आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

बेसहारों का सहारा नहीं बन पाएंगे शेल्टर होम

Bareilly

Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST

अजय सक्सेना
बरेली। डेढ़ करोड़ रुपये खर्च करके बनाए गए शेल्टर होम कतई उपयोगी साबित नहीं हो रहे हैं। बिजली-पानी का कनेक्शन न होने की वजह से ये रहने लायक ही नहीं रह गए हैं। नगर निगम की लापरवाही की वजह से सारा धन पानी में बहता दिख रहा है। यही कारण है कि तेज हुई सर्दी में आश्रयहीन लोग खुले आसमान के नीचे रात बिताने को मजबूर हैं।
शेल्टर होम सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बनाए गए थे। सन् 2010 में सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद इस आदेश को और कड़ाई से लागू किया गया। अयूब खां चौराहा पर तो पहले से शेल्टर होम चल रहा था, बाकी सात और बनाए गए। इनमें से तीन का निर्माण कार्य तो पिछले साल कड़क जाड़ों में भी चलता रहा। बाकी चार में कोई इसलिए जाकर नहीं रुका, क्योंकि रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड या फिर शहर के प्रमुख स्थानों से काफी दूर बने हैं। दो तो हजियापुर में बनाए गए हैं। इसके अलावा छोटी विहार, सैदपुर हाकिंस, बाकरगंज, सीआई पार्क के पास, बाकरगंज और बदायूं रोड पर सुभाषनगर मोड़ के पास पानी की टंकी के सामने एक-एक शेल्टर होम बनाए गए हैं।

बिजली-पानी ही नहीं
सात शेल्टर होम में से किसी में भी अब तक बिजली का कनेक्शन नहीं हुआ है। पूर्व नगर आयुक्त अबरार अहमद ने प्रकाश विभाग को इनमें बिजली कनेक्शन कराने को कहा था, मगर कनेक्शन नहीं लिया गया। अब इन शेल्टर होम में बिना बिजली के भला कौन ठहरेगा। पानी के कनेक्शन भी पांच शेल्टर होम में नहीं हो सके हैं। सिर्फ बाकरगंज और सीआई पार्क के शेल्टर होम में ही ये कनेक्शन हैं। हजियापुर के दोनों शेल्टर होम और सैदपुर हाकिंस के शेल्टर होम में सबमर्सिबल लगाए गए हैं, मगर इन्हें चलाने के लिए बिजली ही नहीं है। छोटी विहार में हैंडपंप में ही मोटर जोड़ दिया गया है, मगर वह भी बिजली न होने की वजह से नहीं चल पाता। बदायूं रोड के शेल्टर होम के सामने ही ओवरहेड टैंक है, मगर अब तक कनेक्शन नहीं जोड़ा गया है। जलकल विभाग के प्रभारी एई एबी राजपूत का कहना है कि जब यह चालू होगा तो कनेक्शन करा देंगे, वरना लोग टोटियां खोलकर ले जाएंगे।

चौकीदारों के हवाले हैं सब
किसी भी शेल्टर होम पर केयर टेकर की व्यवस्था नहीं है। सिर्फ चौकीदारों के हवाले छोड़ दिया गया है। शुभम सिक्योरिटी एजेंसी के माध्यम से ये चौकीदार तीन-तीन हजार रुपये पर रखे गए हैं। सीआई पार्क वाले शेल्टर होम में तो चौकीदार परिवार के साथ रहता है। एक शेल्टर होम में तो चौकीदार अंदर बैठने के बजाए पास में ही पान की दुकान चलाता है। ऐसे में यदि कोई यहां ठहरने भी आए तो ताला देखकर लौट जाएगा। सही बात तो यह है कि किसी शेल्टर होम को चौकीदार लावारिस छोड़कर चले जाते हैं तो किसी पर ताला ही डाले रखते हैं। यही नहीं वे इनमें बाराती भी ठहरा लेते हैं। सभी में तख्त और बिस्तर होने का भी वे फायदा उठाते हैं। पड़ताल के वक्त एक शेल्टर होम के चौकीदार से जब इस बारे में बात की गई तो उसने यहां तक कहा कि नगर निगम में जाकर बात कर लीजिए, वहीं से हमें आर्डर मिलता है।

लैटरीन-बाथरूम इस्तेमाल लायक नहीं
सभी सातों शेल्टर होम के लैटरीन और बाथरूम इस्तेमाल लायक नहीं बचे हैं। बंद पड़े रहने के कारण इनमें कूड़ा जम गया है। इन्हें बनने के बाद से कभी साफ नहीं किया गया। इनमें से दो शेल्टर होम ऐसे भी हैं, जिनका इस्तेमाल आसपास रहने वाले लोग करते हैं। इनकी साफ-सफाई के लिए निगम के कर्मचारी कभी वहां नहीं जाते।

147 लाख खर्च हुए
एक शेल्टर होम के निर्माण में 21 लाख रुपये खर्च हुए। कुल मिलाकर 147 लाख रुपये इन पर खर्च हुए। इसमें से 70 प्रतिशत रकम राज्य सरकार की थी तो 20 प्रतिशत अवस्थापना निधि से खर्च की गई और दस प्रतिशत नगर निगम निधि से मिलाई गई।

अस्थायी शेल्टर होम लगना मुश्किल
पिछले साल काफी हाय-तौबा के बाद चौपुला, शहामतगंज और सैटेलाइट बस स्टैंड के पास अस्थायी शेल्टर होम बनाए गए थे। तब नगर निगम इन्हें बनाने के लिए तैयार नहीं था। अफसरों का तर्क था कि जब पक्के शेल्टर होम बन गए हैं तो इन पर खर्चा नहीं किया जा सकता। वहीं पाया यह गया था कि पूरी तरह से तैयार न होने के कारण ये रहने लायक नहीं हैं। इस बार अस्थायी शेल्टर होम बनाने का अब तक कोई इरादा सामने नहीं आया है। ऐसे में लोगों को फिर खुले आसमान के नीचे रहना मजबूरी होगी, या फिर दुपी-छुपी जगह बने पक्के शेल्टर होम में परेशानियों को झेलते हुए रुकें।

अलाव में फिर देरी
अलाव की लकड़ी के लिए अभी तक टेंडर नहीं हो सके हैं। पांच दिन पहले जब मेयर ने इस बारे में अफसरों से पूछा तो सब एक-दूसरे की बगले झांकने लगे थे। पिछले दो साल से लगातार ऐसा हो रहा है कि कड़क सर्दी शुरू होने पर ही अफरा-तफरी के बीच टेंडर के बजाए सीधे टाल से लकड़ी खरीदी गई। इसमें फालतू खर्चा भी हुआ था। साथ ही लोगों को अलाव भी देर से नसीब हो पाए थे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

shelter home

स्पॉटलाइट

कपल्स को देखकर ये सोचती हैं सिंगल लड़कियां!

  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

नौकरी के बीच में ही कपल्स को मिल सकेगा 'सेक्स ब्रेक'

  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

सुपरस्टारों के ये बच्चे भी बिन तैयारी हुए लॉन्च, हो गए फ्लॉप

  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

बदन से आती है दुर्गंध ? खाने की प्लेट से हटा दें ये चीजें

  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

हैलो! अनुष्का शर्मा आपसे बात करना चाहती हैं, ये रहा उनका नंबर

  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

Most Read

भड़काऊ भाषण ने खड़ा किया मुसीबतों का पहाड़, पीएम मोदी के सामने आई नई मुश्किल

pm accused of making inflammatory speeches at rally
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

मायावती का पलटवार, अमित शाह सबसे बड़ा कसाब, उनसे बड़ा आतंकी कौन

 mayawati in ambedkarnagar.
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

खुशखबरी : 15 अप्रैल से यहां हाेगी सेना रैली भर्ती, 13 जिलाें के अभ्यर्थी अभी करें अावेदन

sena bharti rally in kanpur
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

वाेटिंग में पांच लाख इनामी डाकू बबुली काेल का खाैफ, पुलिस, पीएसी ने की घेरेबंदी

daku babuli kol affects up election 2017
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

यूपी चुनाव 2017 : एक गांव में एक वोट पड़ा दूसरे में एक भी नहीं, कारण जानकर रह जाएंगे हैरान

vilagers  voting boycott in kanpur
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

J&K के शोपियां में सेना की पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमला, 3 जवान शहीद

7 Army men injured after terrorists attack in Shopian district of J-K
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top