आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

सेठ घाट पर आज उमड़ेगा श्रद्धा का सैलाब

Lakhimpur

Updated Mon, 19 Nov 2012 12:00 PM IST
सूर्य अराधना का पर्व छठ पूजा शुरू
सिटी रिपोर्टर
लखीमपुर खीरी। सोमवार की शाम और मंगलवार की सुबह शहर के सेठ घाट पर श्रद्धा का सैलाब दिखेगा। छठ पूजा का अनुष्ठान शुरू हो चुका है। शनिवार से शुरू हुई छठ पूजा की प्रक्रिया मंगलवार की सुबह उदय होते सूर्य को अर्ध्य देने के साथ समाप्त होगी। इसके लिए सेठ घाट पर व्यापक तैयारियां की गई हैं। पूरे आयोजन स्थल को भव्यता से सजाया गया है।
छठ पूजा का पर्व विहार और पूर्वांचल में खास तौर से मनाया जाता है। संतानों की सलामती के लिए की जानी वाली पूजा आज पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो चुकी है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की छठ को मनाया जाने वाला यह पर्व तीन दिनों तक चलता है। मुख्य पूजा के दो दिन पहले यानि चौथ से महिलाएं ब्रत रखना शुरू कर देती हैं। यह पूजा मंदिरों में न होकर घर के पूजा स्थल और नदियों के किनारे होती है।
पहले दिन यानि चौथ को मौसमी फल, केले की पूरी गौर और इस पर्व पर खास तौर से बनाए जाने वाले पकवान ठेकुआ जिसे विहार में खजूर कहते हैं। बाजरे के आटे और गुड़ और तिल से बना यह पकवान पुआ जैसा होता है के साथ नारियल, मूली, अखरोट, बादाम, लाल पीला कपड़ा और एक बड़ा घड़ा जिस पर 12 दीपक लगे हों पूजा स्थल पर रखकर उपवास करती है। शाम को लौकी, चने की दाल और चावल खाकर व्रत तोड़ती हैं।
दूसरे दिन महिलाएं पूरे दिन उपवास रखकर शाम को गन्ने के रस की खीर बनाकर पूजास्थल पर पांच जगह मिट्टी के बर्तनों में रखकर पूजा की जाती है। इसी खीर को उपवासी महिलाएं खाकर व्रत तोड़ती है और इसी का प्रसाद वितरित किया जाता है।
तीसरे दिन 24 घंटे का निर्जल व्रत होता है। शाम को बांस की टोकरी में पूजा की सारी सामग्री रखकर घर के पूजा स्थल पर रख दिया जाता है। गन्ने का छत्र बनाकर बनाकर मिट्टी का बड़ा बर्तन, दीपक तथा मिट्टी का हाथी बनाकर रखा जाता है। उसी छत्र के नीचे पूजा का सारा सामान भी रख दिया जाता है। पूजा अर्चना के बाद सारी पूजा सामग्री नदी किनारे ले जाई जाती है। जहां नदी किनारे रंगोली बनाकर पूजा सामग्री और नारियल अर्पित करती हैं। महिलाएं घुटनों तक जल में खड़ी होकर अस्ताचल सूर्य को अर्ध्य देती हैं। अगले दिन उदय होते सूर्य को अर्ध्य देने के साथ छठ पूजा का समापन होता है।
00000
यह है छठ पूजा का इतिहास
छठ पूजा की शुरुआत महाभारत काल में कुंती ने सूर्य की अराधना पुत्र कर्ण के जन्म के समय से मानी जाती है। मान्यता है कि छठ देवी सूर्य भगवान की बहन हैं और उन्हीं का प्रसन्न करने के लिए यह पूजा होती है। जीवन के महत्वपूर्ण अवयवों में सूर्य, जल की महत्ता को मानते हुए इन्हीं को साक्षी मानकर नदी के किनारे सूर्य की आराधना की जाती है।
  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

गराज के सामने दिखी सिर कटी लाश, पुलिस ने कहा, 'हमें बताने की जरूरत नहीं'

  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

जब राखी सावंत को मिला राम रहीम का हमशक्ल, सामने रख दी थी 25 करोड़ रुपए की डील

  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

आज तक छिपे हुए थे हनीप्रीत के ये राज, राखी सावंत ने खोली सारी पोल

  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

ये है दुनिया का सबसे महंगा मैनीक्योर, बदल देगी आपके हाथों की काया

  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

ब्वॉयफ्रेंड हो गया है नाराज, अब चुटकियों में मानेगा ऐसे

  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

Most Read

BJP को हराने के लिए, बिहार के बाद झारखंड में महागठबंधन

after bihar Anti-BJP front in jharkhand almost ready, says Lalu
  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

अगर आप भी माता वैष्णो देवी के दर्शन को जा रहे हो तो जरूर पढ़ें यह खबर

Chopper service to Mata Vaishno Devi shrine suspended today
  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

नवरात्र में टूट सकती है सपा, मुलायम-शिवपाल बनाएंगे नई पार्टी, ये हो सकता है नाम

samajwadi party will be divided mulayam and shivpal announce new party
  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

सेना में भर्ती रैली की तारीखों में हुआ बदलाव, यहां जानिए नई तारीखें...

army recruitment in lucknow and faizabad
  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

मध्यप्रदेश के शिक्षा मंत्री ने मदरसों से की अपील, कहा- रोज फहराएं तिरंगा

madhya pradesh education minister appeal madrasas to daily unfurl tricolour
  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

राज्य कर्मचारियों को सातवें वेतनमान के एरियर भुगतान का आदेश जारी, अभी करना होगा इंतजार

Arrears of seventh pay commission will be paid from December
  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!