आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

गन्ने की मिठास हो रही फीकी

Maharajganj

Updated Sun, 28 Oct 2012 12:00 PM IST
खुशहालनगर। गन्ना किसानों की उपेक्षा के चलते गन्ने की मिठास फीकी होती जा रही है। पहले किसानों को चीनी मिलों की गारंटी पर खाद और गन्ने का बीज कर्ज में उपलब्ध कराया जाता था। लेकिन यह पिछले चार साल से बंद है। इससे जिले में गन्ने की खेती कम होती जा रही है।
चीनी मिलों और केन यूनियन की आपसी सहमति से गन्ना विकास नीति तैयार की गई थी। इसके तहत केन यूनियन किसानों को कर्ज पर गन्ने का बीज और खाद उपलब्ध कराता था। कर्ज की कटौती मिलें किसानों को भुगतान देेते समय कर लेती थीं। गरीब किसानों को इससे काफी फायदा होता था। गन्ने की बुआई समय से हो जाती थी। इसके अलावा चीनी मिलें और केन यूनियन विकास कार्य भी मिलकर कराते थे। इसके तहत पुल, पुलिया और लिंग रोड का निर्माण कराया जाता था। मिलों की ओर से बनवाए गए सीसी रोड, लिंक मार्ग और पुलिया आज भी कायम हैं।
मेदिनीपुर गांव निवासी गन्ना किसान रामसुभग सिंह और परसौनी निवासी शंभूशरण सिंह का कहना है कि पहले केन यूनियन बोर्ड से प्रस्ताव पास कर प्रति किसान दो से तीन पैसे प्रति कुंतल की कटौती विकास के लिए करते थे। इससे एकत्रित रुपये से विकास के कार्य होते थे। पहले पासबुक दिखाकर खाद और बीज सस्ते कर्ज पर मिल जाते थे। लेकिन अब यह बातें पुरानी होती जा रही हैं।
इस संबंध में जिला गन्ना अधिकारी डॉ. राजेश धर द्विवेदी का कहना है कि गन्ना समितियां जिला सहकारी बैंकों से ऋण लेकर किसानों को खाद-बीज मुहैया कराती थीं। समितियां करोड़ों रुपये की देनदारी होने की वजह से घाटे में चली गईं। इससे मिलों ने उनको सहयोग देना बंद कर दिया। अब यह संभव नहीं रह गया है।
केन यूनियन घुघली के चेयरमैन शरद कुमार उर्फ बबलू सिंह का कहना है कि समितियों की हालत काफी खराब हो चुकी है। इससे किसानों को कर्ज पर खाद-बीज दिया जाना संभव नहीं है। नकद भुगतान करने पर खाद दी जा रही है। बीज वितरण की कोई व्यवस्था नहीं है।
1.15 करोड़ रुपये बकाया
गन्ना समितियों ने वर्ष 2008-09 से ऋण के रूप में खाद-बीज का वितरण बंद कर दिया है। समितियों का किसानों के जिम्मे करीब 1.15 करोड़ रुपये बकाया है। यह बकाया वर्ष 2003-04 से ही चल रहा है। हालांकि समिति हर साल किसानों के पर्ची भुगतान से कटौती का प्रस्ताव मिल के पास भेजती है, लेकिन किसान नाम बदलकर गन्ना सप्लाई कर देते हैं। इससे रिकवरी नहीं हो पा रही है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

अब ज्वेलरी खरीदने पर लगेगा टैक्स, देख लें कितना?

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

भारत के कई शहरों में बढ़ रहा सेक्स का ये नया तरीका

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

इस गर्मी में बड़े सस्ते दामों पर AC बेचेगी सरकार

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

'मुझे टेप लगाना पसंद नहीं , बिना कपड़ों के इंटीमेट सीन करना अच्छा लगता है'

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

क्या आप भी लगाते हैं डियोड्रेंट ? तो जरूर पढ़ें ये खबर

  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

जबर ख़बर

30 शौचालयों के गड्ढों की सफाई में जुटे केंद्रीय सचिव '

Read More

Most Read

पांच दिन बंद रहेंगे बैंक

Banks closed five days
  • गुरुवार, 16 फरवरी 2017
  • +

वोट डालने के बाद ये क्या कह गईं डिम्पल यादव

after vote saying dimple yadav
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

मुलायम ने डाला वाेट, भाई शिवपाल के लिए कर दिया ये बड़ा एलान

mulayam singh yadav statement for shivpal singh yadav
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

खुशखबरी : 15 अप्रैल से यहां हाेगी सेना रैली भर्ती, 13 जिलाें के अभ्यर्थी अभी करें अावेदन

sena bharti rally in kanpur
  • शुक्रवार, 17 फरवरी 2017
  • +

सीएम अखिलेश ने चाचा शिवपाल काे डाला वाेट, बाेले, बुअा जी रेस से बाहर

akhilesh yadav voting in etawah
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

सपा और बसपा को सपोर्ट करने वाले दो गुट भ‌िड़े, देखें यूपी चुनाव के Highlights

 Uttar Pradesh election third phase.
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top