आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

80 साल पुराने दाल उद्योग संकट में

Hathras

Updated Mon, 21 May 2012 12:00 PM IST
हाथरस। शहर में 80 साल पुराना दाल उद्योग अपना अस्तित्व बचाने को जूझ रहा है। बीते एक दशक में आलू का क्रेज बढ़ने से दलहन की पैदावार क्या गिरी, दाल मिल मालिकों के लिए यह कारोबार घाटे का सौदा बन गया। नतीजा, अब तक आधे से ज्यादा दाल मिलों का अस्तित्व ही खत्म हो चुका है, जबकि बाकी मिलों के कारोबार पर भी बुनियादी सुविधाओं की कमी और करों के बोझ का ग्रहण लगा हुआ है। 80 साल पहले शहर में जब दाल उद्योग की शुरुआत हुई तो उस समय यह क्षेत्र दलहन की पैदावार के मामले में काफी संपन्न था, मगर बीते डेढ़ दशक में दलहनी खेती पर जैसे-जैसे आलू की पैदावार हावी हुई, मिलों के सामने कच्चे माल का संकट खड़ा होने लगा। बीते 11 सालों में तो मिलें कच्चे माल यानी दलहन के लिए पूरी तरह दिल्ली, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान जैसे राज्यों पर निर्भर होकर रह गई हैं। यहां से 25 फीसदी ही दलहन का इंतजाम हो पाता है। ट्रेन की सुविधा के अभाव में सड़क मार्ग से दलहन मंगाने में तीन गुना से भी ज्यादा भाड़ा खर्च करना पड़ता है यानी जो माल 60 रुपये प्रति क्विंटल के भाड़े पर ट्रेन से यहां आ सकता है, उसके लिए 200 रुपये क्विंटल का भाड़ा देना पड़ता है। इस पर ढाई फीसदी मंडी शुल्क का बोझ और है, जबकि दूसरे राज्यों में दाल मंडी शुल्क से मुक्त है। हाथरस की दाल अन्य राज्यों की तुलना में कहीं ज्यादा महंगी हो गई है, जिससे दूसरे राज्यों में हाथरसी दाल की मांग भी बमुश्किल 15 से 20 फीसदी तक ही सिमट गई है। हाथरस से पूरे उत्तर प्रदेश के अलावा दिल्ली को भी बड़े पैमाने पर दाल की आपूर्ति होती थी, लेकिन सुविधा न होने के कारण दिल्ली ने पिछले कुछ समय में इस कारोबार पर अपना प्रभुत्व जमा लिया है।
शुरअआत में मिलों में हाथ की चक्कियों से दलहन से दाल तैयार होती थी। एक-एक मिल में 100-100 महिला और पुरुष इस काम में जुटते थे, लेकिन कुछ सालों बाद यहां की मिलों में पूरा उत्पादन मशीनरी से होने लगा, जिससे उन लोगों के लिए रोजगार के अवसर भी कम हो गए, जोकि इस उद्योग के भरोसे अपनी जीविका चलाते थे।
हालात की गंभीरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि डेढ़ दशक पूर्व ही इस शहर में दाल मिलों की संख्या 120 तक थी, लेकिन इनमें से 60 मिलें बदहाली की भेंट चढ़ चुकी हैं, जबकि बाकी 60 में से भी कुछ और बंद होने के कगार पर हैं।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

lentil industry crisis

स्पॉटलाइट

संगीत है हर मर्ज की दवा, STRESS दूर करने के लिए आजमाएं 'म्यूजिक थैरेपी'

  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

अब ऑफिस में बैठ कर कम होगा वजन, खाएं ये खास फूड

  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

अपने जमाने में खूब हिट रहे थे ये चाइल्ड आर्टिस्ट, अब दिखते हैं ऐसे

  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

रिश्ते में कभी-कभी झूठ बोलना होता है जरूरी, जानिए क्यों

  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

अब ऐसा दिखने लगा है शाहरुख-काजोल का 'बेटा', ये काम कर कमा रहा पैसे

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

Most Read

मां-बाप ने डांटा तो घर से भाग न‌िकले नाबाल‌िग भाई-बहन, होटल पहुंचे तो...

minor brothers and sisters run from house after Parents scolded  
  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

राबड़ी देवी के समर्थन में उतरे सुशील मोदी, बीजेपी के कई नेता हैरान

Sushil Modi in support of Rabri Devi, many BJP leaders surprised
  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

औरैया रेल हादसाः यहां देखें कैंसल और रूट डायवर्ट ट्रेनों की पूरी लिस्ट

List of cancell and root divert trains
  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

जानिए तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर क्या बोला दारुल उलूम?

Darul Uloom from Deoband said on the divorce decision of three ...
  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +

शिक्षाम‌ित्रों के हक में अखिलेश ने किया ट्वीट, निशाने पर सीएम योगी

akhilesh yadav tweets in favour of shikshamitra
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

बरसाती नाले में पलटी स्कूली बच्चों से भरी बस, अंदर सवार थे 15 बच्चे

school bus accident in river
  • बुधवार, 23 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!