आपका शहर Close

डाक्टरों को रास नहीं आ रही सरकारी नौकरी

Siddhartha nagar

Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
सिद्धार्थनगर। डाक्टरों को अब सरकारी नौकरी रास नहीं आ रही है। शायद यही कारण है कि जिले के चार डाक्टरों ने रिजाइन लेटर दे दिया है। लेटर सीएमओ दफ्तर तक पहुंच गए हैं। डाक्टरों की कमी से जूझ रहे स्वास्थ्य महकमा के लिए यह बड़ी चोट है। इसके पीछे जहां सरकारी अस्पतालों में दबाव को कारण माना जा रहा है। वहीं निजी नर्सिंग होम से मिलने वाली मोटी रकम भी इस रिजाइन की एक वजह मानी जा सकती है।
एक समय था जब जिला अस्पताल में मरीजों की भारी भीड़ लगती थी और डाक्टर इसे समाज सेवा मानते हुए सरकार से दिए गए मानदेय को अपनाते हुए अपने दायित्वों का निर्वहन करते थे। पर अब परिस्थितियां थोड़ी बदल चुकी हैं। अस्पतालों के भीतर कार्य का बोझ और इलाज के अलावा अन्य सरकारी कार्यों का इतना दबाव है कि डाक्टर भी बेहाल हैं। हाल यह है कि डाक्टर सरकारी नौकरी छोड़ना ही मुनासिब समझ रहे हैं।
बता दें कि जिले में इस समय कुल 81 डाक्टरों की तैनाती है। इसमें से इटवा में तैनात रहे डा. एसके आनंद, डिढ़वा में तैनात रहे डा. विजय वर्मा, पचमोहनी के डा. प्रशांत तथा कठेला में तैनात डा. बीके यादव ने रिजाइन लेटर सीएमओ कार्यालय तक पहुंचा दिया। यानी आने वाले समय में ये सरकारी सेवा से दूर हो सकते हैं। यह तो एक बानगी भर है। पूर्वांचल के तकरीबन हर जिलों में ऐसे सरकारी चिकित्सक मिल जाएंगे, जो सरकारी सेवा से इतर अपना नर्सिंग होम या प्राइवेट सेवा देना ही मुनासिब समझते हैं।
सीएमओ डा. एसएन पांडेय कहते हैं कि किसी को नौकरी करने के लिए विवश नहीं किया जा सकता है। यह बात सही है कि चार लोगों ने रिजाइन लेटर दिया है। चिकित्सा क्षेत्र में सेवा समाजसेवा से कम नहीं है। यहां लोगों का इलाज करके हमें मानसिक शांति भी मिलती है। फिलहाल डाक्टरों की तैनाती के लिए शासन से पत्र व्यवहार किया जा रहा है।

टेंशन और मरीज ज्यादा, सुविधाएं कम
कुछ डाक्टरों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि छत्तीस से पचास हजार रुपये महीने का वेतन तो मिलता है, लेकिन दबाव बहुत है। मरीजों की संख्या ज्यादा रहती है। अस्पतालों में डाक्टर हैं नहीं। हर्ट के विशेषज्ञ बच्चों को दवा लिखते हैं कि सर्जन तक को भी ओपीडी संभालनी पड़ जाती है। पहले जहां हर रोज सौ से दो सौ मरीज पहुंचते थे, अब यही संख्या आठ सौ का आंकड़ा पार कर जाती है। सुविधाएं भी गायब हैं। ऐसे में कुछ डाक्टरों की मजबूरी रहती है कि वे निजी नर्सिंग होम की ओर रुख करते हैं।

नर्सिंग होम से मिलती है मोटी रकम
प्राइवेट नर्सिंग होम में डाक्टरों को महज दो से तीन घंटे का ही 18 से 25 हजार रुपये मासिक मानदेय दिया जाता है। हालांकि यह मानदेय उनके लिए है, जो सरकारी डाक्टर हैं और गोपनीय रूप से प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं। जिले में ऐसे कई नर्सिंग होम हैं, जहां यह सेवा दी जाती है। इसके अलावा एमबीबीएस और एमडी तथा सर्जन को नर्सिंग होम में सरकारी मानदेय से कहीं अधिक वेतन मद में दिया जाता है। जो अपना क्लीनिक चलाते हैं, वे भी महज कुछ घंटों में ही अच्छी खासी रकम कमा लेते हैं।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

हर मर्द नाभि में लगाएं ये 4 चीजें, होंगे सभी तरह के फायदे

  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

फेस्टिवल में बढ़ गया है वजन तो ट्राई करें ये टिप्स, जल्द घटेगा वेट

  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

B'DAY SPL: शम्मी कपूर ने दूसरी शादी के लिए रखी थी ऐसी शर्त, डर गए थे घरवाले

  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

इंटरव्यू के जरिए 10वीं पास के लिए CSIO में नौकरी, 40 हजार सैलरी

  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

BIGG BOSS 11: ऐसी कीमत पर हो रही है इस 'स्टार' की एंट्री, नाम जानकर चौंक जाएंगे

  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

हिमाचल प्रदेश: मिनटों में गिरा करोड़ों का पुल, हवा में 'लटके' ट्रक और कार

Six injured after a bridge collapsed in Chamba of Himachal Pradesh
  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

हिमाचल प्रदेश: खाई में गिरी बस, 2 लोगों की मौत, 10 घायल

bus fell into a gorge in Nankhari of Himachal Pradesh
  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

पार्टी हाईकमान से नाराजगी, भाजपा में इस्तीफों की लग गई झड़ी

Hamirpur bjp mandal president resign
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

झारखंड: बिना हेलमेट स्कूटर चलाकर फंसे CM रघुवर दास, विपक्ष ने साधा निशाना

jharkhand cm raghubar das drive a scooter without helmet, opposition targets on him
  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

'अर्की में एक गाड़ी को चला रहे थे पांच चालक, अब खत्म होगी गुटबाजी'

himachal assembly election 2017 virbhadra Singh file nomination from Arki
  • शनिवार, 21 अक्टूबर 2017
  • +

दीपावली पर सैफई में एकजुट दिखा पूरा ‘यादव परिवार’, मुलायम-रामगोपाल के बीच हुई 'गुप्त मंत्रणा'

Mulayam family came together in Saifai
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!