आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

गन्ने में प्रयोग से किसानों को परहेज

Baghpat

Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
बागपत। गन्ना किसानों को नई-नई वैरायटी के प्रयोग करने के लिए भले ही कितनी योजनाएं चलाई जा रही हों, लेकिन तमाम सब्सिडी देने के बावजूद इनका ज्यादा असर नहीं हो पा रहा है। बागपत जैसे गन्ने के दीवाने जनपद में आज भी 84 फीसदी किसान को.शा. 767 जैसी पुरानी वैरायटी का ही गन्ना बो रहे हैं। वजह सख्त गन्ना होने की है। यह मजबूती इसे जंगली जानवरों से बचा देती है, जबकि ज्यादा मिठास वाली बाकी वैरायटी का गन्ना मुलायम होता है। इसमें रिकवरी तो ज्यादा है लेकिन जानवरों से बचना मुश्किल।
गन्ना विभाग शीघ्र पकने वाली प्रजाति में को.शा. 88230, 96268, को.से. 95436, 98231, 01235 तथा मध्य देर से पकने वाली को.शा. 767, 8432, 94257, 97261, 97264, 99259, यूपी 0097, को.से. 92423 और 95422 का बीज मुहैया कराता है। लेकिन 84 फीसदी किसान 767 ही बोते हैं।
को.शा. 88230 प्रजाति का गन्ना इतनी मीठा होता है कि इसे रसगुल्ला कहा जाता है। इसकी रिकवरी भी ज्यादा है, लेकिन बहुत मुलायम होता है। इसलिए इसे जानवर आसानी से चट कर जाते हैं। को.शा. 767 में 900 कुंतल प्रति हेक्टेयर तक गन्ना होता है, जबकि नई प्रजाति 950 से 1000 कुंतल तक दे रही हैं। लेकिन किसान जानवरों के डर से इनसे परहेज कर रहे हैं।
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना में आधार प्रयोगशाला में तैयार नई प्रजाति के बीज लेने पर किसानों को सब्सिडी भी दी जा रही है, लेकिन इसका भी खास क्रेज नहीं है। निवाड़ा के किसान राजवीर बताते हैं कि उन्होंने दो बार रसगुल्ला बोया, लेकिन दोनों बार कीड़े लगे और जानवरों ने बहुत नुकसान किया।
बलि के पप्पू कहते हैं कि 767 बहुत सख्त होती है, इसे जानवर नहीं खा पाते। इसके अलावा यह सर्दी, गर्मी, बरसात हर मौसम को आसानी से सहन कर जाती है। बाकी प्रजाति के गन्ने का ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है।

गन्ने का गणित
जनपद में कृषि योग्य भूमि एक लाख तीन हजार 367 हेक्टेयर है।
इसमें 70 हजार 500 हेक्टेयर पर सिर्फ गन्ना बोया गया है।
गन्ने की 84 फीसदी फसल में को.शा. 767 वैरायटी बोई गई है।
को.शा. 8432 वैरायटी 4.67 और सीओपी 842112 1.69 प्रतिशत है।
बाकी 20 वैरायटी एक-एक फीसदी से भी कम लगाई गई हैं।

जानवरों का डर
करोड़ों रुपये की फसल हर साल जंगली जानवर खा जाते हैं।
गन्ने को नील गाय सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा रही है।
जंगली सुअर भी पूरे के पूरे खेत ही तबाह कर दे रहे हैं।
को.शा. 767 वैरायटी का गन्ना सख्त होने से जानवरों से बच जाता है।
को.शा. 767 गन्ने की प्रति हेक्टेयर उपज भी ज्यादा आ रही है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

cane farmers use

स्पॉटलाइट

रोज घर में कीजिए खास उपाय, जमकर बरसेगा पैसा

  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

मां के नौ रूपों को पसंद हैं ये भोग, जानें किस दिन क्या चढ़ाएं

  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

हीरो से 'बात ना बनी' तो डायरेक्टर ने जड़ा था हीरोइन के मुंह पर जोरदार तमाचा

  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

जब सरेआम गर्लफ्रेंड के पैर पकड़कर फूट-फूटकर रोने लगा ब्वॉयफ्रेंड और फिर...

  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

प्रत्यूषा की आखिरी शॉर्ट फिल्म होगी रिलीज, मौत से ऐन पहले की थी शूटिंग

  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

Most Read

तीन तलाक के विरोध में हिंदू लड़के से किया विवाह

Jodhpur: Muslim Girl Marriage With Hindu Boy
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

सीएम बनते ही सुपर एक्शन में योगी, युवाओं के लिए कर दिया ये बड़ा एेलान

cm yogi adityanath first action for youth
  • बुधवार, 22 मार्च 2017
  • +

योगीराज में सूबे की चर्चित जिलाधिकारी बी. चंद्रकला प्रतिनियुक्ति पर पहुंचीं दिल्ली

Yogiraj discussed the District Magistrate B. chandrakala Delhi reached deputation
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

सपा विधानमंडल दल की बैठक में नेता चुने गए अखिलेश यादव

akhilesh yadav get elected vidhanmandal leader.
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +

छात्रा बनकर थाने पहुंचीं सीओ ने दी तहरीर, मुंशी ने दर्ज नहीं की रिपोर्ट    

CO Vandana Sharma
  • सोमवार, 27 मार्च 2017
  • +

आईजी लखनऊ का पुलिस ऑफिस में छापा, पांच सस्पेंड, सात की सैलरी रोकी

IG Lucknow A Satish ganesh visits police office, four suspended.
  • मंगलवार, 28 मार्च 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top