आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

11 अक्टूबर को विश्व दृष्टि दिवसः दस साल में एक भी दानदाता नहीं

Etawah

Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
इटावा। 11 अक्तूबर को दुनिया भर में अंधता निवारण दिवस मनाया जाएगा, लेकिन जिले में अंधता निवारण दिवस का मतलब सिर्फ मोतियाबिंद के आपरेशन तक ही सीमित है। सरकार नेत्र दान को बढ़ावा देने के लिए करोड़ों रुपए का बजट विज्ञापनों व व्यवस्थाओं पर खर्च करती है लेकिन यहां तो बीते दस वर्षों में एक भी व्यक्ति ने नेत्रदान नहीं किया। स्वास्थ्य विभाग के पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है जिसमें किसी ने अपनी आंख दान की हो। स्वास्थ्य विभाग के पास ऐसा कोई रिकार्ड भी नहीं है जिसमें किसी की आंखें ट्रांसप्लांट हुईं हों। हालांकि कुछ वर्ष पहले एक व्यक्ति की एम्स दिल्ली के डाक्टरों ने आंख ट्रांसप्लांट की थी। अब उस व्यक्ति की भी मौत हो चुकी है। विभागीय अधिकारी इसके पीछे स्पेशलिस्ट डाक्टरों की कमी व संसाधनों का अभाव बताते हैं। सरकारी अस्पतालों में न तो उपचार की आधुनिक पद्धति है न ही संसाधन। मोतियाबिंद के आपरेशन भी पुरानी तकनीक से हो रहे हैं।
---
एनजीओ भी सक्रिय नहीं हैं
जिले में करीब सौ के आसपास छोटे-बड़े एनजीओ संचालित हैं। ये छोटे-छोटे कार्र्यक्रम गोष्ठियों तक सीमित हैं। नेत्रदान के प्रति किसी एनजीओ ने सक्रिय भूमिका नहीं निभाई। कुछ एनजीओ ने लोगों से नेत्र दान से संबंधित शपथपत्र तो भरवा लिए लेकिन मरने के बाद आंखें दान हुईं या नहीं जानने की कोशिश नहीं की।
---
मोतियाबिंद आपरेशन में पुरानी तकनीक
अंधता निवारण के प्रचार में करोड़ों रुपए खर्च करने वाली सरकार संसाधनों की ओर ध्यान नहीं दे रही है। जिला अस्पताल में आज भी मोतियाबिंद के आपरेशन वर्षों पुरानी तकनीक से हो रहे हैं। फेको विधि आज भी जिला अस्पताल से दूर है। अस्पताल प्रशासन कहता है कि संसाधन ही नहीं तो नई विधि का प्रयोग कैसे करें।
---
- जागरूकता में भी पीछे स्वास्थ्य विभाग
अंधता निवारण के लिए जनजागरुकता अभियान बेहद जरूरी है। स्वास्थ्य विभाग अभियान में काफी पीछे है। अंधता निवारण को लेकर जिला अस्पताल व सीएमओ कार्यालय के आसपास वाल पेंटिंग तो है लेकिन यह वालपेटिंग करीब डेढ़ वर्ष पुरानी है। विभाग ने जमीनी स्तर पर प्रचार के लिए कोई कार्य ही नहीं किया। किया होता विज्ञापनों में जिलाधिकारी पी गुरुप्रसाद का नाम जो लगभग एक वर्ष से जिले में तैनात हैं जरूर लिखा होता। विज्ञापनों में जिलाधिकारी जीएस प्रियदर्शी, तत्कालीन सीएमओ, तत्काल समन्वयक के नाम लिखा हैं।
---
सुविधा की कमी बनी बाधक
विभिन्न सामाजिक संगठनों ने नेत्रदान कराने का प्रयास तो किया लेकिन संसाधनों व सुविधाओं की कमी के कारण वह सफल नहीं हो पाए। बिना संसाधनों एवं सुविधाओं के नेत्रदान संभव नहीं है। न तो जिले में नेत्रदान के लिए कोई टीम है और न ही आंखों को सुरक्षित रखने की व्यवस्था। अगर कोई नेत्रदान करता भी है तो उसकी मौत के बाद जब तक आगरा-कानपुर व लखनऊ से टीम यहां पहुंचेगी। आंख सुरक्षित रहने की संभावना भी कम हो जाएगी। लोगों में भी जागरूकता की कमी है। स्वास्थ्य महकमे का सहयोग मिले और संसाधनों की व्यवस्था हो तो निश्चित तौर पर नेत्रदान को जिले में बढ़ावा मिल सकता है।-मीरा अग्रवाल, प्रभारी सहेली ग्रुप जायंट्स इंटरनेशनल
-
एक्सपर्ट व्यू
मरने के बाद गर्मियों में 6 घंटे और सर्दी के मौसम में 12 घंटे के भीतर आंख सुरक्षित की जा सकती है। अच्छे रिजल्ट के लिए 24 घंटे में आंख ट्रांसप्लांट हो जानी चाहिए।-डॉ. रेखा गुप्ता, आई सर्जन
  • कैसा लगा
Comments

Browse By Tags

11 oct divsaah

स्पॉटलाइट

लव लाइफ होगी और भी मजेदार, रोज खाएं ये चीज

  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

जूते, पर्स या जूलरी ही नहीं, फोन के कवर भी बन गए हैं फैशन एक्सेसरीज

  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

BSF में पायलट और इंजीनियर समेत 47 पदों पर वैकेंसी, 67 हजार तक सैलरी

  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

इन तीन चीजों से 5 मिनट में चमकने लगेगा चेहरा

  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

नवरात्रि 2017: इस बार वार्डरोब में नारंगी रंग को करें शामिल, दीपिका से लें इंसपिरेशन

  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

Most Read

बिहार में भी मुहर्रम के दिन दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर रोक, केन्द्रीय मंत्री ने उठाए सवाल

All Durga Puja committees to immerse idols on Vijaya Dasami a day before says Patna DM
  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

कर्मचारी ने ट्रांसफर रुकवाने को दिया ऐसा कारण, हंस हंस कर लोटपोट हो जाएंगे

unique funny reason given by employee to stop transfer
  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

नवरात्र में टूट सकती है सपा, मुलायम-शिवपाल बनाएंगे नई पार्टी, ये हो सकता है नाम

samajwadi party will be divided mulayam and shivpal announce new party
  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

DU के प्रोफेसर ने मां दुर्गा पर की आपत्तिजनक टिप्पणी, टीचर्स संगठन ने दर्ज करवाई शिकायत

teachers association complaint against professor kedar mandal for controversial post on maa durga
  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

सीएम योगी ने दिए यूपीएसएसएससी के गठन में तेजी के निर्देश

appointment of upsssc chairman and members will be completed as soon as possible
  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +

‍BHU: छात्राओं पर लाठीचार्ज को लेकर VC का बयान- बाहरी छात्र दे रहे आंदोलन को हवा

BHU Vice chancellor came very first time to media for girls protest
  • रविवार, 24 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!