आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

धान की फसल में खरपतवार मुसीबत

Shahjahanpur

Updated Tue, 14 Aug 2012 12:00 PM IST
उपचार के अभाव में उत्पादकता घटने की आशंका
- गीले खेतों में निराई करने से खराब हो सकती है पौध
सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। मानसून की अपर्याप्त बारिश से परेशान किसानोें को देर-सवेर धान की पौध रोपने के बाद अब खेतों में तेजी से बढ़वार ले रहे खरपतवारों की नई मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। फसल के साथ पनप रही अवांछित वनस्पतियों की रोकथाम नहीं होने पर औसत उत्पादकता पर बुरा असर पड़ने की आशंका है। किसानों की मुश्किल यह है कि पानी भरे रहने के कारण गीले खेतों में निराई कैसे हो, क्योंकि ऐसी दशा में पौध खराब होने का डर है।
जिले में करीब सात लाख किसान हैं, जिनमें से कम जोत वाले अधिसंख्य छोटे किसान सीमित संसाधनों वाले होने के कारण सिंचाई के लिए मानसूनी बारिश पर निर्भर करते हैं। यही नहीं, खेती में नई फसलों के प्रयोग से जुड़े खतरों का सामना करने के बजाय रबी सीजन में गेहूं, चना, मटर और खरीफ में धान, गन्ना की पारंपरिक उपजें लेने में ज्यादा दिलचस्पी लेते हैं। फसल तैयार होने के दौरान कीटनाशकोें पर होने वाला खर्च बचाने के लिए खरपतवार नियंत्रण को पांरपरिक निराई पद्घति इस्तेमाल करना उनकी मजबूरी है।
इस बार मानसून की भरपूर बारिश नहीं होने से तमाम किसानों को धान पौध रोपने में एक से दो हफ्ते की देरी हो गई। अब वायुमंडल में बढ़ी आर्द्रता से खरपतवार भी तेजी से पनप रहे हैं। खेतों में घुसकर निराई करना इसलिए संभव नहीं हो पा रहा क्योंकि उनमें लंबे समय तक पानी भरा रहने मिट्टी चिपचिपी और दलदली है। ऐसे में निराई करने पर बोई गई पौध नष्ट होने का खतरा है। इसीलिए कृषि वैज्ञानिक भी किसानों को विभिन्न रसायनोें के छिड़काव की सलाह दे रहे हैं।



‘इन दिनों धान के खेतों में निराई व्यवहारिक रूप से संभव नहीं है। मामूली घास रोकने के लिए प्रति एकड़ एक लीटर ब्यूटाक्लोर, 500 मिली प्रटोलाक्योर, 400 मिली एनीलोफॉस अथवा विवाइरोविक सोडियम का निश्चित समयावधि के अंदर छिड़काव करना उचित होगा। चौड़ी पत्ती के खरपतवार नष्ट करने को आठ ग्राम मेट सल्फ्यूरॉन मिथाइल अथवा 300 मिली 2-4 डी रसायन इस्तेमाल किया जा सकता है। चिपचिपे खेत में स्प्रे के24 घंटे बाद पानी भर देने से अवांछित घास का सफाया हो जाएगा।’
-डॉ. केएम सिंह, शस्य वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केंद्र
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

paddy crop weed trouble

स्पॉटलाइट

पेट में दर्द में राहत देगी एक चुटकी हींग, ये टिप्स भी आजमा कर देखें

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

डैनी का खुलासाः ब्रेकअप के बाद ऐसी हरकतें करने लगी थीं परवीन बाबी, देखकर डर जाता ‌था

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

पॉपुलैरिटी में रजनीकांत को भी मात देती है ये हीरोइन, फैंस ने बना डाला था मंदिर तक

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

15 साल की उम्र में पहली ही फिल्म से निकाल दी गईं थीं दिव्या भारती, जानें क्या थी वजह

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

गुटखे और पान मसाले की लत छु़ड़वा देगा ये नुस्खा, आजमा कर देखें

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

Most Read

कोर्ट के बाहर लगे ‘जय श्रीराम’ के नारे, तंज कसने से बाज नहीं आए साक्षी

reaction after bail news of bjp leaders in babri demolition case
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

जोधपुर में मिला यूरेनियम का भंडार, आस्ट्रेलिया पर नहीं रहना होगा निर्भर

a discovery of uranium in rajasthan
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

54 की उम्र में घर से भागे ये इशकजादे, बच्चे कर रहे तलाश

in agra old age couple ran away from house after love relationship
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

डॉक्टरों की र‌िटायरमेंट सीमा बढ़ी, जानें योगी कैब‌िनेट के और फैसले

important decision in up cabinet meeting on 30 may
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

यूपी में एक साथ 222 वरिष्ठ PCS अफसरों के तबादले, देखें पूरी लिस्ट

senior PCS transferred in Uttar   Pradesh.
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

नीतीश के PM मोदी के साथ लंच पर तेजस्वी का तंज, कहा- चटनी पॉलिटिक्स

cm Nitish kumar will attend pm Modi's banquet
  • शनिवार, 27 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top