आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

एक रैंचो चाहिए यहां के बाशिंदों को

Pilibhit

Updated Tue, 02 Oct 2012 12:00 PM IST
पीलीभीत। एक फिल्म आई थी थ्री ईडीयट्स फिल्म का नायक रैंचो हर किसी से कहता था है, ऑल इज वेल। लोगों को इस फिल्म से जिंदगी जीने की प्रेरणा मिली थी, लेकिन अपने जिले में ऐसा नही है। यहां हर दिन आत्महत्या और उसके प्रयास करने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। ऐसे में यहां जरूरत है एक रैंचो की, जो उलझन और डिप्रेशन में फंसे नौजवानों को जिंदगी की राह दिखा सके।
जिला अस्पताल के आंकड़ाें पर गौर करें तो ऐसा कोई दिन नहीं, जब जहर खाकर अथवा आग लगाकर आत्महत्या का प्रयास न होता हो। हर दिन चार से छह मरीज आत्महत्या के प्रयास के भर्ती होते हैं। दूसरे तीसरे मौतें भी हो जाती हैं। आत्महत्या का प्रयास करने वालों की उम्र 20 से 45 वर्ष के बीच होती है। कहने का तात्पर्य है कि ज्यादातर युवा ही मौत को गले लगाने का प्रयास करते हैं। इस बाबत कुछ अनुभवी और मनोविज्ञान की जानकारी रखने वालों से भी बात की गई तो यही निकलकर आया कि कुंठा और निराशा के कारण यह घटनाएं बढ़ीं हैं, जिन पर महत्वाकांक्षा की निश्चित सीमा होने, आपस में मेल-मिलाप रहने, ईर्ष्या भावना से दूर रहने तथा लोभ में न फंसने से यह घटनाएं कम हो सकती हैं।
निराश लगा रहे मौत को गले
रामा इंटर कॉलेज के विज्ञान शिक्षक लक्ष्मीकांत शर्मा का कहना है लोगों में छद्म आत्मतत्व विकसित होने, सीमाओं का ज्ञान न होने, प्रतिस्पर्धा और एकल परिवार के चलते निराशाजनक भाव के कारण मौत को गले लगाने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है। आत्महत्या से किसी समस्या का समाधान नहीं हो सकता, इसलिए दृढ़ इच्छाशक्ति और विवेक पूर्वक कठिनाइयों का सामना करना चाहिए।
आत्महत्या को समाज दोषी
शारदा अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ राजीव अग्रवाल का मानना है कि बढ़ती आत्महत्याओं के लिए परिवार और समाज मुख्य रूप से दोषी है। बताते हैं, चाहें पढ़ाई हो या फिर अपने पैरों पर खड़े कराने की बात हो, बच्चों पर दबाव परिवार और समाज ही बनाता है। आत्महत्याओं के लिए मीडिया एक्सपोजर भी काफी जिम्मेदार हैं। डिप्रेशन के कारण ही लोगबाग आत्महत्या जैसा कदम उठाते हैं।
परिवार में रखे अपनी समस्या
साहित्यकार देवदत्त प्रसून के अनुसार, मौत को गले लगाना ही समस्याओं से बचने का मात्र विकल्प नहीं है। उन्होंने डिप्रेशन की स्थिति में निदान बताते हुए कहा है, ऐसे लोगों को चाहिए कि वह अपनी समस्या परिवार अथवा सच्चे साथी के समक्ष अवश्य रखें। समस्याओं को लेकर घुटें नहीं, उनका निदान तलाशें।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

OMG! इंटरनेट पर धमाल मचा रही है ये महिला, असल उम्र पर नहीं होगा यकीन

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

सलमान-शाहरुख से भी बड़ा सुपरस्टार है ये हीरो, सेल्फी लेने के लिए फैंस लगाते हैं लंबी लाइन

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

जब भरी पार्टी में 16 साल छोटी अमृता को हीरो ने किया था किस, देखते रह गए थे सेलेब्रिटी

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

प्रेम के मामले में परेशानियाें से भरा रहेगा सप्ताह का पहला दिन, ये 3 राशि वाले रहें संभलकर

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

शेविंग के बाद भूलकर न लगाएं 'आफ्टरशेव', होगा ये नुकसान

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

Most Read

हिंसक हुआ जाट आरक्षण आंदोलन, तोड़-फोड़ आगजनी, धारा 144 लागू

jat agitation in bharatpur, train track and highway also block
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

लालू का दावा- राष्ट्रपति चुनाव जीतेंगी मीरा कुमार, नीतीश ने की भूल

Lalu Prasad Yadav said I will ask Nitish kumar to reconsider his decision
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

स्मार्ट स‌िटी राउंड 3 में रायबरेली और मेरठ बाहर, देखें ‌किन 30 शहरों को म‌िली जगह

lname of cities in smart city list round 3
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

विदेशी बहु दो बच्चों के साथ धरने पर बैठी, जानिए क्यों

Foreigner dharna in jodhpur
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

रमजान के अंतिम शुक्रवार को सार्वजनिक अवकाश निरस्त, अब निबंधित अवकाश

cm yogi cancelled ramzan last friday holiday
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

जाट आरक्षणः ट्रैक पर जाट समाज, ये ट्रेनें रद्द, ये जाएंगी बदले रास्ते से

Jat protest at railway track, demand of reservation
  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top