आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

गन्ने की मिठास हो रही फीकी

Maharajganj

Updated Sun, 28 Oct 2012 12:00 PM IST
खुशहालनगर। गन्ना किसानों की उपेक्षा के चलते गन्ने की मिठास फीकी होती जा रही है। पहले किसानों को चीनी मिलों की गारंटी पर खाद और गन्ने का बीज कर्ज में उपलब्ध कराया जाता था। लेकिन यह पिछले चार साल से बंद है। इससे जिले में गन्ने की खेती कम होती जा रही है।
चीनी मिलों और केन यूनियन की आपसी सहमति से गन्ना विकास नीति तैयार की गई थी। इसके तहत केन यूनियन किसानों को कर्ज पर गन्ने का बीज और खाद उपलब्ध कराता था। कर्ज की कटौती मिलें किसानों को भुगतान देेते समय कर लेती थीं। गरीब किसानों को इससे काफी फायदा होता था। गन्ने की बुआई समय से हो जाती थी। इसके अलावा चीनी मिलें और केन यूनियन विकास कार्य भी मिलकर कराते थे। इसके तहत पुल, पुलिया और लिंग रोड का निर्माण कराया जाता था। मिलों की ओर से बनवाए गए सीसी रोड, लिंक मार्ग और पुलिया आज भी कायम हैं।
मेदिनीपुर गांव निवासी गन्ना किसान रामसुभग सिंह और परसौनी निवासी शंभूशरण सिंह का कहना है कि पहले केन यूनियन बोर्ड से प्रस्ताव पास कर प्रति किसान दो से तीन पैसे प्रति कुंतल की कटौती विकास के लिए करते थे। इससे एकत्रित रुपये से विकास के कार्य होते थे। पहले पासबुक दिखाकर खाद और बीज सस्ते कर्ज पर मिल जाते थे। लेकिन अब यह बातें पुरानी होती जा रही हैं।
इस संबंध में जिला गन्ना अधिकारी डॉ. राजेश धर द्विवेदी का कहना है कि गन्ना समितियां जिला सहकारी बैंकों से ऋण लेकर किसानों को खाद-बीज मुहैया कराती थीं। समितियां करोड़ों रुपये की देनदारी होने की वजह से घाटे में चली गईं। इससे मिलों ने उनको सहयोग देना बंद कर दिया। अब यह संभव नहीं रह गया है।
केन यूनियन घुघली के चेयरमैन शरद कुमार उर्फ बबलू सिंह का कहना है कि समितियों की हालत काफी खराब हो चुकी है। इससे किसानों को कर्ज पर खाद-बीज दिया जाना संभव नहीं है। नकद भुगतान करने पर खाद दी जा रही है। बीज वितरण की कोई व्यवस्था नहीं है।
1.15 करोड़ रुपये बकाया
गन्ना समितियों ने वर्ष 2008-09 से ऋण के रूप में खाद-बीज का वितरण बंद कर दिया है। समितियों का किसानों के जिम्मे करीब 1.15 करोड़ रुपये बकाया है। यह बकाया वर्ष 2003-04 से ही चल रहा है। हालांकि समिति हर साल किसानों के पर्ची भुगतान से कटौती का प्रस्ताव मिल के पास भेजती है, लेकिन किसान नाम बदलकर गन्ना सप्लाई कर देते हैं। इससे रिकवरी नहीं हो पा रही है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

क्या आपने देखा है अमीषा का ये ‘रेड अलर्ट’ फोटोशूट

  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

गैस्ट्रिक की समस्या से छुटकारा दिलाएगा गजब का ये आसन

  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

सोते समय अगर मुंह से बहती है लार तो ये उपाय दिलाएंगे छुटकारा

  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

मिलिए नेपाल के सुपरस्टार से जिसकी हर फिल्म होती है ब्लॉकबस्टर, लेता है मोटी फीस

  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

अब नहीं करनी पड़ेगी डाइटिंग..ये 5 तरीके चंद दिनों में घटाएंगे वजन

  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

Most Read

J&K: आर्मी के जवानों ने थाने में घुसकर पुलिस को पीटा, अब्दुल्ला बोले- कार्रवाई हो

soldier beat policemen in jammu six injured
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

अखिलेश यादव की बैठक के दौरान सपा नेता उमाशंकर चौधरी को हार्टअटैक, मौत

sp leader uma shankar chaudhary died in akhilesh yadav meeting
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

कभी 30 रुपये देकर इसी किराये के मकान में रहते थे कोविंद, अब यहां जश्न

some important facts about ramnath kovind
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
  • +

खेती में घाटे से परेशान था किसान, खुदाई में मिला 15 लाख का हीरा

Farmer tired of crop losses in MP digs up diamond
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

सीएम योगी का मेगा प्लान, 10 लाख युवाओं को ट्रेनिंग देकर देंगे नौकरी

chief minister yogi adityanath press conference in Lucknow.
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

गुड़िया गैंगरेप हत्याकांड: CBI ने शुरू की जांच, कई लोगों से पूछताछ की तैयारी

CBI Investigation in kotkhai gangrape and murder case.
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!