आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

रानीखेत के नाम पर अंग्रेजों ने दिया यह कैसा कलंक

Bareilly

Updated Mon, 26 Nov 2012 12:00 PM IST

हल्द्वानी। पहाड़ के जिस शहर की खूबसूरती का नजारा देखने लोग देश-विदेश से आते हैं, उसी के नाम पर ब्रिटिशों ने 65 साल पहले जो कलंक लगाया था, वह आज तक बरकरार है। उत्तराखंड में रानीखेत एक मशहूर पर्यटन स्थल है। जबकि यह सच्चाई जानकर ताज्जुब होगा कि पक्षियों में वायरस से फैलने वाले एक रोग का नाम भी ‘रानीखेत’ है। यह बीमारी मुर्गियों, मोर और बत्तखों में फैलती है। हालांकि रानीखेत शहर से इस बीमारी का कोई लेना देना नहीं है। अंग्रेजों ने साजिश के तहत बीमारी का नाम न्यू कैसल से बदलकर रानीखेत रख दिया था। ग्रेटर नोएडा के कुछ गांवों में चार माह पहले इसी रोग के फैलने की खबर के बाद एक आरटीआई कार्यकर्ता ने भारत सरकार से इसकी जानकारी मांगते हुए इस महामारी का नाम बदलने की मांग की है।
रानीखेत बीमारी का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है। इस रोग के वायरस ‘पैरामाइक्सो’ को सबसे पहले वैज्ञानिकों ने वर्ष 1926 में इंग्लैंड के न्यू कैसल शहर में चिन्हित किया था। दुनिया में अब भी इसे न्यू कैसल रोग ही कहा जाता है, लेकिन हिंदुस्तान में बीमारी का नाम ‘रानीखेत’ है। इसकी वजह यह कि वर्ष 1928 में रानीखेत में मुर्गियों पर न्यू कैसल रोग महामारी की तरह फैल गया था। इसकी पुष्टि के बाद ब्रिटिश विज्ञानियों ने चतुराई से हिंदुस्तान में इसी राष्ट्र के सुंदर शहर के नाम पर बीमारी का नाम परिवर्तित कर रानीखेत रख दिया। ताकि कम से कम भारत में इंगलैंड का न्यू कैसल शहर बदनाम न हो। यही दुर्भाग्य है कि, अब भी हिंदुस्तान में जहां भी वायरस फैलता है, वहां इसे ‘रानीखेत’ ही कहा जाता है। उत्तर भारत में इस रोग का फैलाव कम है, पर दक्षिण और पश्चिम भारत में कई बार बीमारी मुर्गियों की जान को महामारी की तरह निगलती है।
रोग उभरने पर यदि तुरंत ‘रानीखेत एफ-वन’ नामक वैक्सीन दी जाए तो 24 से 48 घंटे में पक्षी की हालत सुधरने लगती है। ग्रेटर नोएडा के गांवों में मोरों पर रानीखेत रोग के फैलने की सूचना पर सितंबर में दिल्ली में पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेड और मूल रूप से उत्तराखंड के मासी गांव निवासी सतीश जोशी ने सूचना के अधिकार के तहत भारत सरकार के पशुपालन, डेयरी और मछली पालन विभाग से इसके बारे में जानकारी मांगी, लेकिन उन्हें संतोषजनक जवाब नहीं मिला। इस विभाग के लोक सूचना अधिकारी ने अब सह सचिव को जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। सतीश जोशी ने उत्तराखंड में नेता प्रतिपक्ष अजय भट्ट के सामने भी यह मामला रखा है। उनका कहना है कि उत्तराखंड के खूबसूरत स्थान की अस्मिता पर यह बड़ दाग है। किसी स्थान के नाम से बीमारी का नाम रखना उचित नहीं है। उन्होंने आरटीआई के जरिए प्रश्न पूछने के साथ रानीखेत रोग का नाम बदलने का भी सुझाव दिया है और मुहिम चलाई है। यहां बता दें कि रानीखेत सिर्फ प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण ही नहीं बल्कि सेना की कुमाऊं रेजीमेंट का मुख्यालय भी है।
इंसेट
रोग के लक्षण
- ब्रेन प्रभावित होते ही शरीर का संतुलन लड़खड़ता है, गर्दन लुढ़कने लगती है।
- कई बार शरीर के एक हिस्से को लकवा मार जाता है
- पाचन तंत्र प्रभावित होने पर डायरिया की स्थिति बनती है।
- मल पतला और हरे रंग का होने लगता है।
- डायरिया के चलते लीवर भी डैमेज होता है।
- सांस के नली के प्रभावित होने से सांस लेने में तकलीफ
इंसेट
केंद्रीय पक्षी विज्ञान संस्थान (सीएआरआई) बरेली के निदेशक डा. आरपी सिंह और पक्षी रोग विशेषज्ञ डा. एएस यादव ने बताया कि पैरामाइक्सो या रानीखेत वायरस पक्षियों के ब्रेन, पाचन और सांस नली पर हमला करते हैं। रानीखेत रोग जानलेवा है। हल्के रूप में यह जकड़ तो मृत्यु दर 10 से 15 फीसदी और गंभीर रूप धारण करने पर 50 से 60 फीसदी तक पहुंच जाती है। इसके उपचार को दवा ईजाद नहीं हुई है। हां, बचाव के लिये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने को वैक्सीन लगाई जाती है।
कोट
इंसान में भी कई बार संक्रमण फैलने की स्थिति बनती है। हालांकि इंसान को गंभीर परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता। आंखों में कंजेक्टिवाइटिस (आंखों का लाल होना) की शिकायत उभरती है जो कि दवा लेने पर ठीक हो जाता है। -डा. आरपी सिंह, निदेशक, केंद्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान, बरेली।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

british ranikhet stigma

स्पॉटलाइट

कई बीमारियों का इलाज करता है शिव का प्रिय 'धतूरा'

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

पैरों को मोड़कर बैठना हो सकता है खतरनाक..अब गलती से भी न बैठें ऐसे

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

इस हीरो के बोल्ड सीन देख छूट गए थे सभी के पसीने, आज जी रहा गुमनामी की जिंदगी

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

Indian Couture Week 2017: राजस्थानी प्रिंसेस लुक में रैंप पर उतरीं दिया मिर्जा

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

इन खास मौकों पर हमेशा झूठ बोलती हैं लड़कियां, ऐसे करें पता

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

Most Read

योगी ने शिक्षामित्रों को दी प्रदर्शन न करने की हिदायत, समायोजन पर भी बोले

cm adityanath speaks adjustment of shikshamitra was wrong
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

नीतीश कुमार ने हासिल किया बहुमत, 131 विधायकों का मिला साथ

Nitish Kumar said on RJD, Will show mirror to everyone, not tolerate corruption
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

श‌िक्षाम‌ित्रों के प्रदर्शन से लेकर सदन के हंगामे तक, पढ़ें यूपी की HEADLINES

news updates of uttar pradesh
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

नहीं थम रहा श‌िक्षामित्रों का बवाल, डीजीपी ने मोर्चा संभालने के ल‌िए दिए ये निर्देश

up dgp sulkhan singh instructed police to patiently handle shikshamitra
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

नीतीश के कैबिनेट में शामिल होंगे BJP-JDU के 6-6 मंत्री, मांझी को भी जगह!

sources says 13 ministers would be part of bihar cabinet in which manjhi name also involved
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

शिवपाल यादव का बड़ा बयान, कहा- बसपा से गठबंधन पर विचार संभव

Shivpal Yadav big statement, said possible to consider coalition alliance with BSP
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!