आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

पांच अरब पौने दो करोड़ की 163 योजनाएं लटकीं

Jalaun

Updated Sat, 04 Aug 2012 12:00 PM IST
उरई (जालौन)। विकास की सरकारी योजनाओं का पुरसाहाल नहीं है। 25 लाख रुपए से अधिक की निर्माणाधीन परियोजनाएं समय से पूरी नहीं हो सकीं। इससे उनकी निर्माण लागत लगातार बढ़ रही है। अधिकारी पुनरीक्षित बजट की आस लगाए है। इसके अलावा भी जिले में पांच अरब पौने दो करोड़ रुपए की लागत की 163 परियोजनाएं अधूरी पड़ी हैं।
जिले में 163 परियोजनाएं डेढ़ वर्ष से अधूरी है। काम समय पर न होने से निर्माण कार्यों की लागत हर रोज बढ़ रही है। लोक निर्माण विभाग, राजकीय निर्माण निगम, सीएंडडीएस, यूपी प्रोजेक्ट कारपोरेशन, समाज कल्याण निर्माण, समाज कल्याण निर्माण निगम, श्रम संविदा, सहकारी संघ की परियोजनाओं को पूरा करने के लिए तीन सौ करोड़ 67 लाख रुपए की आवश्यकता है। परियोजनाओं की बढ़ रही निर्माण लागत का उदाहरण है कि जुही खां घाट पुल का निर्माण 23 करोड़ 78 लाख में स्वीकृत हुआ था लेकिन पुल का काम समय से नहीं हो पाया। इससे इसकी लागत 27 करोड़ 55 लाख रुपए हो गई। दुग्ध संघ की एक परियोजना का निर्माण गुजरात की एक संस्था कर रही है जिसकी लागत 72 लाख है लेकिन कार्य अब तक नहीं हो पाया। राज्य सेतु निगम के तीन पुल अभी भी अधूरे हैं। जलनिगम शाखा की 13 परियोजनाएं अधूरी हैं। जलनिगम की 6, पैक्सफेड की आठ व यूपी श्रम एवं निर्माण सहकारी संघ की चार परियोजनाएं अधूरी हैं।
विकास योजना से तो महेबा का विद्युत उपकेंद्र बीते पांच सालों से अभी तक अधूरा है। माधौगढ़ का पालीटेक्निक, बेसिक शिक्षा का कस्तूरबा गांधी विद्यालय व नवीन मल्टीस्टोरी विद्यालय भवन उरई, कोंच, कालपी के अभी भी अधूरे पडे़ हैं। यूपीपीसीएल जैसी कार्यदायी संस्था का एक करोड़ रुपए की लागत का मानसिक अवसाद ग्रस्त विद्यालय, कांशीराम शहरी आवास योजना कोंच व कालपी के काम अभी भी अधूरे हैं।
कार्यदायी संस्था यूपीपीसीएल, पैक्स फेड की कार्यप्रणाली तो हमेशा से ही विवादों में घिरी रही है। यूपीपीसीएल, समाज कल्याण निर्माण निगम ने तो नलकूपों की स्थापना में अपने मनमाने इस्टीमेटों को शासन की बिना स्वीकृत के भुगतान कराए। उदाहरण है कि छह लाख 50 हजार का नलकूप 9 लाख 40 हजार से लेकर 16 लाख रुपए तक इन संस्थाओं ने लगाए। पैक्सफेड संस्थाओं ने तो सात पशुरौधालयों का प्रति इकाई इस्टीमेट पहले साढे़ चार लाख का बनाया। अब उसी की निर्माण लागत खुद नौ लाख रुपए कर डाली। इन कार्यदायी संस्थाओं की मनमानी पर प्रशासन भी अंकुश नहीं लगा पा रहा है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

comedy plans latkin

स्पॉटलाइट

सीधे इंटरव्यू के जरिए डॉक्टरों की नियुक्ति, जल्द करें अप्लाई

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

रंग को लेकर पति से हुई तुलना को यूं भड़क उठी ये एक्ट्रेस

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

चैत्र नवरात्र को यादगार बना देंगे ये Free ऐप

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

पीजी या फ्लैट में रहते हैं, जानें इन जरूरी बातों को

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

डबिंग में अपने ही रेप सीन को देख हलकान हो गई ये हीरोइन, रोने लगी ज़ार ज़ार

  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

Most Read

योगी सरकार के इस ऑर्डर ने उड़ाये ‘गुरुओं के होश’

yogi government orders surprised teacher
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

छात्रा बनकर थाने पहुंचीं सीओ ने दी तहरीर, मुंशी ने दर्ज नहीं की रिपोर्ट    

CO Vandana Sharma
  • सोमवार, 27 मार्च 2017
  • +

योगीराज में सूबे की चर्चित जिलाधिकारी बी. चंद्रकला प्रतिनियुक्ति पर पहुंचीं दिल्ली

Yogiraj discussed the District Magistrate B. chandrakala Delhi reached deputation
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

ग्रेटर नोएडा में केन्याई लड़की को कैब से उतारकर पीटा

nigerian girl took out of auto and brutally beaten in greater noida
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

यूपी में अवैध कत्लखाने बंद करने पर बोले बाबा रामदेव, जानें- क्या कहा

 baba ramdev on illigal slaughter houses.
  • बुधवार, 29 मार्च 2017
  • +

तीन तलाक के विरोध में हिंदू लड़के से किया विवाह

Jodhpur: Muslim Girl Marriage With Hindu Boy
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top