आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

कानून के साथ सोच में बदलाव की भी जरूरत

Mainpuri

Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
मैनपुरी। भारतीय संस्कृति में मां-बाप को भगवान का दर्जा दिया गया है, लेकिन बदले परिदृश्य में अब सरकार को मां-बाप की उपेक्षा करने पर कानून बनाकर सजा का प्रावधान करना पड़ रहा है। पुत्रों द्वारा मां-बाप को असहाय छोड़ने के बढ़ते मामलों के मद्देनजर प्रदेश सरकार द्वारा माता-पिता का भरण पोषण और कल्याण अधिनियम लागू किए जाने का जहां स्वागत किया जा रहा है, वहीं कई बुद्धिजीवियों का कहना है कि कानून के साथ सोच बदलने की दिशा में भी जागरूकता लाने को कदम उठाए जाने चाहिए।
जीवन के 85 बसंत देख चुके मुक्तक सम्राट लाखन सिंह भदौरिया सौमित्र कहते हैं कि पश्चिमी सभ्यता के अंधानुकरण का ही परिणाम है कि पुत्र मां-बाप के साथ गलत व्यवहार कर रहे हैं। सरकार का यह कानून स्वागत योग्य है, लेकिन लेकिन गिरती नैतिकता पर अंकुश लगाने की दिशा में भी सार्थक पहल होनी चाहिए।
76 वर्षीय दयानारायण गुप्ता दयालू ने कहा कि मां-बाप को असहाय छोड़ने वालों के खिलाफ कानून लागू होना ही चाहिए। बुढ़ापे में माता-पिता की उपेक्षा करने वालों के खिलाफ सजा का प्रावधान नि:संदेह प्रशंसनीय है।
बुजुर्ग जगेंद्र सिंह ने मां-बाप की उपेक्षा करने वाले बेटों के खिलाफ लागू किए जाने वाले कानून की सराहना की है। उन्होंने कहा है कि हो सकता है कि इस कानून के भय से ही बेटे माता-पिता की उपेक्षा करने से बाज आएं। कानून के साथ समाज में भी जागरूकता लाने की जरूरत है।
पूर्व चेयरमैन महेश चंद्र वर्मा ने कहा कि बुढ़ापे का सहारा ही आज उन्हें बेसहारा कर रहे हैं। ऐसे में सरकार को कानून लाना पड़ रहा है। जिस भारत देश में बुजुर्गों को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है, वहीं अब बच्चे ही बड़े होकर मां-बाप से किनारा कर रहे हैं। कानून से निश्चित रूप से ऐसे मामलों में कमी आएगी।
अधिवक्ता अशोक मिश्र ने कहा कि माता-पिता का भरण पोषण और कल्याण अधिनियम से पुत्रों से उपेक्षित माता-पिताओं को राहत मिलेगी। कानून को सरल बनाना होगा, ताकि आम बुजुर्ग कानून की मदद ले सकें।
सामाजिक कार्यकर्ता गिरजाशंकर चतुर्वेदी उम्र के आखिरी पड़ाव में बेसहारा हो गए हैं। शादी न कर समाज सेवा का संकल्प लेने वाले करीब 88 वर्षीय चतुर्वेदी पिछले एक साल से सड़क पर हैं। नजदीकी रिश्तेदारों ने भी उनसे मुंह मोड़ लिया है। इन दिनों वह पुरानी तहसील के जीर्ण-शीर्ण बरामदे के नीचे जिंदगी बसर कर रहे हैं। चतुर्वेदी कहते हैं कि उम्र के अंतिम पड़ाव में अब उन्हें किसी से गिला-शिकवा भी नहीं हैं। जिंदगी के चंद दिन यूं ही गुजर जाएंगे।

  • कैसा लगा
Comments

Browse By Tags

law change

स्पॉटलाइट

पत्नी को छोड़ इस राजकुमारी के साथ 'लिव इन' में रहते थे फिरोज खान, फिर सामने आया था ‌इतना बड़ा सच

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

नवरात्रि 2017ः इस पंडाल में मां दुर्गा ने पहनी 20 किलो सोने की साड़ी, जानें खासियत

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

सालों डिप्रेशन में रही बॉलीवुड की ये मशहूर एक्ट्रेस, मां से खा चुकी हैं थप्पड़

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

डांडिया की मस्ती में चाहते हैं डूबना तो ये जगह आपके लिए है...

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

उस रात जैकी श्रॉफ की हरकत से ऐसा डरीं तबु, जिंदगीभर साथ काम ना करने की खाई कसम

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

Most Read

बैठक में फूटा मुलायम का दर्द, बोले- अखिलेश ने बाप को धोखा दिया

Mulayam Singh Yadav can announce a new political Party today
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

अखिलेश यादव बोले- अब डिंपल नहीं लड़ेंगी चुनाव, परिवारवाद से भी किया इंकार

akhilesh yadav says dimple yadav will not contest election.
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

गुरुग्राम निकाय चुनाव 2017: BJP को तगड़ा झटका, 35 वार्ड में महज 13 पर जीत

gurugram mcd elections results for 2017
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

नवरात्र में टूट सकती है सपा, मुलायम-शिवपाल बनाएंगे नई पार्टी, ये हो सकता है नाम

samajwadi party will be divided mulayam and shivpal announce new party
  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

मुलायम की प्रेस कॉफ्रेंस के बाद अखिलेश का ट्वीट- नेता जी जिंदाबाद...

Akhilesh tweet after Mulayam Singh conference
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

CBI जांच के बीच 2 हफ्तों बाद फिर खुला प्रद्युम्न का स्कूल, बच्चे पूछ रहे टॉयलेट जाएं कि नहीं?

pradyuman murder case: amidst of cbi probe ryan school reopens today and all developments of the day
  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!