आपका शहर Close

परिवर्तन के साथ चटख हुए परंपरा के रंग

Pilibhit

Updated Sun, 14 Oct 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। उस दौर में जब बिजली नहीं थी और पैट्रोमैक्स भी नहीं, तब रामलीला दिन में हुआ करती थी। लोग महीनों से इसका इंतजार करते थे। रामलीला के दिन लोग खाना खा-पीकर पूरी फुरसत से आते, तन्मयता से रामलीला देखते थे। जिले में रामलीला के 127 साला सफर में बहुत कुछ बदल गया है। पहले भगवान राम का सिंहासन हाथों से उठाया जाता था, अब जीप पर बिजली की चकाचौंध के बीच राम दरबार सजता है। इन तब्दीलियों के बावजूद रामलीला की लोक परंपरा का रंग आज भी चटख बना हुआ है।
1885 में पहली बार पंडित जानकी प्रसाद ने बाबू गणेश राय, साहू जगदीश प्रसाद, साहू नारायणदास के साथ मिलकर रामलीला का आयोजन किया था। इसमें मिली सफलता से उत्साहित होकर इन्हीं लोगों ने अपनी भूमि को रामलीला के लिए दान कर दिया था। अब परमठ मंदिर के महंत ओमकारनाथ ने पूर्वजों से मिली इस विरासत को संजो रखा है। चौथी पीढ़ी में भी यह परंपरा कायम कायम है।
बकौल महंत ओमकार, पहले बिजली नहीं थी, इसलिए दिन में रामलीला होती थी। बाद में पैट्रोमैक्स खरीदे गए तो दिन ढलने पर उन्हें जलाया जाता था। आजादी से पहले ब्रिटिश सरकार के अधिकारी भी रामलीला देखने आते थे। एक कुनबे की रामलीला होती थी। सभी खा-पीकर रामलीला देखने बैठ जाते थे। शांति के माहौल में बूढ़े से लेकर बच्चे तक रामलीला के प्रसंगों को तन्मयता से देखते-सुनते थे। अब माइक का शोर, बिजली की चकाचौंध और संसाधनों से यह आयोजन आसान हो गया है। वक्त की कमी के कारण सामान्य तौर पर लोगों के उत्साह में कमी आई है, लेकिन यह भी सुखद है कि नई पीढ़ी टीवी और कंप्यूटर को छोड़कर इस आयोजन को देखने आ रही है।
तब............
1. एक कुनबे में रामलीला होती थी।
2. एक या दो परिवार के लोग ही पात्र बनते थे।
3. दर्शक कम, लेकिन उत्साह अपार था।
4. बिजली न होने के कारण दिन में होती थी।
5. रामदरबार के पात्रों को भगवान के समान सम्मान दिया जाता था।
6. शेषनाग के फन वाली आकृति के विशाल रथ कंधे पर ले जाए जाते थे।
7. बड़े कारोबारी और जमींदार आयोजन कराते थे।
अब..................
1. रामलीला का स्वरूप बढ़ा। संसाधनों से सजा आयोजन।
2. बच्चों और पुराने लोगों को छोड़ युवाओं में क्रेज कम हुआ।
3. भीड़ बढ़ी पर रामलीला में नहीं मेले में लगी लगन।
4. दिन से लेकर रात तक आयोजन की रहती है धूम।
5. पात्रों को देखने जुटते हैं बच्चे।
6. जीप पर सजाया जाता है सिंहासन।
7. कमेटी के लोग आयोजन कराते हैं।
व्यवस्था बदली पर परंपरा 1885 वाली
रामलीला मंदिर के नाम से मशहूर परमठ मंदिर के सर्वराकार और इस परंपरा को बरकरार रखने वाले 68 वर्षीय महंत ओमकारनाथ बताते हैं समय के साथ तमाम व्यवस्थाएं बदल गई, लेकिन रामलीला की परंपरा 1885 वाली ही है। रामलीला का मंचन एक स्थान पर न होकर विभिन्न प्रसंगों की लीला अलग-अलग स्थानों पर होती है। रामजन्म से धनुष यज्ञ की लीला का मंचन परमठ मंदिर में, राम बारात का भ्रमण नगर भर में, राम विवाह राजाबाग कॉलोनी स्थित पौराणिक मंदिर में, केवट संवाद की लीला एकता सरोवर यानि धन्नई ताल पर, बनवास का भ्रमण धीरेंद्र सहाय की बगिया में, चित्रकूट विश्राम स्थल शिवशक्ति बारातघर के पास बनाया जाता है। पश्चात सभी पात्र रामलीला मैदान पहुंचते हैं।
इन पीढ़ियों का रहा योगदान
पहली पीढ़ी : जानकी प्रसाद, बाबू गणेश राय, साहू जगदीश प्रसाद, साहू नारायण दास।
दूसरी पीढ़ी : जानकी प्रसाद के पुत्र पंडित चक्खन लाल।
तीसरी पीढ़ी : महंत श्याम सुंदर लाल।
चौथी पीढ़ी : महंत ओमकार नाथ।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

Special: पहले से तय है बिग बॉस की स्क्रिप्ट, सामने आए 3 फाइनिस्ट के नाम लेकिन जीतेगा कोई चौथा

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

एक रिकॉर्ड तोड़ने जा रही है 'रेस 3', सलमान बिग बॉस में करवाएंगे बॉबी देओल की एंट्री

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

मिलिये अध्ययन सुमन की नई गर्लफ्रेंड से, बताया कंगना रनौत से रिश्ते का सच

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

मां ने बेटी को प्रेग्नेंसी टेस्ट करते पकड़ा, उसके बाद जो हुआ वो इस वीडियो में देखें

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

Bigg Boss के घर में हिना खान ने खोला ऐसा राज, जानकर रह जाएंगे सन्न

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

Most Read

चित्रकूट ट्रेन हादसे पर सीएम योगी ने जताया दुख, पीड़ितों को मुआवजे का ऐलान

vasco da gama patna express train derailed in chitrakoot near banda up
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

शास् त्रीनगर में कट बंद होने का काम शुरू

शास्
त्रीनगर में कट बंद होने का काम शुरू
  • शनिवार, 25 नवंबर 2017
  • +

हनीमून से पहले नूपुर ने पूछे कई सवाल? भुवनेश्वर ने अपने अंदाज में दिए जवाब

Nupur asked many questions before the honeymoon? Bhuvneshwar responds in his own style
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

अपनी जगह से नहीं हटेंगे 108 फुट ऊंचे हनुमान जी: दिल्ली हाईकोर्ट

Delhi High Court expressed anguish over several illegal constructions in Karol Bagh
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

2 साल के भाई को दरवाजे से बांधकर 4 साल की बच्ची से दुष्कर्म

boy accused of raping 4 years old girl in madhya pradesh
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

भुवी-नूपुर की रिसेप्शन पार्टी में बधाई देने पहुंचे सुरेश रैना-प्रवीण कुमार

Bhuvi procession came out, my friend marriage on dance, will be in a while
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!