आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

नगर निगम: पूरा ध्यान गृहकर वसूली पर

Jhansi

Updated Wed, 14 Nov 2012 12:00 PM IST

झांसी। जैसे-जैसे वित्तीय वर्ष के महीने घटते जा रहे हैं, वैसे- वैसे नगर निगम के टैक्स विभाग की राजस्व वसूली की चिंता बढ़ती जा रही है। पहाड़ सा टारगेट पूरा करने के लिए बिल कलेक्टरों को साफ कह दिया गया है कि अभी से जुट जाओ, क्योंकि फरवरी - मार्च के इंतजार में बहुत देर हो जाएगी।
शासन ने इस बार नगर निगम को करीब 13 करोड़ रुपये राजस्व वसूली का लक्ष्य दिया है। लक्ष्य पूरा करने के लिए विभाग एड़ी चोटी का जोर लगा रहा है। इसके बाद भी अभी आंकड़ा आधे तक नहीं पहुंचा है। आमतौर पर गृहकर की वसूली में साल भर उतनी तेजी नहीं रहती है, जितने वित्त वर्ष के आखिरी दो महीने (फरवरी व मार्च) में होती है। दरअसल, कभी बीएलओ, कभी जनगणना तो कभी चुनाव आदि कार्यक्रमों में कर्मचारियों की ड्यूटी लगा दिए जाने के कारण वसूली का कार्य प्रभावित रहता है। ऐसे में कर्मचारी भी वर्ष के आखिरी समय में ही पूरा ध्यान टैक्स वसूली पर दे पाते हैं। चूंकि, टारगेट बड़ा और समय बहुत कम, ऐसे में अफसरों ने बिल कलेक्टरों को स्पष्ट कर दिया है कि फरवरी- मार्च का इंतजार मत करो, अभी से जुट जाओ। इसके लिए हाल ही में गाजियाबाद से स्थानांतरित होकर आए मुख्य कर निर्धारण अधिकारी रोहन सिंह ने एक रजिस्टर बनवा दिया है, जिसमें बिल कलेक्टरों को प्रतिदिन होने वाली वसूली का हिसाब- किताब दर्ज करना पड़ रहा है। इस व्यवस्था से उन कर्मचारियों को दिक्कत होने लगी है, जो दो-तीन दिन की आय इकट्ठी करके अफसरों को बढ़ा - चढ़ाकर बताते थे।
वहीं, महानगर क्षेत्र में होने वाली जमीन की खरीद- फरोख्त पर नगर निगम को निबंधन कार्यालय से मिलने वाली दो फीसदी स्टांप ड्यूटी वसूली के लिए भी अफसर सक्रिय हो गए हैं।

कार्यालय आने वालों को लपकने की होड़
झांसी। ज्यादा से ज्यादा वसूली दिखाने के चक्कर में टैक्स कर्मियों के बीच कार्यालय में गृहकर जमा करने आने वालों को लपकने की होड़ मच जाती है। नियमत: हाउस टैक्स संबंधित वार्ड के बिल कलेक्टर के पास ही जमा होना चाहिए। लेकिन, यदि कार्यालय में संबंधित बिल कलेक्टर मौजूद नहीं होता है तो दूसरे वार्ड का कर्मचारी भी गृहकर का पैसा लेकर गृहस्वामी को रसीद पकड़ा देता है। बाद में यह रसीद संबंधित क्षेत्र के बिल कलेक्टर या टैक्स अधीक्षक के रिकार्ड में अपडेटहोगी, इसकी कोई गारंटी नहीं होती है। बिल कलेक्टरों को तो सिर्फ अपनी वसूली का ग्राफ बढ़ाने की चिंता रहती है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

recovery grihkar

स्पॉटलाइट

खाने की इन चीजों को भूलकर भी दोबारा गर्म ना करें, पड़ सकता है भारी

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

कटप्पा का खुलासा, 'इस शख्स ने दिए थे बाहुबली को मारने के पैसे'

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

सीधे इंटरव्यू के जरिए डॉक्टरों की नियुक्ति, जल्द करें अप्लाई

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

रंग को लेकर पति से हुई तुलना को यूं भड़क उठी ये एक्ट्रेस

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

चैत्र नवरात्र को यादगार बना देंगे ये Free ऐप

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

Most Read

योगी सरकार के इस ऑर्डर ने उड़ाये ‘गुरुओं के होश’

yogi government orders surprised teacher
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

यूपी में अवैध कत्लखाने बंद करने पर बोले बाबा रामदेव, जानें- क्या कहा

 baba ramdev on illigal slaughter houses.
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

छात्रा बनकर थाने पहुंचीं सीओ ने दी तहरीर, मुंशी ने दर्ज नहीं की रिपोर्ट    

CO Vandana Sharma
  • सोमवार, 27 मार्च 2017
  • +

योगीराज में सूबे की चर्चित जिलाधिकारी बी. चंद्रकला प्रतिनियुक्ति पर पहुंचीं दिल्ली

Yogiraj discussed the District Magistrate B. chandrakala Delhi reached deputation
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

तीन तलाक के विरोध में हिंदू लड़के से किया विवाह

Jodhpur: Muslim Girl Marriage With Hindu Boy
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

ग्रेटर नोएडा में केन्याई लड़की को कैब से उतारकर पीटा

nigerian girl took out of auto and brutally beaten in greater noida
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top