आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

जर्मनी की महिला किसान सीख रही खेती

Banda

Updated Sun, 28 Oct 2012 12:00 PM IST
बांदा। ‘फारमर्स शुड सर्च मैथेड्स आफ एग्रीकल्चर व्हिच कैन फुलफिल रिक्वायरमेंट आफ रिसपांसबिलिटी। इनक्रीच इनकम एकार्डिंग टू इनक्रीचिंग एज एंड डेक्रेजिंग फिजिकल पावर’ यानि किसानों को उन तरीकों को खोजना चाहिए जिसमें ज्यादा आमदनी हों और जरूरतें पूरी हो सकें। जिम्मेदारियों को अच्छी तरह निभाया जा सके। बढ़ती उम्र में सुविधा का अभाव न रहे।
यह कहना है कि जर्मनी की स्नातक किसान स्टफनी का। वह इन दिनों भारतीय खेतीबाड़ी के गुर सीखने यहां आईं हुई हैं। प्रगतिशील किसान प्रेम सिंह अपने बड़ोखर खुर्द स्थित कृषि फार्म में उन्हें खेती-किसानी के गुर सिखा रहे हैं। जर्मन के उल्म शहर के रहने वाली स्टफनी भारतीय खेती सीखने को दो माह के लिए यहां आईं हुई हैं। पिछले करीब एक पखवारे से वह हर वो काम सीख रही हैं जो आमतौर पर भारतीय किसानों की दिनचर्या है।
25 वर्षीय स्टफनी का कहना है कि बढ़ती उम्र से शरीर कमजोर होने लगता है। जिम्मेदारियां भी बढ़ने लगती हैं। इन हालात में ज्ञान काम आता है। किसानों को ऐसे तरीके खोजना चाहिए जिसमें आमदनी ज्यादा हो और उनकी जरूरतें पूरी हो सकें। स्टफनी ने बेबाकी से कहा कि आर्गनिक खेती से जरूरतें पूरी हो सकती हैं। जर्मनी युवती को मलाल है कि बुंदेलखंड के युवा दूसरे शहरों में पलायन करके वहां काम कर रहे हैं जबकि उन्हें खेती व्यवसाय को चुनना चाहिए। खेती में शोध करना चाहिए। चुपचाप नहीं बैठना चाहिए। वह कहती हैं ‘एग्रीकल्चर वेरी इंट्रेस्ंिटग वर्क’ (कृषि बेहतरीन व्यवसाय है)।
स्टफनी पहली बार भारत आईं हैं। उन्होंने किसान प्रेम सिंह के बारे में सुन रखा था। इसीलिए यहां आकर प्रेम सिंह की मेहमान बन गईं हैं। हिंदी बोलना भी सीख रही हैं। कृषि फार्म में रहने वाली एक सात वर्षीय बालिका खुशी से स्टफनी की काफी दोस्ती गठ गई है। स्टफनी रोजाना सुबह गाय, भैंस का दूध दुहती हैं। खेतों की गुड़ाई और पेंटिंग करती हैं। दिन भर खेती के बारे में बातचीत में समय बिताती हैं। टूटी-फूटी हिंदी बोलना आ गया है।
स्टफनी ने अपनी बात ‘बुंदेलखंड आच्छा है, नमस्ते’ कहकर खत्म की। प्रेम सिंह ने बताया कि स्टफनी को भारतीय खेती के तौर-तरीके सुहा रहे हैं। वह आर्गनिक खेती को व्यवसाय के रूप में चुनना चाहती हैं।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

germanys women farmers

स्पॉटलाइट

देखें, रियल लाइफ में कैसे दिखते हैं 'बाहुबली' के ये फेमस स्टार

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

कैटरीना ने टॉवल में खिंचवाई तस्वीर, सोशल मीडिया पर वायरल

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

कपड़े धोते हुए पत्नी की हो गई थी मौत, पति ने ऐसे कर दिया दोबारा जिंदा..

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

लोगों पर छाया 'बाहुबली' का खुमार, प्रभास की तस्वीर पर चढ़ा दूध

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

बॉलीवुड में भी अपने लुक से सबको दीवाना बनाने को तैयार है ये पाकिस्तानी हीरोइन

  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

Most Read

योगी की चेतावनी- 9 से 6 ऑफिस में ही दिखें, कभी भी बज सकता है फोन

press con of minister shrikant sharma
  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

अंकल पेंट मत करना, पापा दरोगा हैं, इसके बाद सीओ ने क्या किया

Do not paint uncle, Papa is Daroga, what did the CO do after this
  • गुरुवार, 27 अप्रैल 2017
  • +

शहीद की मां का दर्द,‘प्रधानमंत्री से कुछ नहीं होता तो मैं ही कर दूंगी आतंकवादियों का खात्मा’

martyr ayush mother says about pm modi
  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

JEE Main 2017 : टॉपर कल्पित ने बताया अपनी सफलता के पीछे का राज

JEE Main 2017 Interview: topper kalpit was also a 10/10 CGPA scorer in class 10th
  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

शहीद कैप्टन के पिता का बड़ा बयान, कहा-'केंद्र सरकार की खराब पॉलिसी की वजह से मरा मेरा बेटा'

big statement of father martyr captain ayush yadav
  • शुक्रवार, 28 अप्रैल 2017
  • +

यूपी डीजीपी का पद छोड़ते वक्त ये ट्वीट कर गए जावीद अहमद, आपने पढ़ा?

javeed ahmed tweets before leaving the post of UP dgp
  • शनिवार, 22 अप्रैल 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top