आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

बीआईसी के लिए 161.98 करोड़ रुपए स्वीकृत

Kanpur

Updated Sat, 18 Aug 2012 12:00 PM IST
कानपुर। लाल इमली मिल के लिए खुशियों की सौगात है। इसे पूरी क्षमता क्षमता से चलाने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। केंद्र सरकार ने इसके लिए 160.98 करोड़ रुपए स्वीकृत कर दिए हैं। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह अहम फैसला लिया गया। इस रकम का इस्तेमाल लाल इमली और धारीवाल मिल को फिर खड़ा करने के लिए किया जाएगा। इसके अलावा देनदारियां चुकाई जाएंगी, कुछ मजदूरों, कर्मचारियों को वीआरएस दिया जाएगा और संपत्तियों को फ्रीहोल्ड करवाया जाएगा।
ब्रिटिश इंडिया कॉरपोरेशन (बीआईसी) की मिलों लाल इमली और धारीवाल के कर्मचारियों के वेतन, वीआरएस और अन्य देयों के मामले अरसे से लंबित हैं। लगभग तीन साल पहले 338 करोड़ रुपए का रिवाइवल प्लान स्वीकृत हुआ था पर मिला एक धेला नहीं। इस कारण लाल इमली और धारीवाल मिल का उत्पादन लगातार घटता जा रहा है। कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ंने बताया कि बीआईसी को 160.98 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं। इससे देनदारियां निपटेंगी, बकाए का भुगतान होगा और लाल इमली चमकाई जाएगी। संपत्ति फ्री-होल्ड की अनुमति मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। इसके लिए 25 फीसदी धन का भुगतान भी किया जा चुका है।

बच जाएगी अरबों की संपत्ति
मामूली बकाएदारी न चुकाने के चलते लिक्विडेशन में गईं बीआईसी की एल्गिन मिल और कानपुर टेक्सटाइल की संपत्तियां अरबों रुपये की हैं। मजदूर यूनियनें अरसे से लिक्विडेशन समाप्त कराने को लेकर आंदोलन कर रही हैं। पर धन के अभाव में इन्हें मुक्त नहीं कराया जा सका था। अब संपत्तियों को बचाया जा सकेगा। साथ ही लाल इमली, एल्गिन-एक, एल्गिन-दो और कानपुर टेक्सटाइल की जमीन फ्री-होल्ड कराई जा सकेगी। तब जमीन को बेचकर मिल चालू करने के लिए और रकम इकट्ठा की जाएगी।

इस तरह काम आएंगे 161 करोड़
- बीआईसी कर्मियों और मजदूरों का बकाया वेतन
- वीआरएस के लिए फिलहाल 17.10 करोड़ रुपए
- एसबीआई के लोन की अदायगी के लिए 11.50 करोड़
- बाकी पैसे संपत्तियों के फ्री-होल्ड के लिए

एक नजर
- लाल इमली और धारीवाल के रिवाइवल को 338 करोड़ रुपए की जरूरत है।
- फिलहाल 161 करोड़ रुपए मिलेंगे। बाकी जमीन बेचकर जुटाए जाएंगे।
- 900 कर्मचारियों और मजदूरों को वीआरएस देने का प्रस्ताव है।
- कर्ज और अन्य बकाएदारी चुकाने के लिए 100 करोड़ की जरूरत।


लाल इमली का हाल
- लाल इमली में करीब 1100 मजदूर और कर्मचारी हैं।
- मिल में क्षमता का बमुश्किल पांच प्रतिशत उत्पादन हो रहा है।
- कच्चे माल और आधुनिक मशीनों का अभाव है लाल इमली में।
- आधुनिकीकरण के लिए 100 करोड़ की और आवश्यकता है।

धारीवाल का हाल -
- लुधियाना स्थित धारीवाल मिल में 850 मजदूर और कर्मचारी हैं।
- मिल में क्षमता का बमुश्किल 10 फीसदी उत्पादन हो रहा है।
- कच्चे माल और आधुनिक मशीनरी का अभाव यहां भी है।
- आधुनिकीकरण के लिए लगभग 70 करोड़ की जरूरत है।
--------------------

बीआईसी की अन्य मिलों के हाल
- कानपुर टेक्सटाइल, एल्गिन एक और एल्गिन दो मिलें बंद हो चुकी हैं।
- इन मिलों के 27 कर्मचारी लाल इमली में समायोजित किए जा चुके हैं।
- बीआईसी मुख्यालय में 65-70 अधिकारी-कर्मचारी कार्यरत हैं।

फायदे :-
- रोजगार के अवसर बढ़ेंगे, राज्यों में डीलरों की नियुक्ति होगी।
- सस्ते उत्पाद उपलब्ध होंगे, निवेशकों का रुझान बढ़ेगा।
- अन्य मिलों की चालू होने के रास्ते भी खुल सकते हैं।
-शहर के औद्योगिक स्वरूप की बहाली में बड़ा कदम होगा।


लाल इमली के मशहूर उत्पाद
- मेघदूत, चक्रवर्ती, हिमालया, सीजी-379 ब्रांड के कंबल
- 60 नंबर लोई, काश्मीरी लोई
- शूटिंग-शर्टिंग
- बीसी-95 ब्लेजर

ऐतिहासिक मिल
लाल इमली मिल1876 में खुली थी। आजादी के बाद इसे उद्योगपति हरिदास मुंद्रा ने खरीद ली। कुछ साल बाद कलकत्ता के उद्योगपति बनवारी लाल बाजौरिया ने मिल खरीद ली। 11 जून 1981 में भारत सरकार ने इसका टेकओवर किया। तब पांच हजार से ज्यादा मजदूर थे। मिल पूरी क्षमता से चलती थी। इसके बाद हड़ताल, घपलों-घोटालों और मजदूर यूनियनों के अड़ियल रवैये के चलते मिल के हालत खराब होने लगी। 1992 में बीमार घोषित कर दी गई। 2009 में 338 करोड़ का रिवाइवल पैकेज स्वीकृत हुआ।



अरसे बाद खुशखबरी आई है। हम लोग इससे उत्साहित हैं। अब मिल को पूरी क्षमता से चलाना संभव हो सकेगा। मजदूर पूरी ताकत से मिल को फिर खड़ा करने में सहयोग करेंगे।
सूती मिल मजदूर यूनियन के अध्यक्ष बीएम त्रिपाठी

सरकार के इस फैसले का स्वागत है। वेतन न मिल पाने से दुश्वारियां झेल रहे मजदूरों को राहत मिलेगी। मांग है कि वेतन और भत्ते भी बढ़ाए जाएं ताकि महंगाई से मुकाबला किया जा सके।
सूती मिल मजदूर यूनियन के महामंत्री राजू ठाकुर

मजदूरों का संघर्ष रंग लाया। खुशहाली आ सकती है। कम से कम दो वक्त की रोटी तो नसीब होगी और बच्चे पढ़ सकेंगे। अब मिलों की संपत्तियां वापस आ सकेंगी।
बीआईसी कर्मचारी यूनियन के वीरेंद्र दुबे
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

bic 161.98

स्पॉटलाइट

पतलों नहीं मोटे मर्दों की सेक्स लाइफ होती है शानदार, रोचक शोध ने खोला राज

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

पांच जादुई चीजें, इन्हें पास रखने से हमेशा नोटों से भरी रहेगी जेब

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

इस हीरोइन के कुत्ते भी अलग गाड़ी में घूमते थे, आखिरी वक्त में दवा को भी नहीं थे पैसे

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

100 करोड़ की डील कर कोहली ने जताई इस खिलाड़ी जैसी रफ्तार पाने की इच्छा

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

इस दिग्गज को अपना जोड़ीदार बनाना चाहते हैं रॉजर फेडरर

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

Most Read

पांच दिन बंद रहेंगे बैंक

Banks closed five days
  • गुरुवार, 16 फरवरी 2017
  • +

रायबरेली पहुंची सोनिया की चिट्ठी- 'मोदी ने आपका सब कुछ छीन लिया'

for the first time soina gandhi does not take part in election campaign at raibarielly
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

बीजेपी वाले बहकाने को कुछ भी बोल सकते हैं: अखिलेश

akhilesh yadav rally bahraich
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

खुशखबरी : 15 अप्रैल से यहां हाेगी सेना रैली भर्ती, 13 जिलाें के अभ्यर्थी अभी करें अावेदन

sena bharti rally in kanpur
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

यूपी चुनाव 2017 : एक गांव में एक वोट पड़ा दूसरे में एक भी नहीं, कारण जानकर रह जाएंगे हैरान

vilagers  voting boycott in kanpur
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

सेक्स स्कैंडल में फंसे बिहार कांग्रेस उपाध्यक्ष

Bihar: Brajesh Pandey resigns from  Congress after lodged in sexual exploitation case
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top