आपका शहर Close

घटना या चरित्र से अधिक महत्वपूर्ण है प्रभाव में प्रतिरोध का रचना

Lucknow

Updated Sun, 04 Nov 2012 12:00 PM IST
लखनऊ। कथाक्रम में दो दिवसीय ‘असहमति के स्वर, लोकतंत्र और कथा साहित्य’ विषयक संगोष्ठी के शनिवार को प्रथम सत्र में एक ओर जहां यह बात उठी कि साहित्य में असहमति के स्वर दर्शाने के लिए प्रतिरोध के चरित्र और घटनाएं महत्वपूर्ण हैं वहीं यह बात भी सामने आई कि घटना या चरित्र से अधिक महत्वपूर्ण यह है कि रचना पाठकों पर प्रभाव में कितना प्रतिरोध रच पाती है। वक्ताओं ने कहा कि आज लोकतंत्र लोक के लिए नहीं है, बल्कि कुछ खास लोगों के लिए है। लोकतंत्र में ऐसे स्वर जरूरी हैं जो असहमति के हों। साहित्य लोकतंत्र के असहमति के स्वरों को व्यक्त भी करता है और दबाता भी है। वरिष्ठ लेखिका मैत्रेयी पुष्पा ने कहा कि महिलाएं अपनी असहमति के स्वरों को हमेशा व्यक्त करती रही हैं, चाहे उसे सुना जाय या नहीं। लोकगीतों में उनके असहमति के ही स्वर हैं। आलोचक वीरेन्द्र यादव ने कहा कि प्रेमचंद जहां असहमति के स्वर बुलंद कर रहे थे वहीं गांधी भी राजनीति में अपनी असहमति व्यक्त कर रहे थे। वरिष्ठ साहित्यकार मुद्राराक्षस ने कहा कि लोकतंत्र आज लोक के लिए नहीं है, कुछ खास लोगों के लिए है। उन्होंने सवाल उठाया कि आज तक कोई दलित उद्योगपति क्यों नहीं हुआ। ‘तद्भव’ के संपादक तथा कथाकार अखिलेश ने विषय पर विस्तार से और नये ढंग से अपनी बात कही। उन्होंने कहा कि प्रतिरोध करता चरित्र या घटना से अधिक महत्वपूर्ण है प्रभाव में प्रतिरोध का रचना। उन्होंने कहा कि साहित्य में प्रतिरोध की मुखरता उसकी निरर्थकता भी बन सकती है। ‘गोदान’ में गोबर का प्रतिरोध अधिक मुखर है लेकिन होरी अधिक प्रभाव उत्पन्न करता है। उन्होंने कहा कि चीख, रुदन, दबी हुई सिसकी भी कई बार रचनाकार के लिए अधिक उपयोगी साबित होती है। प्रतिरोध की विभिन्न युक्तियां हो सकती हैं। अखिलेश ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद के तीन महत्वपूर्ण साहित्यकारों श्रीलाल शुक्ल की राग दरबारी, हरिशंकर परसाई की व्यंग्य रचनाओं और रघुवीर सहाय की कविताओं में आक्रामकता या आंदोलनधर्मिता नहीं है लेकिन व्यंग्य की धार के साथ ये पाठक में प्रतिरोध का प्रभाव रचती हैं। मूलचन्द गौतम के संचालन में हुई संगोष्ठी में हिन्दी संस्थान के निदेशक सुधाकर अदीब ने कहा कि असहमति के लिए बहुत मुखर होना जरूरी नहीं। रोहिणी अग्रवाल ने कहा कि साहित्य विडंबनाओं को व्यक्त करते हुए गहराइयां रचता है। विभास वर्मा ने कहा कि वैधता को विवेक सम्मत बनाना लोकतंत्र की सबसे बड़ी समस्या है। तरुण भटनागर ने कहा कि प्रजातंत्र के विरोध में की गयी क्रांतियां बहुत सफल नहीं हुई हैं।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

इसे कहते हैं 'Bang-Bang आविष्कार', कबाड़ से बना दी इतनी महंगी कार

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

स्विमसूट में ये क्या कर रही हैं ईशा गुप्ता, तस्वीर देख कह उठेंगे 'पोजिंग क्वीन'

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

सिर्फ क्रिकेटर्स से रोमांस ही नहीं, अनुष्का-साक्षी में एक और चीज है कॉमन, सबूत हैं ये तस्वीरें

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

पहली बार सामने आईं अर्शी की मां, बेटी के झूठ का पर्दाफाश कर खोल दी करतूतें

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

धोनी की एक्स गर्लफ्रेंड राय लक्ष्‍मी का इंटीमेट सीन लीक, देखकर खुद भी रह गईं हैरान

  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

Most Read

जबलपुर में हैवानियत की हद, 2 साल के भाई को दरवाजे से बांधकर 4 साल की बच्ची से किया दुष्कर्म

boy accused of raping 4 years old girl in madhya pradesh
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

भुवी-नूपुर की रिसेप्शन पार्टी शुरू, डीजे पर डांस करेंगे दोस्त व रिश्तेदार

Bhuvi procession came out, my friend marriage on dance, will be in a while
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

हनीमून से पहले नूपुर ने पूछे कई सवाल? भुवनेश्वर ने अपने अंदाज में दिए जवाब

Nupur asked many questions before the honeymoon? Bhuvneshwar responds in his own style
  • गुरुवार, 23 नवंबर 2017
  • +

दरोगा भर्ती के लिए 12 से 22 दिसंबर के बीच होगी परीक्षा, जारी किए गए दिशानिर्देश

directions for SI recuitment issued.
  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

पद्मावती विवाद पर आसाराम ने खोला मुंह, जानिए क्या कहा

Asaram's statement on Padmavati controversy
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!