आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

बिना अपराध बैरक में बेबस बचपन

Bahraich

Updated Mon, 10 Dec 2012 05:30 AM IST
बहराइच। दुनिया जहान की चिंता से बेफिक्र गली मोहल्लों में कुलांचे भरने वाला बचपन जिला जेल की बैरक में बेबस है। न खेल के साजो-समान हैं और न संगी साथियों का मेल। सख्त बिछौने आंखों से नींद छीन लेते हैं। वहीं, बड़ी-बड़ी दीवारें व डरावने कैदियों के चेहरे दहशत भरने का काम कर रहे हैं। ऐसे में जब उन्हें गली-मोहल्ले, घर व संगी-साथी याद आते हैं तो मन छटपटा उठता है। सवालों पर मां की चुप्पी उन्हें अखरती है। ये मार्मिक दास्तां उन मासूमों की है जिन्हें बेरहम हालात ने ‘कैदी’ बना दिया। अपनी मां के साथ वे बिना किसी अपराध के सजा काट रहे हैं। मासूमियत भरी इन बच्चों की आंखें मानवाधिकार से नहीं बल्कि समाज से अपना जवाब मांगती हैं।
जिला कारागार बहराइच ब्रिटिश काल के दौरान निर्मित किया गया था। यहां की बैरकों में 540 बंदियों को रखने की व्यवस्था है। वर्तमान में यहां सजायाफ्ता व विचाराधीन बंदियों को मिलाकर लगभग 11 सौ बंदी निरुद्ध हैं। वहीं, इंडो-नेपाल बार्डर से चरस लेकर आते समय भारतीय इलाके में पकड़ी गईं नेपाली 71 महिलाओं के साथ 14 बच्चे ऐसे हैं जो बिना किसी अपराध के जेल की सजा काट रहे हैं। ये बच्चे भी अपनी मां के कृत्यों के भागीदार बन बैठे। जेल पहुंचते ही इन बच्चों की चंचलता व भोलापन न जाने कहां गुम हो गई। जिस उम्र में इन्हें अपनी चंचलता व नटखटपन से लोगों को हंसाना व हंसना था, उस उम्र में इनकी मुस्कान जेल की चहारदीवारी में कैद होकर रह गई है। 14 बच्चों में शामिल रीता व दिनेश जब अपनी मां से अपने पिता के बारे में पूछते हैं तो मां की चुप्पी उन्हें अखरने लगती हैं, वहीं मां की आंखों में आंसू देख इन बच्चों की आंखें भी डबडबा जाती हैं। नन्हें मासूमों की भोली आंखें जेल की सलाखों के पार अपने पिता को तलाशती रहती है। जेल प्रशासन की ओर से इन बच्चों की देखभाल, शिक्षा-दीक्षा व खान-पान के विशेष इंतजाम किए जाते हैं लेकिन बच्चों को सब फीका लगता है। अंत में बस इतना ही कि भारतीय कानून के अनुसार महिला कैदी के साथ छह साल तक के बच्चे रह सकते हैं लेकिन सवाल यही है कि बिना किसी अपराध के सजा काटते इन बच्चों का कोई मानवाधिकार नहीं है।
बंदियों के सापेक्ष नहीं बढ़ी अस्पताल की सुविधाएं
ब्रिटिश काल के दौरान स्थापित जिला कारागार में समय परिवर्तन के साथ बंदियों की संख्या बढ़ती गई लेकिन यहां के अस्पताल में सुविधाएं नहीं बढ़ सकी है। यहां मानकों के अनुरुप दो में से एक डॉक्टर व दो फार्मासिस्ट तैनात हैं और बीस बेड हैं। लेकिन संसाधनों की कमी बंदियों को साल रही है। इसके चलते अधिकतर बीमारियों में बंदियों को इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाना पड़ता है। वहीं महिला डॉक्टर तैनात न होने से महिलाओं के इलाज की सुविधा ही नहीं है। विगत जनवरी माह में जासूसी के केस में एक महिला समेत तीन चीनी नागरिक इसी जेल में रखे गए थे। चीनी महिला गर्भवती थी। उसने गर्भपात कराए जाने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। जेल में महिला डाक्टर न होने से उसे बार-बार जिला महिला अस्पताल ले जाना पड़ता था।
पांच बच्चों को मिल रही है शिक्षा
जिला कारागार में अपनी मां के साथ निरुद्ध 14 बच्चों में से पांच बच्चों को जेल प्रशासन की ओर से एक निजी विद्यालय में शिक्षा प्रदान कराई जा रही है। बच्चों को स्कूल लाने व ले जाने के लिए एक कर्मचारी को जिम्मेदारी दी गई है। अध्ययनरत इन पांच बच्चों की शिक्षा का खर्च जेल प्रशासन स्वयं वहन कर रहा है।
बच्चों की शिक्षा व खान पान का विशेष ध्यान
जिला कारागार के जेलर अभिराम मणि त्रिपाठी ने बताया कि जेल में निरुद्ध महिलाओं के साथ रह रहे बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए दूध मुहैया कराया जाता है। उन्होंने कहा कि जो बच्चे स्वेच्छा से पढ़ाई करना चाहते हैं उनका स्थानीय एक निजी विद्यालय में भेजा जाता है। शिक्षा विभाग उनकी परीक्षा
लेता है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

childhood crime

स्पॉटलाइट

अब ऐसा दिखने लगा है शाहरुख-काजोल का 'बेटा', ये काम कर कमा रहा पैसे

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

'तीन तलाक' ने उजाड़ दी थी मीना कुमारी की जिंदगी, ऐसा हो गया था उनका हाल

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

लगातार हिट देता है साउथ का ये सुपरस्टार, एक फिल्म की लेता है इतनी फीस

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

जिम जाने में आता है आलस तो घर में ही करें ये डांस हो जाएंगे फिट

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

बालों की देखभाल से जुड़ी इन बातों पर कभी न करें भरोसा नहीं तो होगा पछतावा

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

Most Read

मां-बाप ने डांटा तो घर से भाग न‌िकले नाबाल‌िग भाई-बहन, होटल पहुंचे तो...

minor brothers and sisters run from house after Parents scolded  
  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

शिक्षाम‌ित्रों के हक में अखिलेश ने किया ट्वीट, निशाने पर सीएम योगी

akhilesh yadav tweets in favour of shikshamitra
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

विपक्षी एकता को लगा झटका, लालू की रैली में शामिल नहीं होंगी मायावती, मुलायम पर सस्पेंस

Mayawati refused to come in lalu rally be held in 27 august, even mulayam hope also less  -
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

मायावती सामने लाईं अख‌िलेश यादव के साथ वायरल हो रहे पोस्टर की सच्चाई

rival mayawati and akhilesh appears in same poster together
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

मानहानि मामले में केजरीवाल ने लिखकर मांगी माफी, कहा-बहकावे में आ गया था

kejriwal apologizes to bjp leader avatar singh bhadana in defamation case says i was misguided
  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने दिया नेहा खान को नया हौसला, पति ने कहा था कार नहीं लाई तो दे दूंगा तलाक

supreme court give new hope to agra woman over talaq
  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!