आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

गन्ने में प्रयोग से किसानों को परहेज

Baghpat

Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
बागपत। गन्ना किसानों को नई-नई वैरायटी के प्रयोग करने के लिए भले ही कितनी योजनाएं चलाई जा रही हों, लेकिन तमाम सब्सिडी देने के बावजूद इनका ज्यादा असर नहीं हो पा रहा है। बागपत जैसे गन्ने के दीवाने जनपद में आज भी 84 फीसदी किसान को.शा. 767 जैसी पुरानी वैरायटी का ही गन्ना बो रहे हैं। वजह सख्त गन्ना होने की है। यह मजबूती इसे जंगली जानवरों से बचा देती है, जबकि ज्यादा मिठास वाली बाकी वैरायटी का गन्ना मुलायम होता है। इसमें रिकवरी तो ज्यादा है लेकिन जानवरों से बचना मुश्किल।
गन्ना विभाग शीघ्र पकने वाली प्रजाति में को.शा. 88230, 96268, को.से. 95436, 98231, 01235 तथा मध्य देर से पकने वाली को.शा. 767, 8432, 94257, 97261, 97264, 99259, यूपी 0097, को.से. 92423 और 95422 का बीज मुहैया कराता है। लेकिन 84 फीसदी किसान 767 ही बोते हैं।
को.शा. 88230 प्रजाति का गन्ना इतनी मीठा होता है कि इसे रसगुल्ला कहा जाता है। इसकी रिकवरी भी ज्यादा है, लेकिन बहुत मुलायम होता है। इसलिए इसे जानवर आसानी से चट कर जाते हैं। को.शा. 767 में 900 कुंतल प्रति हेक्टेयर तक गन्ना होता है, जबकि नई प्रजाति 950 से 1000 कुंतल तक दे रही हैं। लेकिन किसान जानवरों के डर से इनसे परहेज कर रहे हैं।
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में आधार प्रयोगशाला में तैयार नई प्रजाति के बीज लेने पर किसानों को सब्सिडी भी दी जा रही है, लेकिन इसका भी खास क्रेज नहीं है। निवाड़ा के किसान राजवीर बताते हैं कि उन्होंने दो बार रसगुल्ला बोया, लेकिन दोनों बार कीड़े लगे और जानवरों ने बहुत नुकसान किया।
बलि के पप्पू कहते हैं कि 767 बहुत सख्त होती है, इसे जानवर नहीं खा पाते। इसके अलावा यह सर्दी, गर्मी, बरसात हर मौसम को आसानी से सहन कर जाती है। बाकी प्रजाति के गन्ने का ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है।

गन्ने का गणित
जनपद में कृषि योग्य भूमि एक लाख तीन हजार 367 हेक्टेयर है।
इसमें 70 हजार 500 हेक्टेयर पर सिर्फ गन्ना बोया गया है।
गन्ने की 84 फीसदी फसल में को.शा. 767 वैरायटी बोई गई है।
को.शा. 8432 वैरायटी 4.67 और सीओपी 842112 1.69 प्रतिशत है।
बाकी 20 वैरायटी एक-एक फीसदी से भी कम लगाई गई हैं।

जानवरों का डर
करोड़ों रुपये की फसल हर साल जंगली जानवर खा जाते हैं।
गन्ने को नील गाय सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा रही है।
जंगली सुअर भी पूरे के पूरे खेत ही तबाह कर दे रहे हैं।
को.शा. 767 वैरायटी का गन्ना सख्त होने से जानवरों से बच जाता है।
को.शा. 767 गन्ने की प्रति हेक्टेयर उपज भी ज्यादा आ रही है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

cane farmers use

स्पॉटलाइट

गुटखे की आदत से परेशान है तो अपनाएं सौंफ का ये नुस्खा, चंद दिनों में होगा असर

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

शाहिद कपूर की धमकी के बाद श्रीदेवी की बेटी के साथ घूम-फिर रहे हैं ईशान

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

साड़ी में रवीना को देख रणवीर ने की थी ऐसी हरकत, अक्षय भी दंग रह गए

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

80 साल की औरत के साथ हीरो ने दिया ऐसा सीन, देने पड़े 18 रीटेक

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

रात को सोने से पहले पार्टनर के साथ भूलकर भी न करें ये 5 बातें

  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

Most Read

दिल्लीः स्विमिंग पूल में डूबकर IFS ट्रेनी की संदिग्ध मौत

An Indian Foreign Service trainee dies after allegedly drowning in a swimming pool near Delhi
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

जोधपुर में मिला यूरेनियम का भंडार, आस्ट्रेलिया पर नहीं रहना होगा निर्भर

a discovery of uranium in rajasthan
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

यूपी में एक साथ 222 वरिष्ठ PCS अफसरों के तबादले, देखें पूरी लिस्ट

senior PCS transferred in Uttar   Pradesh.
  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

नीतीश के PM मोदी के साथ लंच पर तेजस्वी का तंज, कहा- चटनी पॉलिटिक्स

cm Nitish kumar will attend pm Modi's banquet
  • शनिवार, 27 मई 2017
  • +

योगी के मंत्री ने कहा- गोली से दिया जवाब तब मिला पद

Yogi minister Nand Gopal bad talk, said the bullet answer was given to the bullet then got the post
  • सोमवार, 29 मई 2017
  • +

गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट, मायावती बोलीं- भीम आर्मी से कोई संबंध नहीं

mayawati pc on dalits saharanpur violence
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top