आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

फीकी पड़ती जा रही हाथरसी गुलाल की चमक

Hathras

Updated Tue, 22 May 2012 12:00 PM IST
हाथरस। टैक्स की मार और ट्रांसपोटेशन की समस्या की वजह से हाथरस के रंग-गुलाल उद्योग की चमक दिन-प्रतिदिन फीकी पड़ती जा रही है। करीब 70 साल पुराना यह कारोबार सरकारी प्रोत्साहन के अभाव में दम तोड़ता जा रहा है। कारोबार चूंकि सीजनेविल है, इसलिए प्रशिक्षित लेबर भी यहां से पलायन करती जा रही है। इतना ही नहीं यहां के कुछ कारोबारी भी अन्य प्रदेशों में अपना कारोबार जमा रहे हैं। हाथरसी रंग-गुलाल की धाक दूर-दूर तक है। देश-विदेश में हाथरसी रंग-गुलाल जाता है। फिल्मी दुनिया में भी होली के मौके पर हाथरसी रंग बरसता है, लेकिन पिछले कुछ सालों से इस कारोबार की चमक धीमी पड़ती जा रही है। इसका मुख्य कारण टैक्स की मार और ट्रांसपोटेशन की समस्या है। रंग बनाने के लिए प्योर कलर अहमदाबाद और मुंबई से आते हैं। उसके बाद स्टार्च व ग्लोबल साल्ट मिलाकर इसे रिड्यूज कर दिया जाता है और यह रंग बाजार में बिकता है। बाजार में जिस क्वालिटी के रंग की डिमांड होती है, उस क्वालिटी का रंग बनाया जाता है। स्टार्च में रंग मिलाकर गुलाल तैयार किया जाता है। यहां छोटे-बडे़ सब मिलाकर रंग-गुलाल की करीब डेढ़ दर्जन फैक्ट्रियां हैं। कुल मिलाकर 20 हजार लोग इस कारोबार से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ हुए हैं। इस कारोबार के पिछड़ने का एक कारण यहां के गलीचा कारोबार का उजड़ना भी है। गलीचों की रंगाई के लिए काफी रंग इन फैक्ट्रियों से जाता था, लेकिन काफी गलीचा फैक्ट्रियां बंद हो र्गइं और रंग की खपत कम हो गई। इधर, सबसे बड़ी समस्या गुलाल पर टैक्स की है। गुलाल पर इस प्रदेश में साढे़ 13 फीसदी टैक्स है, जबकि कई प्रदेशों में कोई टैक्स नहीं है। छत्तीसगढ़ में केवल चार फीसदी टैक्स है। रंग-गुलाल का काम सीजनेविल भी है। यहां यह धंधा 12 महीने फैक्ट्रियों में नहीं चलता। इसलिए प्रशिक्षित कारीगर यहां के बड़े शहरोें की तरफ पलायन कर गए हैं। यहां से मुंबई, रायपुर, जयपुर जैसे शहरों के अलावा विदेशों तक माल जाता है। पैकिंग और क्वालिटी में अभी भी हाथरस के रंग और गुलाल का कोई जवाब नहीं है। यहां नील भी बनता है। इसके बावजूद टैक्स की मार और ट्रांसपोटेशन की समस्या इस कारोबार की चमक फीकी कर रही है। कुछ रंग कारोबारी स्पष्ट रूप से यह कहते हैं कि शासन-प्रशासन इस कारोबार को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन तो दे नहीं रहा, उल्टे प्रदूषण के नाम पर छापामार कार्रवाई और होती है। इससे कारोेबार पर विपरीत असर पड़ता है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

सालों बाद मिला आमिर का ये को-स्टार, फिल्में छोड़ इस बड़ी कंपनी में बन गया मैनेजर

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

इस मानसून इन हीरोइनों से सीखें कैसा हो आपका 'ड्रेसिंग सेंस'

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

जब शूट के दौरान श्रीदेवी ने रजनीकांत के साथ कर दी थी ये हरकत

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

50 वर्षों बाद बना है इतना बड़ा संयोग, आज खरीदी गई हर चीज देगी फायदा

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

हिट फिल्म के बावजूद फ्लॉप हो गई थी ये हीरोइन, अब इस फील्ड में कमा रही है नाम

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

Most Read

J&K: आर्मी के जवानों ने थाने में घुसकर पुलिस को पीटा, अब्दुल्ला बोले- कार्रवाई हो

soldier beat policemen in jammu six injured
  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

कभी 30 रुपये देकर इसी किराये के मकान में रहते थे कोविंद, अब यहां जश्न

some important facts about ramnath kovind
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
  • +

DSP अयूब पंडित हत्याकांडः 20 आरोपी गिरफ्तार, एक का हुआ एनकाउंटर

Deputy SP Ayub Pandit lynching case ig muneer khan says 20 arrested and one killed in encounter
  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

5 साल की बेटी को नहला रही थी मां, दोनों को मिली खौफनाक मौत

5 year old and mother died after electrocuting
  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

वीरभद्र के खिलाफ अपने ही विधायक, आलाकमान को पत्र में लिखा 'विचार करें'

congress mlas write letter to congress high command against virbhadra singh
  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

नोटबंदी मामला: बसपा की मांग को चुनाव आयोग की ना

election commission refused bsp demand
  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!