आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

विद्रोह की तोपों से गूंजा था संडीला

Hardoi

Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
हरदोई। हरदोई जिला अवध राज्य का एक हिस्सा था, पर रुहेलखंड व लखनऊ के बीच में स्थित होने से अवध के नवाबों व रुहेलों की आपसी खींचतान का असर जिले पर बराबर पड़ता रहा। स्वतंत्रता दिवस की यादों के तरोताजा होने के बाद बात संडीला व उसके बेरूआ किले की न हो यह हो ही नहीं सकता।
अवध के नवाबों के जमाने में भी हरदोई पर नवाबों का कब्जा अकसर कमजोर होता रहा। 1857 के संग्राम ने मानों इस क्षेत्र को अपने बंधन फेंककर खड़े होने का एक मौका प्रदान किया। इस मौके को यहां के लोगों ने हाथ से जाने नहीं दिया। लखनऊ में विद्रोह हो गया यह संदेश जैसे ही जिले में पहुंचा, संडीला तथा अन्य स्थान विद्रोह की आवाज से गूंज उठे। कंपनी का शासन एकदम लड़खड़ा गया। गोल्ड बैस्टन जा हरदोई में शासन करने को भेजे गए थे, वह यहां से भागने को मजबूर हो गए। उनकी पराजय के बाद हचिसन 400 जवानों के साथ जिले में भेजे गए।
गंगा पार करके जो सेना की टुकड़ी भेजी गई थी, उनको क्रांतिकारियों ने मौत के घाट उतार दिया। दबाव पड़ने से डिप्टी कमिश्नर को मल्लावां छोड़ कर भागना पड़ा। जिले के राजपूत और पठानों ने जो कंपनी सेना के सिपाही थे, उन्हाेंने क्रांतिकारी सेनाओं को मजबूत किया और बड़ी क्रांतिकारी सेना जिले में खड़ी हो गई। एक वर्ष तक पूरा जिला स्वतंत्र रहा। ब्रिटिश शासन का नामोनिशान तक मिट गया। बिग्रेडियर हाल हरदोई होते हुए सीतापुर की ओर बढ़े, जबकि बिग्रेडियर बारकर ने लखनऊ से जाकर हाल की टुकड़ी को मदद पहुंचाई। बारकर के पास छह तोपें थी और काफी संख्या में सैनिक भी थे। उसने संडीला पर हमला किया। उसको रोकते समय क्रांतिकारियों को काफी क्षति उठानी पड़ी।
उसके बाद बेरूआ के प्रसिद्ध किले पर हमला किया। हाल और बारकर ने मिलकर रूइया के प्रसिद्ध किले पर हमला कर दिया, पर क्रांतिकारियों ने किला खाली कर दिया। नवंबर 1858 तक पूरे जिले से क्रांतिकारी बाहर कर दिए गए और अंग्रेजों की सेना का अधिकार जिले पर हो गया। 1857 के संग्राम में अवध के लगभग सभी जिलों ने अप्रतिम शौर्य का परिचय दिया। जरूरत पड़ने पर प्रथम कोटि के नेता और सेनानायक ऊपर आए थे। रूइया के नरपत सिंह और बेरूआ के गुलाब सिंह इसी कोटि के जुझारू नेताओं में से थे। इन वीरों ने अपने जीवन के अंतिम दौर तक तलवार नीचे नहीं झुकाई।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

cannons sandila

स्पॉटलाइट

हर लड़के के लिए ये 6 काम है जरूरी, तभी खुश रहेगी गर्लफ्रेंड

  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

काबिल ऋतिक की 8 नाकाबिल फिल्में, हो गई थी फ्लॉप

  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

शाहरुख ने रखा सलमान की दुखती रग पर हाथ, दिला दी ऐश्वर्या की याद

  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

अमिताभ नहीं अब ये हीरो करेगा 'केबीसी' को होस्ट

  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

वीवो का V5 प्लस भारत में लॉन्च, फ्रंट में लगे हैं दो कैमरे

  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

Most Read

पाकिस्तान से रिहा सैनिक चंदू भारत में ‘कैद’

Indian soldier Chandu Babulal Chavan
  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

राष्ट्रपति ने 4 की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदला

President sets aside MHA advice, commutes death of 4 to life term
  • सोमवार, 23 जनवरी 2017
  • +

शिवपाल समर्थकों ने बनाया नया संगठन, नाम जानकर हो जाएंगे हैरान

shivpal supporters created new organization
  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +

अखिलेश की सूची में कुछ नाम बदले, कुछ निरस्त, यहां देखें

correction in akhilesh yadav list
  • शुक्रवार, 20 जनवरी 2017
  • +

बोले राजा भइया- नहीं है गठबंधन की जरूरत, अकेले ही जीत लेंगे चुनाव

there is no need of alliance with congress
  • शुक्रवार, 20 जनवरी 2017
  • +

बीजेपी को झटका, पूर्व विधायक ने थामा अखिलेश का हाथ

shiv singh chak joins samajwadi party
  • बुधवार, 18 जनवरी 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top