आपका शहर Close

आज ही के दिन शहीद हुए थे दो सौ क्रांतिकारी

Jalaun

Updated Wed, 05 Sep 2012 12:00 PM IST
उरई (जालौन)। आजादी के लिए हुए गदर (1857-58) के दौरान पांच सितंबर को अंग्रेजों से लड़ते हुए सहाव के 200 क्रांतिकारियों ने अपनी जान न्यौछावर कर दी थी। इस घटना का वर्णन इतिहासकारों ने नहीं किया है, लेकिन उस समय की मिलेट्री रिपोर्ट में इसका विवरण मिलता है। प्रसिद्ध इतिहासकार डा.डीके सिंह ने बताया कि क्रांति के दमन के बाद अंग्रेज सरकार ने एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार करवाई थी। इसका शीर्षक था द रिवोल्ट इन सेंट्रल इंडिया कंपाइंड इन द इनटेलीजेंस ब्रांच आफ आर्मी हेड क्वार्टर इंडिया डिवीजन आफ द चीफ आफ द स्टाफ (फार आफीसियल यूज ओनली)। कहा जाता है बाद में जब भी कोई नया चीफ आफ द आर्मी भारत में चार्ज लेता था सबसे पहले इसको पढ़ता था।
डॉ. सिंह ने बताया कि कि घटना गदर के दौरान की है। मई 1858 के अंतिम सप्ताह में कालपी में क्र्रांतिकारियों की पराजय के बाद रावसाहब महारानी लक्ष्मीबाई के यहां से ग्वालियर चले गए थे। तब जनपद में नवनियुक्त डिप्टी कमिश्नर एएच टरनन ने समझा कि जनपद में क्रांति का दमन हो गया है, मगर यह उनकी भूल थी। सैनिकों के यहां से जाने के बाद क्रांति की कमान स्थानीय क्रांतिकारियों ने अपने हाथ में ले ली थी। उन्हीं में एक थे सहाव के लंबरदार चतुर सिंह।
चतुर सिंह ने सहाव की छोटी सी गढ़ी में स्थानीय क्रांतिकारियों को एकत्रित करना शुरु किया। इधर टरनन के खुफिया विभाग को खबर मिली कि सहाव की गढ़ी में तीन हजार विद्रोही एकत्रित हैं और जल्द ही किसी बड़ी कार्रवाई को अंजाम देने की फिराक में हैं। जिले की पुलिस इतने क्रांतिकारियों का मुकाबला नहीं कर सकती है। टरनन ने कानपुर में स्थित सैन्य अधिकारियों के पास सूचना भेजकर सहाव की गढ़ी पर आक्रमण करने की प्रार्थना की। टरनन की प्रार्थना पर सहाव पर आक्रमण हुआ। डॉ. सिहं के मुताबिक मिलेट्री रिपोर्ट के पृष्ठ नंबर 5 में सहाव के युद्ध का विवरण है। इस विवरण के अनुसार बिग्रडियर मैकइफ को सहाव आक्रमण की कमान सौंपी गी।
अंग्रेजी सेना ने चारों तरफ से गढ़ी पर गोले दागने शुरु कर दिया। मजबूरी में क्रांतिकारियों को गढ़ी से निकलना पड़ा। क्रांतिकारियों ने गढ़ी से निकलकर अंग्रेजों पर आक्रमण किया। सहाव से सरावन तक घमासान युद्ध छिड़ गया। क्रांतिकारी वीरता से लड़े परंतु अंत में पराजित हो गए। 5 सितंबर 1858 को सहाव के युद्ध में जिले के 200 क्रांतिकारियों ने अपने प्राण न्योछावर कर दिए। लेफ्टीनेंट डिक गंभीर रुप से घायल हुआ। मृत क्रांतिकारियों के शरीर युद्ध भूमि में यूं ही पड़े रहे। डर के मारे कोई उनको लेने आगे नहीं आया। कई दिनों के बाद टरनन ने उनको नदी में प्रवाहित करवा दिया।


Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

Bigg Boss 11: बंदगी के ऑडिशन का वीडियो लीक, खोल दिये थे लड़कों से जुड़े पर्सनल सीक्रेट

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

सुष्मिता सेन के मिस यूनिवर्स बनते ही बदला था सपना चौधरी का नाम, मां का खुलासा

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

'दीपिका पादुकोण आज जो भी हैं, इस एक्टर की वजह से हैं'

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

B'Day Spl: 20 साल की सुष्मिता सेन के प्यार में सुसाइड करने चला था ये डायरेक्टर

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

RBI ने निकाली 526 पदों के लिए नियुक्तियां, 7 दिसंबर तक करें आवेदन

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

Most Read

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

प्रदेश के अफसरों के लिए मुसीबत बना हुआ है मुख्यमंत्री योगी का ये फरमान...

cm yogi's order become a problem for officers in up
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

महात्मा गांधी को लेकर अनिल विज का विवादित बयान, कांग्रेस पर भी कसा तंज

bjp minister anil vij controversial statement on mahatma gandhi, congress
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

अमाक न्यूज एजेंसी का दावा- IS ने कराया श्रीनगर में आतंकी हमला, घाटी में पहली दस्तक

 Amaq News Agency of Islamic state has reported that IS first attack in the Kashmir
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

विस चुनाव में 50 प्लस सीटों के साथ सरकार बनाने का भाजपा का दावा

bjp will get 50 plus seats in himachal assembly elections: satpal satti
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

आईसीयू में भर्ती पूर्व सीएम एनडी तिवारी से मिलने दिल्ली पहुंचे योगी आदित्यनाथ

Cm yogi met and Tiwari in Delhi max hospital
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!