आपका शहर Close

नहीं थे आग बुझाने के पर्याप्त इंतजाम

Kanpur

Updated Mon, 29 Oct 2012 12:00 PM IST
कानपुर। जेके जूट मिल में शनिवार रात लगी आग रविवार सुबह 9 बजे तक आग सुलगती रही। आग कैसे लगी, कितना नुकसान हुआ, यह जांच पूरी होने पर ही सामने आ सकेगा लेकिन मुख्य अग्निशमन अधिकारी की मानें तो मिल में आग बुझाने के पर्याप्त साधन नहीं थे। जो थे वे जर्जर थे। मिल कर्मचारी भी आग बुझाने के लिए प्रशिक्षित नहीं थे। मिल प्रबंधन से एनओसी के कागजात मांगने के साथ ही नोटिस देने की तैयारी की गई है। मिल प्रबंधन से आग बुझाने में लगे फायर ब्रिगेड कर्मचारी, संसाधन के अनुरूप मेहनताना की वसूली की जाएगी। मिल के वीविंग सेक्शन में लगी आग रातभर सुलगती रही। रात 2 बजे तक 70 से ज्यादा दमकलकर्मी आग से जूझते रहे। 2 दमकलें और कई दमकलकर्मी सुबह तक आग बुझाने में लगे रहे।
फजलगंज फायर स्टेशन प्रभारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि मिल में बने बोरे और रा मैटेरियल बेतरतीब रखा था। बोरों की डंपिग गोदाम में नहीं की गई थी बल्कि बोरों के रोल मशीनों के ऊपर रखे थे। लपटें शांत होने के बाद बोरों के रोल को उलटाने-पलटाने के लिए पर्याप्त मजदूर नहीं थे। आग बुझाने का कोई भी सिस्टम अपग्रेड या पूर्णत: ठीक नहीं था। हाईड्रेंट सिस्टम पूरी क्षमता से नहीं चला। मुख्य अग्निशमन अधिकारी एसके कुशवाहा ने बताया कि आग बुझाने में 15 दमकल, 70 से ज्यादा कर्मचारी और करीब 2 लाख लीटर पानी लगा। फौरी जांच में मिल में कई स्तर की लापरवाही उजागर हुई है। दीवार और छत का काफी हिस्सा गिरने से राहत कार्य में दिक्कत आई। मिल के लोगों से सुलग रहे बोरे हटाने के लिए लेबर देने को कहा गया लेकिन हाथ खड़े कर दिए गए। मिल में यदि सही उपकरण और मजदूर आग के लिए प्रशिक्षित होते तो इतना भीषण हादसा न होता। मिल प्रबंधन को नोटिस दी जा रही है कि वे उपकरण सही कराएं, मजदूरों को प्रशिक्षित करने का अभियान चलाएं। मिल प्रबंधन से आग बुझाने में लगे कर्मचारी, संसाधन के अनुरूप मेहनताना की वसूली की जाएगी। आग लगने के कारण और नुकसान की विस्तृत जांच की जा रही है।


इनसेट:

40 फीसदी स्थानों पर नहीं है अग्निरोधी संसाधन
कानपुर। शहर की करीब 40 फीसदी बहुमंजिला इमारतों और कारखानें ऐसे हैं, जहां आग बुझाने के संसाधन नहीं हैं। मुख्य अग्निशमन अधिकारी एसके कुशवाहा ने कहा कि सभी फायर स्टेशन प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि वे अभियान चलाकर बहुमंजिला इमारतों और कारखानों का निरीक्षण करें। जहां मानक के अनुरूप आग्निरोधी उपकरण नहीं है, उनकेमालिकों को नोटिस जारी देकर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। शहर में करीब 300 बहुमंजिला इमारतें हैं। इनमें लगभग 100 ऐसी हैं, जो 5 मंजिल से ज्यादा ऊंची हैं। तकरीबन 5000 छोटे-बड़े कारखानें हैं। उन्होंने कहा कि आग बुझाने के यंत्रों का महीने में एक बार रिहर्सल करना चाहिए, ताकि वे क्रियाशील रहें।
Comments

Browse By Tags

fire apparatus

स्पॉटलाइट

इसे कहते हैं 'Bang-Bang आविष्कार', कबाड़ से बना दी इतनी महंगी कार

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

Oops स्विमसूट में ये क्या कर रही हैं ईशा गुप्ता, तस्वीर देख कह उठेंगे 'पोजिंग क्वीन'

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

सिर्फ क्रिकेटर्स से रोमांस ही नहीं, अनुष्का-साक्षी में एक और चीज है कॉमन, सबूत हैं ये तस्वीरें

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

पहली बार सामने आईं अर्शी की मां, बेटी के झूठ का पर्दाफाश कर खोल दी करतूतें

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

धोनी की एक्स गर्लफ्रेंड राय लक्ष्‍मी का इंटीमेट सीन लीक, देखकर खुद भी रह गईं हैरान

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

Most Read

भुवी-नूपुर की रिसेप्शन पार्टी शुरू, डीजे पर डांस करेंगे दोस्त व रिश्तेदार

Bhuvi procession came out, my friend marriage on dance, will be in a while
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

हनीमून से पहले नूपुर ने पूछे कई सवाल? भुवनेश्वर ने अपने अंदाज में दिए जवाब

Nupur asked many questions before the honeymoon? Bhuvneshwar responds in his own style
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

दरोगा भर्ती के लिए 12 से 22 दिसंबर के बीच होगी परीक्षा, जारी किए गए दिशानिर्देश

directions for SI recuitment issued.
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

बस कागजों में हटी यूपी में इन 12 माननीयों की सुरक्षा, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिए थे निर्देश

politician security did not remove properly
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

पद्मावती विवाद पर आसाराम ने खोला मुंह, जानिए क्या कहा

Asaram's statement on Padmavati controversy
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!