आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

बेसहारों का सहारा नहीं बन पाएंगे शेल्टर होम

Bareilly

Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST

अजय सक्सेना
बरेली। डेढ़ करोड़ रुपये खर्च करके बनाए गए शेल्टर होम कतई उपयोगी साबित नहीं हो रहे हैं। बिजली-पानी का कनेक्शन न होने की वजह से ये रहने लायक ही नहीं रह गए हैं। नगर निगम की लापरवाही की वजह से सारा धन पानी में बहता दिख रहा है। यही कारण है कि तेज हुई सर्दी में आश्रयहीन लोग खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं।
शेल्टर होम सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बनाए गए थे। सन् 2010 में सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद इस आदेश को और कड़ाई से लागू किया गया। अयूब खां चौराहा पर तो पहले से शेल्टर होम चल रहा था, बाकी सात और बनाए गए। इनमें से तीन का निर्माण कार्य तो पिछले साल कड़क जाड़ों में भी चलता रहा। बाकी चार में कोई इसलिए जाकर नहीं रुका, क्योंकि रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड या फिर शहर के प्रमुख स्थानों से काफी दूर बने हैं। दो तो हजियापुर में बनाए गए हैं। इसके अलावा छोटी विहार, सैदपुर हाकिंस, बाकरगंज, सीआई पार्क के पास, बाकरगंज और बदायूं रोड पर सुभाषनगर मोड़ के पास पानी की टंकी के सामने एक-एक शेल्टर होम बनाए गए हैं।

बिजली-पानी ही नहीं
सात शेल्टर होम में से किसी में भी अब तक बिजली का कनेक्शन नहीं हुआ है। पूर्व नगर आयुक्त अबरार अहमद ने प्रकाश विभाग को इनमें बिजली कनेक्शन कराने को कहा था, मगर कनेक्शन नहीं लिया गया। अब इन शेल्टर होम में बिना बिजली के भला कौन ठहरेगा। पानी के कनेक्शन भी पांच शेल्टर होम में नहीं हो सके हैं। सिर्फ बाकरगंज और सीआई पार्क के शेल्टर होम में ही ये कनेक्शन हैं। हजियापुर के दोनों शेल्टर होम और सैदपुर हाकिंस के शेल्टर होम में सबमर्सिबल लगाए गए हैं, मगर इन्हें चलाने के लिए बिजली ही नहीं है। छोटी विहार में हैंडपंप में ही मोटर जोड़ दिया गया है, मगर वह भी बिजली न होने की वजह से नहीं चल पाता। बदायूं रोड के शेल्टर होम के सामने ही ओवरहेड टैंक है, मगर अब तक कनेक्शन नहीं जोड़ा गया है। जलकल विभाग के प्रभारी एई एबी राजपूत का कहना है कि जब यह चालू होगा तो कनेक्शन करा देंगे, वरना लोग टोटियां खोलकर ले जाएंगे।

चौकीदारों के हवाले हैं सब
किसी भी शेल्टर होम पर केयर टेकर की व्यवस्था नहीं है। सिर्फ चौकीदारों के हवाले छोड़ दिया गया है। शुभम सिक्योरिटी एजेंसी के माध्यम से ये चौकीदार तीन-तीन हजार रुपये पर रखे गए हैं। सीआई पार्क वाले शेल्टर होम में तो चौकीदार परिवार के साथ रहता है। एक शेल्टर होम में तो चौकीदार अंदर बैठने के बजाए पास में ही पान की दुकान चलाता है। ऐसे में यदि कोई यहां ठहरने भी आए तो ताला देखकर लौट जाएगा। सही बात तो यह है कि किसी शेल्टर होम को चौकीदार लावारिस छोड़कर चले जाते हैं तो किसी पर ताला ही डाले रखते हैं। यही नहीं वे इनमें बाराती भी ठहरा लेते हैं। सभी में तख्त और बिस्तर होने का भी वे फायदा उठाते हैं। पड़ताल के वक्त एक शेल्टर होम के चौकीदार से जब इस बारे में बात की गई तो उसने यहां तक कहा कि नगर निगम में जाकर बात कर लीजिए, वहीं से हमें आर्डर मिलता है।

लैटरीन-बाथरूम इस्तेमाल लायक नहीं
सभी सातों शेल्टर होम के लैटरीन और बाथरूम इस्तेमाल लायक नहीं बचे हैं। बंद पड़े रहने के कारण इनमें कूड़ा जम गया है। इन्हें बनने के बाद से कभी साफ नहीं किया गया। इनमें से दो शेल्टर होम ऐसे भी हैं, जिनका इस्तेमाल आसपास रहने वाले लोग करते हैं। इनकी साफ-सफाई के लिए निगम के कर्मचारी कभी वहां नहीं जाते।

147 लाख खर्च हुए
एक शेल्टर होम के निर्माण में 21 लाख रुपये खर्च हुए। कुल मिलाकर 147 लाख रुपये इन पर खर्च हुए। इसमें से 70 प्रतिशत रकम राज्य सरकार की थी तो 20 प्रतिशत अवस्थापना निधि से खर्च की गई और दस प्रतिशत नगर निगम निधि से मिलाई गई।

अस्थायी शेल्टर होम लगना मुश्किल
पिछले साल काफी हाय-तौबा के बाद चौपुला, शहामतगंज और सैटेलाइट बस स्टैंड के पास अस्थायी शेल्टर होम बनाए गए थे। तब नगर निगम इन्हें बनाने के लिए तैयार नहीं था। अफसरों का तर्क था कि जब पक्के शेल्टर होम बन गए हैं तो इन पर खर्चा नहीं किया जा सकता। वहीं पाया यह गया था कि पूरी तरह से तैयार न होने के कारण ये रहने लायक नहीं हैं। इस बार अस्थायी शेल्टर होम बनाने का अब तक कोई इरादा सामने नहीं आया है। ऐसे में लोगों को फिर खुले आसमान के नीचे रहना मजबूरी होगी, या फिर दुपी-छुपी जगह बने पक्के शेल्टर होम में परेशानियों को झेलते हुए रुकें।

अलाव में फिर देरी
अलाव की लकड़ी के लिए अभी तक टेंडर नहीं हो सके हैं। पांच दिन पहले जब मेयर ने इस बारे में अफसरों से पूछा तो सब एक-दूसरे की बगले झांकने लगे थे। पिछले दो साल से लगातार ऐसा हो रहा है कि कड़क सर्दी शुरू होने पर ही अफरा-तफरी के बीच टेंडर के बजाए सीधे टाल से लकड़ी खरीदी गई। इसमें फालतू खर्चा भी हुआ था। साथ ही लोगों को अलाव भी देर से नसीब हो पाए थे।
  • कैसा लगा
Comments

Browse By Tags

shelter home

स्पॉटलाइट

प्याज के छिलके भी हैं काम के, यकीन नहीं हो रहा तो खुद ट्राई करें

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

सामने खड़ी थी पुलिस, वो लाश से मांस नोंचकर खाता रहा...

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

इंटरव्यू में जाने से पहले ऐसे करें अपना मेकअप, नौकरी होगी पक्की

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

देखते ही देखते 30 मीटर पीछे खिसक गया 2000 टन का मंदिर

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

बॉलीवुड की 'सिमरन' की बहन को देखा क्या आपने, कुछ ऐसा है उनका बोल्ड STYLE

  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

Most Read

नवरात्र में टूट सकती है सपा, मुलायम-शिवपाल बनाएंगे नई पार्टी, ये हो सकता है नाम

samajwadi party will be divided mulayam and shivpal announce new party
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

सीएम योगी का जवाब, किसानों की हंसी उड़ा रहे अखिलेश खुद बनेंगे हंसी के पात्र

Cm yogi reply to Akhilesh tweet on loan issue
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

सीएम योगी ने पेश किया छह माह का लेखा जोखा, पुलिस, युवाओं और किसानों पर दिया जोर

cm yogi presented six moth up government report card
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

निकाहनामा के समय दूल्हे ने नहीं हटाया सेहरा, दुल्हन ने किया शादी से इनकार

Bride refused marriage in kannauj
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

प्रद्युम्न मर्डर केसः पिंटो परिवार की याचिका पर सुनवाई से हाईकोर्ट के जज का इंकार

pradyuman murder case, Ryan school owners pinto family anticipatory bail plea in High Court
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी ने ली चुटकी, 'सुना है लश्कर में कमांडर की वैकेंसी है'

DGP sp vaid said, the commander's vacancy available in Lashkar-e-Taiba Srinagar
  • मंगलवार, 19 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!