आपका शहर Close

दम तोड़ रही कालागढ़ की बाघ परियोजना

Bijnor

Updated Fri, 28 Sep 2012 12:00 PM IST
कालागढ़।1973 में कालागढ़ में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने शुरू की कार्बेट टाइगर रिजर्व की बाघ परियोजना विभागीय अधिकारियों की उदासीनता के चलते दम तोड़ रही है। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद कार्बेट टाइगर रिजर्व में पर्यटन पर तो रोक लगा दी गई है, परंतु बफर जोन व सीमावर्ती इलाके में गश्त न होने की वजह से टाइगर व गुलदार के अस्तित्व को खतरा पैदा हो रहा है।
भारतीय उपमहादीप का सबसे पुराना कार्बेट टाइगर रिजर्व दुनिया में बाघो की राजधानी के नाम से जाना जाता है। टाइगर की बढ़ती संख्या व सिकुड़ते क्षेत्र की वजह से बाघ व गुलदार जैसे जीव सीमावर्ती इलाके में अपना प्राकृतावास बनाते जा रहे हैं। जिसकी वजह से गन्ने के खेत इनका प्राकृतावास बन रहे हैं। दो दिन पूर्व कार्बेट टाइगर रिजर्व के बफर जोन से लगे धारा नदी के तटवर्ती घासीवाला में गुलदार के दो शावक मां से अलग कर दिए गए। वन विभाग स्वयं मानता है कि उसके पास कर्मचारी कम हैं, जिसकी वजह से गश्त नहीं हो पाती है। इससे यह जीव खेतों में रह रहे हैं। यह पहला मामला नहीं है इससे पूर्व भिक्कावाला में एक खेत में तारबाढ़ में फंस कर एक बाघ की मौत हो चुकी है। एक वर्ष पूर्व बफर के कालागढ़ टाइगर रिजर्व में एक गुलदार को गांव वालों ने जिंदा जला दिया था। अब तीन शावकों को उनके प्राकृतावास से हटाकर ले जाने की वजह से चिड़ियाघर भेज दिए गए।
वन विभाग सचेत नही, एनटीसीए से होगी शिकायत
कालागढ़। उत्तराखंड वाइल्ड लाइफ बोर्ड के पूर्व सदस्य व प्रोटेक्शन सोसाइटी आफ इंडिया के उत्तराखंड प्रभारी राजेंद्र अग्रवाल का कहना है कि कार्बेट टाइगर रिजर्व व उससे लगे सीमावर्ती इलाके हमेशा ही बावरिया गिरोह के निशाने पर रहे हैं। यह अति संवेदनशील इलाके हैं। यहां पर कांबिग व गश्त का न होना विभाग की लापरवाही को उजागर करता है। गुलदार के तीन शावकों को प्राकृतावास से सबसे पहले किसने हटाया। इसकी जांच होनी चाहिए। इसके लिए राष्ट्रीय बाघ प्राधिकरण को लिखा जा रहा है। उन वनकर्मियों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए जो इन शावकों को मां से अलग कराने में शामिल रहे हैं। यदि एक बार बाघ या गुलदार के बच्चों को कोई मानव छू ले तो यह जीव उसे दुबारा अपनाते नहीं हैं। चिड़ियाघर में जाने के बाद इस जीव का व्यवहार प्राकृतिक नहीं रह जाता है। वह तो घरेलू जीव ही बन जाता है।
164 बाघ हैं कालागढ़ क्षेत्र में
कालागढ़। विभागीय सैंसस के अनुसार कार्बेट टाइगर रिजर्व के कालागढ़ क्षेत्र में 164 बाघों का कुनबा है। इसके अलावा टाइगर रिजर्व, अमानगढ़ रेंज, नगीना रेंज आदि में इनकी उपस्थिति दर्ज है।
Comments

Browse By Tags

project tiger

स्पॉटलाइट

ऐसे करेंगे भाईजान आपका 'स्वैग से स्वागत' तो धड़कनें बढ़ना तय है, देखें वीडियो

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

सलमान खान के शो 'Bigg Boss' का असली चेहरा आया सामने, घर में रहते हैं पर दिखते नहीं

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

आखिर क्यों पश्चिम दिशा की तरफ अदा की जाती है नमाज

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

सलमान खान को इंप्रेस करने के चक्कर में रणवीर ने ये क्या कर डाला? देखें तस्वीरें

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में निकली वैकेंसी, मुफ्त में करें आवेदन

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

Most Read

पद्मावती: शिवराज बोले- MP में नहीं रिलीज होगी फिल्म, ममता ने बताया 'सुपर इमरजेंसी'

shivraj singh chouhan says padmavati will not release in MP but mamata says its emergency
  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

रिश्ते को किया कलंकित, देवर ने भाभी से किया कुकृत्य

brother-in-law and sister-in-law relationship spotted
  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

मध्य प्रदेश: हाईकोर्ट ने धार विधायक नीना वर्मा का चुनाव शून्य घोषित किया

Madhya Pradesh high court declares election of Dhar BJP MLA Nina Verma as null and void
  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

प्रदेश के अफसरों के लिए मुसीबत बना हुआ है मुख्यमंत्री योगी का ये फरमान...

cm yogi's order become a problem for officers in up
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

पद्मावती विवाद पर सीएम योगी बोले- दाल में कुछ काला, ऐतिहासिक तथ्यों से खिलवाड़ सही नहीं

yogi adityanath reacts on padmavati issue.
  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!