आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

खाद्यान्न बेचकर बच्चों को करा रहे भोजन

Hardoi

Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
हरदोई। परिषदीय विद्यालयों में बच्चों के निवालों पर संकट है। जिम्मेदारों की लापरवाही से मिड डे मील को लेकर पढ़ने और पढ़ाने वाले दोनों परेशान हैं। विद्यालयों में खाना बनाने के लिए समय से धनराशि नहीं दी जाती। खाद्यान्न तो भेज दिया जाता लेकिन धनराशि न भेजने से कुछ टीचर खुद खाना बनवा रहे हैं। कुछ विद्यालय ऐसे भी हैं जहां पर खाद्यान्न बेचकर तेल मसाला मंगवाकर मिड डे मील बनवाया जा रहा है। हालांकि विभाग का कहना है कि खाद्यान्न भेजा जा चुका है। शीघ्र ही धनराशि भी भेज दी जाएगी।
जिले के 2833 प्राथमिक विद्यालयों में 204944 छात्र व 207463 छात्राएं और 1025 उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 65992 छात्र और 73846 छात्राएं पढ़ाई करती हैं। इसी तरह 44 सहायता प्राप्त विद्यालयों में भी करीब 12 हजार बच्चे पढ़ाई करते हैं। बच्चों को मिड डे मील देने के लिए प्राथमिक विद्यालयों में प्रति बच्चा 3.11 रुपए कनवर्जन कास्ट और 100 ग्राम खाद्यान भेजा जाता है। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 4.65 रुपए व 150 ग्राम खाद्यान्न दिया जाता है।
बच्चों को मिड डे मील देने के लिए आदेश तो दिए जाते हैं लेकिन जिम्मेदारों की लापरवाही से न तो बच्चों को सही खाना मिल पाता और शिक्षकों को भी परेशानी उठानी पड़ती है। विद्यालयों में समय से न तो कनवर्जन कास्ट भेजी जाती है और न ही खाद्यान्न। खाना बनें तो कैसे। जिले में खाद्यान्न और कनवर्जन कास्ट को देंखे तो जुलाई माह में सितंबर तक के लिए खाद्यान्न भेज दिया गया था जिसमें 1631.49 एमटी चावल और 827.64 एमटी गेहूं भेजा गया था लेकिन खाना बनाने के लिए कनवर्जन कास्ट नहीं भेजी गई। अप्रैल से मई तक प्राथमिक विद्यालयों में दो करोड़ 52 लाख 77 हजार रुपए व जूनियर विद्यालयों में एक करोड़ 42 लाख 23 हजार रुपए कनवर्जन कास्ट भेजी गई थी। सितंबर तक खाद्यान्न तो था लेकिन इसे बनाने के लिए धनराशि केवल अप्रैल महीनों तक ही थी। गत शैक्षिक सत्र मई और उसके बाद जुलाई, अगस्त और सितंबर की धनराशि नहीं भेजी गई। धनराशि न होने से बहुत से विद्यालयों में मिड डे मील बनना ही बंद कर दिया गया तो ज्यादातर विद्यालयों में टीचर अपनी जेब से ही खाना बनवा रहे हैं। बहुत से विद्यालयों में खाद्यान्न बेच कर खाना बनवाया जा रहा है। कक्षा एक से आठ तक परिषदीय और सहायता प्राप्त विद्यालयों में करीब सवा छह लाख बच्चों के खाने पर संकट के बादल हैं।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

food kids

स्पॉटलाइट

पार्टियों में छाया अनुष्का-विराट का स्टाइल स्टेटमेंट, देखकर हो जाएंगे दीवाने

  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

मूड बेहतर करने के साथ हड्डियां भी मजबूत करते हैं ये बीज, जानें कैसे

  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

इस हीरो के साथ 'शाम गुजारने' के लिए रेखा ने निर्देशक के सामने रखी थी ये शर्त!

  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

PHOTOS: जाह्नवी और सारा को टक्कर देने आ रही है चंकी पांडे की बेटी, सलमान करेंगे लॉन्च

  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

घर बैठे ये टिप्स करेंगे सरकारी नौकरी की तैयारी में मदद

  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

Most Read

गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट, मायावती बोलीं- भीम आर्मी से कोई संबंध नहीं

mayawati pc on dalits saharanpur violence
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

यूपी में 174 पीसीएस अफसरों के तबादले, देखें‌ किसे कहां मिली नई तैनाती

sdm transfer by uttar pradesh government
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

MCD उपचुनावः भाजपा का नहीं खुला खाता, आप को मिली जीत

mcd bypoll on 2 seats: know results here as aap won a seat
  • बुधवार, 24 मई 2017
  • +

उत्तराखंड के पांच जिलों में भारी बार‌िश का अलर्ट

Heavy rain alert in five districts of uttarakhand
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

अल्पसंख्यकों का कोटा खत्म करने की बातें आधारहीन: यूपी सरकार

 UP govt to end minority quota
  • मंगलवार, 23 मई 2017
  • +

सहारनपुर दंगाः SSP व डीएम पर गिरी गाज, योगी ने लगाई डीजीपी को फटकार

ethnic conflict : SSP Subhash Chandra Dubey transferred from Saharanpur
  • बुधवार, 24 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top