आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

सितंबर से महंगे हो जाएंगे मोबाइल फोन!

Rakesh Jha

Rakesh Jha

Updated Tue, 31 Jul 2012 11:43 AM IST
mobile phones become expesive from september
मोबाइल कंपनियों को रेडिएशन नियम लागू करने के सरकार के आदेश के बाद मोबाइल के दामों में इजाफा हो सकता है। सरकार के इस आदेश के बाद आशंका जताई जा रही है कि नोकिया और सैमसंग समेत कई मोबाइल कंपनियां कीमतों में 5 से लेकर 30 फीसदी तक का इजाफा कर सकती है।
सितंबर से मोबाइल निर्माता कंपनियों को नए नियम के मुताबिक हैंडसेट के रेडिएशन में बदलाव करना होंगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक अभी बाजार में बिकने वाले करीब 88 फीसदी मोबाइल नए रेडिएशन नियमों के विपरीत है। इस पर नोकिया और सैमसंग का तर्क है कि उनके फोन यूरोपियन रेडिएशन स्टैंडर्ड के अनुसार हैं।

भारत में अब अमेरिकी रेडिएशन स्टैंडर्ड लागू किया जा रहा है। इसी के मद्देनजर कंपनियों को अपने मॉडल दोबारा डिजाइन करना पड़ेंगे। टेलीकॉम विभाग सभी कंपनियों को फोन पर रेडिएशन टैग लगाने का निर्देश जारी कर चुका है। इससे मोबाइल को देखकर उसके रेडिएशन का स्तर पता चल सकता है।

बाजार में मौजूद मोबाइल हैंडसेट की स्पेसिफिक एबसॉर्प्शन रेडिएशन (एसएआर) लिमिट 2 वॉट प्रति किलोग्राम है, जिसे घटाकर 1.6 वॉट प्रति किलोग्राम करना होगा। हैंडसेट की एसएआर लिमिट डिस्पले पर ही देनी होगी। इसके अलावा इसकी जानकारी मोबाइल के साथ दी जाने वाली बुकलेट और कंपनी की वेबसाइट पर भी देनी होगी।

सभी हैंडसेट के साथ हैंड-फ्री डिवाइस भी जरूरी कर दी गई है। सरकार का मानना है कि बाजार में बिक रहे कई मोबाइल फोन से निकलने वाला रेडिएशन लेवेल ज्यादा है। जो कि लोगों पर विपरीत असर डालता है। जानकारों का मानना है कि इससे चीन से आ रहे घटिया क्वालिटी वाले सस्ते हैंडसेट्स पर रोक लगेगी।

क्या है रेडिएशन?
रेडिएशन का प्रसार दो तरह से होता है, मोबाइल टावर से और मोबाइल फोन से। मोबाइल रेडिएशन का सीधा ताल्लुक स्पेसिफिक एबसॉर्प्शन रेडिएशन (एसएआर) से है। एक तय वक्‍त के अंदर किसी इंसान या जानवर के शरीर में प्रवेश करने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगों की माप को एसएआर कहा जाता है।

एसएआर संख्या वह ऊर्जा है, जो मोबाइल के इस्तेमाल के वक्‍त इंसान का शरीर सोखता है। मतलब यह है कि जिस मोबाइल की एसएआर संख्या जितनी ज्यादा होगी, वह शरीर के लिए उतना ही ज्यादा नुकसानदेह होगा। आसान शब्दों में कहे तो मोबाइल का ज्यादा रेडिएशन स्वास्‍थय के लिए खतरनाक है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

फिर रामू ने मचाया बवाल, भगवान गणेश पर किए आपत्तिजनक ट्वीट

  • बुधवार, 28 जून 2017
  • +

मानसून में भूलकर भी न खाएं ये चीजें हो सकते हैं बीमारियों के शिकार

  • बुधवार, 28 जून 2017
  • +

ये हैं शाहरुख खान की बहन, हुआ था ऐसा हादसा सालों तक डिप्रेशन में रहीं

  • बुधवार, 28 जून 2017
  • +

बनना चाहते हैं बॉस के 'फेवरेट' तो जल्दी से कर लें ये काम

  • बुधवार, 28 जून 2017
  • +

ग्रेजुएट्स के लिए 'इंवेस्टीगेशन ऑफिसर' बनने का मौका, 67 हजार सैलरी

  • बुधवार, 28 जून 2017
  • +

Most Read

BSNL का धमाका, 444 रुपये में दे रहा है जियो से भी ज्यादा डाटा

BSNL offers 4GB mobile broadband data per day for Rs444
  • गुरुवार, 15 जून 2017
  • +

आज प्री-बुकिंग के लिए उपलब्ध होंगे रेडमी नोट 4, रेडमी 4 और रेडमी 4A

xiaomi starts pre booking for redmi note 4, redmi 4 and redmi 4a
  • शुक्रवार, 16 जून 2017
  • +

दिवाली तक जियो का ब्रॉडबैंड प्लान, ₹500 में 100 GB डेटा

Jio broadband plan to be launched by Diwali, 100 GB data for 500 rupees
  • मंगलवार, 30 मई 2017
  • +

CCI ने जियो के खिलाफ एयरटेल की शिकायत को खारिज किया

Competition Commission of India rejected Airtel's Complaint Against Reliance Jio and RIL
  • शनिवार, 10 जून 2017
  • +

WWDC 2017 शुरू, एप्पल के ये प्रोडक्ट हो सकते हैं लॉन्च

WWDC 2017: Heres is the highlites what to expect from Apple's big event
  • सोमवार, 5 जून 2017
  • +

अब फेसबुक आपके घर पहुंचाएगा खाना, इस कंपनी से हुई पार्टनरशिप

Facebook Launched Order Food Feature in US
  • सोमवार, 22 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top