आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

जब नेता जी बोले, ‘वेरी गुड लक्ष्मी, नाइस सेलेक्शन’

Kanpur

Updated Wed, 25 Jul 2012 12:00 PM IST
कानपुर। ‘बात जनवरी 1944 की है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस बर्मा आए थे। रंगून में अपने एक परिचित के यहां ठहरे थे। वहां जब हम उनसे मिलने पहुंचे तो चार लड़कियां और खड़ी थी। डॉ लक्ष्मी ने मेरा हाथ पकड़ा और अंदर ले गईं। नेताजी ने एक-दो मिनट इधर-उधर की बात की और बोले-कागज पर पढ़ने-लिखने से कुछ नहीं होगा, अमल करिए, तभी आजादी मिलेगी। कल से अपना काम शुरू कर दीजिए। फिर डॉ लक्ष्मी की तरफ देखकर, बोले-वेरी गुड लक्ष्मी, नाइस सेलेक्शन।’
आजाद हिंद फौज की लेफ्टीनेंट रहीं मानवती आर्या ने मंगलवार को अमर उजाला से पुरानी यादें ताजा कीं। अपनी कैप्टन डॉ लक्ष्मी सहगल के आखिरी दर्शन के लिए वह मेडिकल कालेज आईं थी। बोलीं-‘नेताजी डॉ लक्ष्मी की कबिलियत पर बड़ा भरोसा करते थे। डाक्टर साहब ने ही मुझे नेताजी से मिलवाया था।’ वह एक नजर में पहचान लेती थीं कि किस सीने में देशभक्ति की आग की चिंगारी है। रानी झांसी रेजीमेंट में एक-एक सदस्य को उन्होंने छांटकर भरती किया। इन ‘फौजियों’ को नेताजी ने एक ही नजर में ‘ओके’ कर दिया था।
रेजीमेंट की टुकड़ी रंगून से दूसरी जगह शिफ्ट हुई थी। दो-तीन बैग में डॉ लक्ष्मी का सामान आया था। उन्होंने सारा सामान गरीबों को बांट दिया। जो बिस्तर रेजीमेंट की दूसरी फौजियों को मिले थे, वही खुद भी लिए। ‘रेजीमेंट के गठन के पहले हम लोग इंडियन इंडिपेंडेंस लीग (आईआईएल) के सदस्य के रूप में काम करते थे। खासतौर पर भारत की स्थिति के संबंध में महिलाओं और बच्चों को समझाते थे। देशभक्ति की इस मुहिम को नेताजी के आने के बाद अभिव्यक्ति मिल गई।’
2 जुलाई 1943 को रानी झांसी रेजीमेंट के गठन के बाद से आरजी हुकूमत के वक्त तक नेताजी सुभाषचंद्र बोस आजाद हिंद फौज के विभिन्न मसलों की रणनीति पर डॉ लक्ष्मी से बात करते थे। आरजी हुकूमत में उन्हें मंत्री बनाया गया था। डॉ लक्ष्मी और उनकी साथी महिलाओं का हौसला देखकर नेताजी ने रानी झांसी रेजीमेंट के गठन की अनुमति दी थी। बाकायदा सबको गोली चलाने का प्रशिक्षण और 303 बोर की रायफल दी गई थी। फंड इकट्ठा करने के लिए ‘हम लोग एक जेवर पहन कर जाते।
भाषण के दौरान जेवर उतार कर रख देते कि जिसका देश गुलाम हो उसे गहना पहनने का हक नहीं है। दूसरी महिलाएं भी अपने जेवर उतार देतीं। इसे नेताजी को देते। गहने बेचकर फौज के लिए हथियार, कारतूस आदि खरीदे जाते।’ इस मेहनत से डॉ लक्ष्मी की अगुवाई में रेजीमेंट मजबूत की गई थी। अन्याय के खिलाफ यही जुझारूपन डॉ लक्ष्मी के मिजाज में आखिरी लम्हे तक बना रहा।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

Toyota Camry Hybrid: नो टेंशन नो पोल्यूशन

  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

क्या करीना कपूर ने बदल दिया अपने बेटे तैमूर का नाम ?

  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

Oscars 2017: घोषणा किसी की, अवॉर्ड किसी को

  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

कजरारे कजरारे के बाद फिर बेटे बहू के साथ दिखेंगे बिग बी

  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

क्या आप भी दवा को तोड़कर खाते हैं? उससे पहले पढ़ें ये खबर

  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

Most Read

सपा मंत्री के काफिले पर हमला, 9 भाजपाई गिरफ्तार

attack on  sp minister awadesh prasad
  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

गोंडा में शिवसेना के प्रत्याशी पर हमला, तीन घायल

attack on a shivsena candidate in gonda.
  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

बदलेगा मौसम, हिमाचल के 10 जिलों में कल भारी ओलावृष्टि की चेतावनी

 Heavy HailStorm Forecast for Himachal from 28th Febrary.
  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

शिमला के रोहड़ू में कार हादसा, दो युवकों की मौके पर ही मौत

Two Killed in Car Accident at Rohru, Shimla.
  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +

बागी मंत्री को अख‌िलेश ने क‌िया कैब‌िनेट से बाहर

vijay mishra expelled from akhilesh cabinet
  • रविवार, 26 फरवरी 2017
  • +

सेना को अपशब्द कहने पर छात्र नेताओं में हुई मारपीट, कपड़े तक फाड़ डाले

clash in abvp sfs leaders at student center of punjab university due to use of word rapist for army
  • सोमवार, 27 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top