आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

‘गड़बड़ाया’ गणना का ‘गणित’

Agra

Updated Sun, 07 Oct 2012 12:00 PM IST
आगरा। वन्य प्राणियों की गणना में अब भी पुराने तौर तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है। इससे कई दफा आंकड़े वास्तविकता से काफी दूर होते हैं। गणना में वन विभाग द्वारा देखो और गिनो की पुरानी तकनीक ही प्रयोग में लायी जा रही है। गणना करने से वैज्ञानिक तथ्यों पर ध्यान नहीं दिया जाता है। यही कारण है कि आंकड़ें कई दफा चौंका जाते हैं।
वन विभाग ने हाल में राज्य पक्षी का दर्जा प्राप्त सारस की गणना की। आगरा मंडल में सारस की गणना का कार्य तीन अक्टूबर को दो चरणों में किया गया। जिले में बहुतायत में पाए जाने वाले इस पक्षी की स्थलीय गणना का हाल यह रहा कि केवल 23 सारस ही टीमों को दिखाई पड़े, जबकि आगरा मंडल में यह संख्या 509 रही। वास्तविकता यह है कि सारस की संख्या इससे कहीं अधिक है।
गणना का तरीका
वर्ल्ड वाइड लाइफ फंड के हरी सिंह ने बताया कि डाल्फिन की नदियों में रफ्तार चार से पांच किलोमीटर प्रति घंटा होती है। डाल्फिन कुछ समय बात सांस लेने पानी से बाहर आती हैं। जब हम बोट से डाल्फिन तलाश करते हैं तो जैसे ही वह दिखती तो नाव को उसकी गति से तेज चलाते हैं। इसके बाद अगले स्थान पर मिलने वाली डाल्फिन दूसरी होगी, क्योंकि पहली वाली डाल्फिन बोट की रफ्तार पकड़ नहीं सकती। इसके अलावा हम जीपीएस सिस्टम का प्रयोग करते हैं।
जीपीएस से हम बोट की गति, दिशा और कितनी देर रुके समेत अन्य जानकारियां लेते हैं। उनका कहना है कि एक्यूरेसी की तो नहीं कहते मगर अनुमानित संख्या का आंकलन हो जाता है।

समय उपयुक्त नहीं
वन्य जीव विशेषज्ञों की मानें तो सारस गणना का समय ठीक नहीं था। सारस अमूमन जुलाई से सितंबर केमध्य तालाबों और खेतों पर मिलते हैं। यदि उस समय गणना होती तो इनकी संख्या कहीं अधिक होती।

गणना के तरीके पारंपरिक
इसी तरह प्रदेशभर में गंगेज डाल्फिन (सूंस) की गणना का कार्य पांच अक्तूबर से प्रदेशभर में गंगा और उसकी सहायक नदियों में किया जा रहा है। वाइल्ड लाइफ के चंबल सेंचुरी के डीएफओ एस. बनर्जी ने बताया कि हम और एनजीओ देखो और गिनों के सिद्धांत पर गणना कर रहे हैं।

क्या है आधुनिक तरीका
पश्चिमी देशों में वन्य जीवों की गणना चिप सिस्टम से की जाती है। इसमें वन्य जीवों को पकड़ने के बाद उनके शरीर पर चिप लगा दी जाती है। इससे उनके भ्रमण समेत अन्य जानकारियां भी मिल जाती हैं। यह गणना का सटीक तरीका है। इसका प्रयोग हमारे देश में नहीं होता है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

gadbadaya count math

स्पॉटलाइट

इंग्लिश का ‌सिर्फ एक शब्द जानती है सनी लियोन की बेटी, जानें निशा के बारे में दिलचस्प बातें

  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

जब पति नहीं होते घर पर, तब बीवियां करती हैं ये काम

  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

मीठा नहीं इस बार तीज को बनाए कुछ यूं चटपटा...

  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

इस क्रिकेटर की दीवानी थीं माधुरी दीक्षित, इंटरव्यू में किया था इतना बड़ा खुलासा

  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

तैमूर को गोद में लेकर ये कहां चले सैफ और करीना..?

  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

Most Read

राम जेठमलानी ने छोड़ा केजरीवाल का केस, 2 करोड़ मांगी फीस

ram jethmalani quits as kejriwal counsel in jaitley defamation case seeks 2 crore as fees
  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

कभी 30 रुपये देकर इसी किराये के मकान में रहते थे कोविंद, अब यहां जश्न

some important facts about ramnath kovind
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
  • +

यूपी: पेपर लीक गैंग ने लगाई दरोगा भर्ती में सेंध, पूरी परीक्षा रद्द

up police recruitment entire process cancel
  • मंगलवार, 25 जुलाई 2017
  • +

J&K: आर्मी के जवानों ने थाने में घुसकर पुलिस को पीटा, अब्दुल्ला बोले- कार्रवाई हो

soldier beat policemen in jammu six injured
  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

दो महीने के अंदर दूसरी बार अयोध्या पहुंचे योगी, पहुंचने से पहले साधु-संतों का हंगामा

up cm adityanath visits ayodhya for the second time
  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +

‘तीन टुकड़े न हो जाएं इस डर से युद्ध रुकवाने के ल‌िए अमेर‌िका से गिड़गिड़ाया था पाक‌िस्तान’

cm yogi and governor ram naik pays tribute on kargil vijay diwas
  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!