आपका शहर Close

गांव से ही चलती थी बाबूजी की सरकार

ब्यूरो/अमर उजाला, बुलंदशहर

Updated Fri, 13 Jan 2017 11:40 PM IST
The government was moving from village Papa

राजनी‌तिPC: अमर उजाला

ऐसे भी नेता रहे हैं, जो सत्ता के शिखर पर पहुंचने के बावजूद जमीन से जुड़े रहे। स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में सक्रिय भूमिका निभाने वाले और प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे बाबू बनारसी दास आजीवन जन्मभूमि से जुड़े रहे।

सादगी पसंद और असाधारण व्यक्तित्व के धनी बाबू बनारसी दास पांच बार विधायक, मंत्री, सांसद, मुख्यमंत्री, स्पीकर से लेकर राज्यसभा के सभापति के पद पर आसीन रहे। राजनीति के शीर्ष तक पहुंचे बाबूजी के जीवन पर कभी कोई दाग नहीं लगा।

बुलंदशहर से सटे गांव उटरावली में साधारण किसान रामजीलाल के घर आठ जुलाई 1912 को जन्मे बाबू बनारसी दास ने 10 वीं तक पढ़ाई की थी। अंग्रेजों की गुलामी से व्यथित बाबूजी बीच में ही पढ़ाई छोड़कर आजादी की लड़ाई में कूद पड़े। वह अंहिसावादी सोच के व्यक्ति थे और अहिंसा के माध्यम से ही देश की आजादी चाहते थे।

बाबूजी ने 1930 में हुए असहयोग आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई। 1941 में बाबूजी ने जिले में सत्याग्रह शुरू कर दिया। 1942 में उनको भारत छोड़ो आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाने पर अंग्रेजी हुकूमत ने जेल में डाल दिया था। इसके बाद वह राजनीति में आ गए। आजादी से पहले 1946 में बाबूजी अंतरिम विधानसभा के निर्विरोध सदस्य चुने गए।

आजादी के बाद मार्च 1952 में निर्वाचित पहली विधानसभा के सदस्य और सभा सचिव के पद पर रहे। 1962 में बाबूजी दूसरी बार विधानसभा पहुंचे। इस दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री चंद्रभानु गुप्त के मंत्रिमंडल में उन्हें सूचना एवं संसदीय कार्य मंत्री बनाया गया।

1963 से 1967 तक वह तत्कालीन मुख्यमंत्री सुचेता कृपलानी के मंत्रिमंडल में सहकारिता, श्रम और संसदीय मंत्री रहे। 1967 में हुए विधानसभा चुनाव में उन्होंने रिकॉर्ड मतों से चुनाव जीता और सिंचाई, विद्युत, श्रम एवं संसदीय कार्य मंत्रालय का प्रभार उनको सौंपा गया। तीन अप्रैल 1972 से 28 जून 1977 तक वह राज्यसभा के सांसद रहे।

इस दौरान वह अस्थाई सभापति भी रहे। 1977 में वह फिर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय होकर विधानसभा पहुंचे। इस दौरान वह विधानसभा के स्पीकर के पद पर आसीन हुए। 28 फरवरी 1979 को प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।

1983 को हुए लोकसभा उपचुनाव में बाबू बनारसी दास जीतकर संसद पहुंच गए। तीन अगस्त 1985 को बाबूजी का देहवसान हो गया।बाबूजी का जन्म सवर्ण परिवार में हुआ था। आजादी की लड़ाई में कूदने के कारण बाबूजी की पढ़ाई बेशक 10 वीं तक रही, लेकिन उन्होंने शिक्षा के प्रसार के लिए काफी काम किया।

बाबूजी का मानना था कि शिक्षा के माध्यम से ही सामाजिक विषमताओं को दूर किया जा सकता है।

उटरावली होता था केंद्र
बाबूजी का अपनी मातृभूमि से खासा लगाव था। वह विधायक से लेकर मुख्यमंत्री तक बने, लेकिन उन्होंने कभी अपनी मातृभूमि को नहीं भूला। वह मंत्री, मुख्यमंत्री काल में गांव में ही चौपाल लगाकर समस्याएं सुनकर उन्हें दूर कर देते थे। लोग बाबूजी के पास अपनी समस्या लेकर लखनऊ नहीं बल्कि उटरावली ही पहुंच जाते थे।

आज भी उटरावली गांव का रिकॉर्ड है कि वहां हर घर में एक सरकारी कर्मचारी था।

 
Comments

Browse By Tags

political

स्पॉटलाइट

अरशद वारसी ने Bigg Boss 11 को बताया 'डाउन मार्किट', बोले-TRP के लिए परोस रहे गंदी चीजें

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

दिवाली 2017: इस त्योहार घर को सजाएं रंगोली के इन बेस्ट 5 डिजाइन के साथ

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

पुरुषों में शारीरिक कमजोरी दूर करती है ये सब्जी,जानें इसके दूसरे फायदे

  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: घर से बेघर हुई लुसिंडा ने सुनाई आपबीती, बोलीं- आकाश करता था इसके लिए 'इंसिस्ट'

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

वायरल हो रहा है वाणी कपूर का ये हॉट डांस वीडियो, कटरीना कैफ को होगी जलन

  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

पार्टी हाईकमान से नाराजगी, भाजपा में इस्तीफों की लग गई झड़ी

Hamirpur bjp mandal president resign
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

टिकट मिले न मिले, पांच बार विधायक रहे ये जनाब तो लड़ेंगे चुनाव

himachal assembly election 2017 rikhi ram kaundal to contest polls
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

जब बदमाशों को पकड़ने के लिए AK-47 लेकर कीचड़ में दौड़े SSP

to caught goons in ranchi ssp of police jumped into mud with Ak-47 
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +

टिकट कटने की अटकलों के बीच फूट-फूटकर रो पड़े पूर्व मंत्री किशन कपूर

himachal assembly election 2017 kishan kapoor get emotional
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

जम्मू-कश्मीरः शोपियां में कल की थी सरपंच की हत्या, आज फूंक दिया घर

House of former Sarpanch Ramzan set on fire in Shopian
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

गुरदासपुर में हार पर भाजपा पर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा, पार्टी को दिखाया आईना

Shatrughan Sinha slams BJP after defeat in Gurdaspur Lok Sabha By Election
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!