आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

नोएडा एक्सटेंशन : हजारों करोड़ रुपये लगे थे दांव पर

Noida

Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
ग्रेटर नोएडा। एनसीआर में सबसे चर्चित नोएडा एक्सटेंशन विवाद में हजारों करोड़ रुपये दांव पर लगे थे। समाधान के बाद वैसे तो सबके चेहरे पर खुशी है, लेकिन सबसे ज्यादा आर्थिक नुकसान ग्रेनो प्राधिकरण को ही हुआ। बिल्डरों ने नुकसान की भरपाई फ्लैटों के दाम बढ़ाकर की।
नोएडा एक्सटेंशन में दो हजार हेक्टेयर में सिर्फ बिल्डरों को प्राधिकरण ने प्लाट दिए थे। जिसमें छोटे-बड़े मिलाकर करीब 100 बिल्डर हो गए। वैसे तो 70 बिल्डरों को जमीन मिली थी, लेकिन उन्होंने छोटे-छोटे टुकड़ों में बिल्डरों को जमीन दे दी थी। नोएडा एक्सटेंशन में बिल्डरों ने करीब 10 हजार करोड़ रुपये लगा दिए। जमीन का आवंटन और निर्माण में पैसा खर्च हुआ। हालांकि करीब एक लाख फ्लैट बुक भी हो गए, लेकिन उनसे ज्यादा धन नहीं मिला। कोर्ट में विवाद फंसने के बाद बिल्डरों ने प्राधिकरण को किस्त देनी बंद कर दी। निवेशक भी चुप बैठ गए। बैंकों ने भी निवेशक, बिल्डरों के पैसों को रोक दिया था। ग्रेनो प्राधिकरण ने नोएडा एक्सटेंशन में विकास कराने के लिए करीब तीन हजार करोड़ रुपये खर्च कर दिए। काम रुकने के बाद विकास कार्य भी बेकार हो गए। सड़कें टूट गईं और निर्माण सामग्री खराब हो गई। अब प्राधिकरण को इतने ही पैसे और खर्च करने होंगे, तब जाकर विकास कार्य चालू हो सकेंगे।
विवाद का खामियाजा ठेकेदारों को भी उठाना पड़ा। बिल्डरों और प्राधिकरण ने इसलिए भुगतान नहीं किया क्योंकि कार्य पूरा नहीं हो सका था। लिहाजा करीब दो हजार करोड़ रुपये की चपत ठेकेदारों को भी लगी है। हजारों की संख्या में काम कर रहे मजदूरों को बिना तनख्वाह ही जाना पड़ा। किसानों ने भी कई बार तोड़फोड़ की, जिसका नुकसान सीधे बिल्डरों को पहुंचा। चूंकि अब नए सिरे से सबकुछ करना होगा। जो काफी महंगा पड़ेगा।

प्राधिकरण को झटका पर झटका लगा
बिल्डरों ने किस्त नहीं दी। जितने समय तक कोर्ट में विवाद रहा, उस दौरान तक कोई पेनाल्टी नहीं लगेगी। ग्रेनो के करीब 30 हजार आवंटियों ने प्राधिकरण को किस्त देनी बंद कर दी थी। हालात यह हो गए कि प्राधिकरण पर धीरे- धीरे करीब छह हजार करोड़ रुपये का कर्ज हो गया। हर माह 200 करोड़ रुपये का कर्ज देना पड़ रहा है। बैंकों ने प्राधिकरण को कर्ज देना इसलिए बंद कर दिया था, क्योंकि प्राधिकरण के पास गिरवी रखने के लिए जमीन नहीं थी। सच्चाई यह है कि विवाद और खिंचता तो प्राधिकरण दिवालिया ही हो जाता।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

noida extension

स्पॉटलाइट

रमजान 2017: सेहरी में खाएंगे ये 5 चीजें तो दिनभर नहीं लगेगी भूख

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

एक ही फिल्‍म कर गुमनाम हुई ये 'गांव की छोरी', अब विदेश में खड़ा किया अरबों का साम्राज्य

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

रमजान 2017ः पवित्र माह का पहला रोजा आज, जानें इससे जुड़े सख्त नियम

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

#Menstrual hygiene day: पीरियड्स में रखें इन बातों का ख्याल, वरना हो सकती हैं ये दिक्कतें

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

कई फिल्मों में काम कर चुकीं इस पॉपुलर एक्ट्रेस के साथ बेटे ने किया कुछ ऐसा, फूट-फूट कर रोईं

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

Most Read

यूपी में एक साथ 222 वरिष्ठ PCS अफसरों के तबादले, देखें पूरी लिस्ट

senior PCS transferred in Uttar   Pradesh.
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

यूपी में 141 PPS अफसरों के तबादले

 141 deputy SP transferred in Uttar Pradesh.
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

नीतीश के PM मोदी के साथ लंच पर तेजस्वी का तंज, कहा- चटनी पॉलिटिक्स

cm Nitish kumar will attend pm Modi's banquet
  • शनिवार, 27 मई 2017
  • +

पाक ने की फिर की गोलीबारी, 2 पोर्टरों की मौत

pakistan voilates ceasefire on Loc two porters killed
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट, मायावती बोलीं- भीम आर्मी से कोई संबंध नहीं

mayawati pc on dalits saharanpur violence
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

NIA ने अलगाववादी नेताओं को पूछताछ के लिए दिल्ली बुलाया

Separatist leaders to appear before NIA in Delhi
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top