रेग्नेंट श्रीदेवी के साथ की थी ये हरकत, पैरों तले खिसक गई थी जमीन

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

भूलकर भी बेडरूम में न रखें ये चीज, नहीं तो बर्बाद हो जाएगी आपकी शादीशुदा जिंदगी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

‘चाय की चुस्की’ नहीं होगी बेस्वाद, ऐसे भागेगी एसिडिटी

  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

Most Read

शिक्षामंत्री की कुर्सी पर बैठ FB में शेयर की फोटो, वायरल होते ही हिरासत में युवक

police arrested boy sat on minister's chair after uploading pic on FB
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

कभी 30 रुपये देकर इसी किराये के मकान में रहते थे कोविंद, अब यहां जश्न

some important facts about ramnath kovind
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

तेजस्वी को साबित करनी होगी बेगुनाही, किसी कीमत पर नीतीश नहीं करेंगे समझौता

Tension between Bihar Mahagathbandhan partners jdu and rjd continues
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

रात में सड़क पर घूम रही थी युवती, जहरीले सांप ने डसा, करना पड़ा भर्ती

snake bike to a girl
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

जीते रामनाथ कोविंद, उत्तर प्रदेश को मिली खास सौगात

ramnath kovind will be the first president of uttar pradesh
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

सीजफायर उल्लंघन पर भारत का पाक को करारा जवाब, कई पोस्ट की तबाह

befeating response to pakistan of CFV many posts destroyed
  • बुधवार, 19 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!