आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

एक रैंचो चाहिए यहां के बाशिंदों को

Pilibhit

Updated Tue, 02 Oct 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। एक फिल्म आई थी थ्री ईडीयट्स फिल्म का नायक रैंचो हर किसी से कहता था है, ऑल इज वेल। लोगों को इस फिल्म से जिंदगी जीने की प्रेरणा मिली थी, लेकिन अपने जिले में ऐसा नही है। यहां हर दिन आत्महत्या और उसके प्रयास करने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। ऐसे में यहां जरूरत है एक रैंचो की, जो उलझन और डिप्रेशन में फंसे नौजवानों को जिंदगी की राह दिखा सके।
जिला अस्पताल के आंकड़ाें पर गौर करें तो ऐसा कोई दिन नहीं, जब जहर खाकर अथवा आग लगाकर आत्महत्या का प्रयास न होता हो। हर दिन चार से छह मरीज आत्महत्या के प्रयास के भर्ती होते हैं। दूसरे तीसरे मौतें भी हो जाती हैं। आत्महत्या का प्रयास करने वालों की उम्र 20 से 45 वर्ष के बीच होती है। कहने का तात्पर्य है कि ज्यादातर युवा ही मौत को गले लगाने का प्रयास करते हैं। इस बाबत कुछ अनुभवी और मनोविज्ञान की जानकारी रखने वालों से भी बात की गई तो यही निकलकर आया कि कुंठा और निराशा के कारण यह घटनाएं बढ़ीं हैं, जिन पर महत्वाकांक्षा की निश्चित सीमा होने, आपस में मेल-मिलाप रहने, ईर्ष्या भावना से दूर रहने तथा लोभ में न फंसने से यह घटनाएं कम हो सकती हैं।
निराश लगा रहे मौत को गले
रामा इंटर कॉलेज के विज्ञान शिक्षक लक्ष्मीकांत शर्मा का कहना है लोगों में छद्म आत्मतत्व विकसित होने, सीमाओं का ज्ञान न होने, प्रतिस्पर्धा और एकल परिवार के चलते निराशाजनक भाव के कारण मौत को गले लगाने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। आत्महत्या से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता, इसलिए दृढ़ इच्छाशक्ति और विवेक पूर्वक कठिनाइयों का सामना करना चाहिए।
आत्महत्या को समाज दोषी
शारदा अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ राजीव अग्रवाल का मानना है कि बढ़ती आत्महत्याओं के लिए परिवार और समाज मुख्य रूप से दोषी है। बताते हैं, चाहें पढ़ाई हो या फिर अपने पैरों पर खड़े कराने की बात हो, बच्चों पर दबाव परिवार और समाज ही बनाता है। आत्महत्याओं के लिए मीडिया एक्सपोजर भी काफी जिम्मेदार हैं। डिप्रेशन के कारण ही लोगबाग आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं।
परिवार में रखे अपनी समस्या
साहित्यकार देवदत्त प्रसून के अनुसार, मौत को गले लगाना ही समस्याओं से बचने का मात्र विकल्प नहीं है। उन्होंने डिप्रेशन की स्थिति में निदान बताते हुए कहा है, ऐसे लोगों को चाहिए कि वह अपनी समस्या परिवार अथवा सच्चे साथी के समक्ष अवश्य रखें। समस्याओं को लेकर घुटें नहीं, उनका निदान तलाशें।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

कई शादियां करने से यहां के लोगों को हो रही हैं ये गंभीर जेनेटिक बीमारी

  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

लड़कियों की बस इसी बात पर मर मिटते हैं लड़के, आप भी जान लें

  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

घर बैठे ही अब दूर होगी टैनिंग, एक बार तो जरूर ट्राई करें ये नुस्खा

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

इसे कहते हैं जुगाड़, ट्रैक्टर को ही बना डाला स्वीमिंग पूल, देखें वीडियो

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

खूबसूरत आंखों की अगर है ख्वाहिश तो अपनाएं ये टिप्स

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

Most Read

मां-बाप ने डांटा तो घर से भाग न‌िकले नाबाल‌िग भाई-बहन, होटल पहुंचे तो...

minor brothers and sisters run from house after Parents scolded  
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

IMA DEHRADUN: दो दिन में दो कैडेट की मौत के पीछे कहीं ये कारण तो नहीं...

there is a question after second ima cadet dead in two days during training
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

हुर्रियत नेता मीरवाइज बोले, 'एक आतंकी मारोगे, तो 10 और बंदूक उठाएंगे'

Kashmir problem not solve by killing terrorist says mirwaiz umar farooq
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

डोकलाम पर चीन से विवाद के बीच लेह पहुंचे सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत

INDIAN ARMY CHIEF REACHES LEH ON SUNDAY
  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

बिहारः सुसाइड करने वाले बक्सर डीएम के ससुर ने 72 घंटे बाद खोला राज

My daughter is not at fault says Father-in-law of DM Buxar
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

मुजफ्फरनगर रेल हादसे में मुआवजे की घोषणा, मृतकों के परिजनों को दो लाख

UP government in action on kalinga utkal derailment.
  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!