आपका शहर Close

तराई में लुट रहा प्रकृति का खजाना

Lakhimpur

Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष
जहरीली हो रही हवा और नदियों का पानी भी
प्राकृतिक संसाधनों के अंधाधुध दोहन से पर्यावरण असंतुलन बढ़ा
लखीमपुर खीरी। तेजी से हो रहे जंगलों के सफाए से तराई की हरियाली उजड़ रही है। औद्योगिक कचरे और शहर के कूड़ा-करकट से नदियों का पानी जहरीला हो रहा है। जनरेटर और वाहनों का धुआं हवा को विषैला बना रहा है। प्राकृतिक संपदा से मालामाल इस जिले की हरियाली को जैसे ग्रहण लग गया है। इसे बचाने के प्रति न हम सचेत हैं न संबधित विभाग। जो प्रयास हो भी रहे हैं वे केवल हवा-हवाई हैं, और जागरूकता अभियानों तक ही सीमित हैं।
पर्यावरणविदों का मानना है कि मौसम में आ रहे बदलाव का कारण पर्यावरण का असंतुलन है। पिछले कुछ वर्षों से एकाएक गर्मी बढ़ी है, जाड़े और बरसात में कमी आई है। पर्यावरण प्रदूषण के चलते लोगों में बीमारियां बढ़ी हैं तो फसलों में रोग। इसके चलते किसानों को कीटनाशक दवाओं का प्रयोग करना पड़ रहा है। कीटनाशकों के ज्यादा प्रयोग से चिड़ियों और भूमि में रहने वाले जीव और जीवाणु नष्ट हो रहे हैं। पक्षियों के लिए मोबाइल टावरों की तरंगें भी काफी घातक साबित हो रही हैं। पर्यावरण असंतुलन के भयावह परिणाम सामने हैं लेकिन हम अब भी चेतने का नाम नहीं ले रहे हैं।
00000
कटान की दर से नहीं हो रहा पौधरोपण
जिन विभागों पर जंगल और हरियाली बचाने की जिम्मेदारी है। उन्हीं की शह और साठ-गांठ से पेड़ों का कटान हो रहा है। जितने पेड़ों के परमिट बनते हैं उससे कई गुना ज्यादा पेड़ों को काट दिया जाता है। परमिट जारी करते समय यह भी नहीं देखा जाता कि पेड़ सूखे हैं या हरे। परमिट जारी करते समय परमिट लेने वाले व्यक्ति को कम से कम उतने ही पौधे लगाने की हिदायत दी जाती है। इसके लिए वन विभाग में प्रतिभूति भी जमा कराई जाती है, लेकिन काटे गए पेड़ों के बदले नए पेड़ लग ही नहीं रहे हैं। इससे हरियाली उजड़ती जा रही है।
0000
कचरा बना रहा नदियों का पानी जहरीला
शहर और गांवों की लाइफ लाइन कही जाने वाली नदियों में औद्योगिक और शहरी कचरा डाले जाने से उनका पानी जहरीला होता जा रहा है। शहर के निकट बहने वाली नदियों का पानी पीने से कई बार मवेशियों की मौत भी हो चुकी हैं। मछलियां मरने की घटनाएं तो आए दिन होती रहती हैं। नदियों का पानी विषैला होने से जलीय जीवों का संतुलन भी बिगड़ता जा रहा है।
00000
शहर की फिजा में धुएं का जहर
शहर से सटे क्षेत्रों में लगी औद्योगिक इकाइयों की चिमनियों से निकलता धुआं और बिजली न रहने पर शहर में चलते हजारों की संख्या में जनरेटर इतना धुंआ उगलते हैं कि लोगों को सांस लेना तक मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा सड़कों पर फर्राटा भरते वाहन भी बड़ी मात्रा में धुआं छोड़ रहे है। वायु प्रदूषण से लोगों को अस्थमा, टीबी और दूसरी सांस संबंधी बीमारियां हो रही हैं। 000000
ध्वनि प्रदूषण से बहरे हो रहे लोग
वाहनों में लगे प्रेशर हार्न, प्रचार के लिए शहर में चलते कानफोड़ू लाउडस्पीकर, शादी विवाह और अन्य मांगलिक समारोहों में तेज आवाज के साथ डीजे, साउंड सिस्टम, तेज धमाके वाले पटाखों लोगों को सुनने की समस्या होने लगी है। डॉक्टरों का कहना है कि यदि ध्वनि प्रदूषण का यही हाल रहा तो आने वाले कुछ वर्षों में आधे से ज्यादा लोग बहरे हो जाएंगे।
0000
ओजोन छतरी भी प्रभावित, बढ़ रही गर्मी
पर्यावरण असंतुलन का सबसे बड़ा कारण बढ़ती जनसंख्या और प्राकृतिक संसाधनों का अंधाधुंध दोहन है। इसके चलते वायुमंडल में जीवनदायनी आक्सीजन की कमी होती जा रही है। वायुमंडल में 20 प्रतिशत कार्बन डाईआक्साइड की मात्रा बढ़ चुकी है। एसी और फ्रिज में इस्तेमाल होने वाली क्लोरो फ्लोरो कार्बन गैस के उत्सर्जन से ओजोन पर्त को भारी क्षति पहुंच रही है। इससे ओजोन पर्त के ऊपर की हानिकारक किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ रही हैं। यही कारण है कि इतनी अधिक गर्मी पड़ रही है।
-डॉ. सुनील त्रिपाठी, पर्यावरणविद, प्रवक्ता वनस्पति विज्ञान, वाईडी कालेज, लखीमपुर
00000
पर्यावरण असंतुलन से बढ़ रही बीमारियां
पर्यावरण असुंतलन के चलते लोग तरह-तरह की बीमारियों के शिकार हो रहे हैं। वायु प्रदूषण से लोगों में अस्थमा और अन्य सांस संबंधी बीमारियां हो रहीं हैं। जबकि ध्वनि प्रदूषण के चलते लोगों में बहरापन आता जा रहा है। जल प्रदूषण से लोगों में त्वचा रोग और पेट संबंधी बीमारियां हो रहीं हैं।
-डॉ. वीके श्रीवास्तव, रिटायर्ड जिला क्षय रोग अधिकारी, लखीमपुर
Comments

Browse By Tags

natures treasure

स्पॉटलाइट

पहली बार सामने आईं अर्शी की मां, बेटी के झूठ का पर्दाफाश कर खोल दी करतूतें

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

धोनी की एक्स गर्लफ्रेंड राय लक्ष्‍मी का इंटीमेट सीन लीक, देखकर खुद भी रह गईं हैरान

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

बेगम करीना छोटे नवाब को पहनाती हैं लाखों के कपड़े, जरा इस डंगरी की कीमत भी जान लें

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: फिजिकल होने के बारे में प्रियांक ने किया बड़ा खुलासा, बेनाफशा का झूठ आ गया सामने

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Photos: शादी के दिन महारानी से कम नहीं लग रही थीं शिल्पा, राज ने गिफ्ट किया था 50 करोड़ का बंगला

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Most Read

भुवी-नूपुर के बीच फेरों की रस्म शुरू, डीजे पर जमकर थिरके रिश्तेदार

Bhuvi procession came out, my friend marriage on dance, will be in a while
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

हनीमून से पहले नूपुर ने पूछे कई सवाल? भुवनेश्वर ने अपने अंदाज में दिए जवाब

Nupur asked many questions before the honeymoon? Bhuvneshwar responds in his own style
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

आईआईटी बीएचयू के प्रोफेसर करेंगे अखिलेश सरकार में शुरू हुए इन प्रोजेक्ट की जांच

IIt bhu professor will test the lok bhavan construction
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

दरवाजा खोला गया तो खून से सना शव पड़ा था, पति ने चाकू से गोदकर मार डाला

Husband killed wife due to illicit relationship with other man
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

हार्दिक पटेल मामले में अखिलेश का बयान, कहा- 'किसी की प्राइवेसी को सार्वजनिक करना बहुत गलत बात'

akhilesh yadav statement about hardik patel cd case
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

नोटबंदी से नहीं टूटी थी माओवादियों की 'कमर', ऐसे जमा करवाए थे पुराने नोट

demonetization did not hurt Maoist they deposited old 500 1000 notes in bank
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!