आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

जन्मदिन विशेष: भारतीय फुटबॉल को भूटिया ने दी नई पहचान

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क

Updated Fri, 14 Dec 2012 11:09 PM IST
birthday special bhutia has given new identities of indian football
भारत में फुटबॉल की बात हो और बाईचुंग भूटिया का नाम न आए ये संभव नहीं है। फुटबॉल को अपना पहला प्यार समझने वाले भूटिया का जन्म 15 दिसंबर 1976 को हुआ था। फुटबॉल का यह सितारा 36 साल का हो गया है। भारत के सिक्‍किम में जन्मा यह फुटबॉल खिलाड़ी भारत में वहीं अहमियत रखता है जो इंग्लिश फुटबॉल जगत में डेविड बैकहम और रुनी, फ्रांस में जिनेदिन जिदान, पुर्तगाल में क्रिस्टियानो रोनाल्डो व ब्राजील के रोनाल्डो का है।
छोटी उम्र से ही फुटबॉल के प्रति उनके लगाव ने उन्हें इस मुकाम पर पहुंचाया। इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मात्र 11 वर्ष की उम्र में ही उन्हें ताशी नंग्याल अकादमी (गंगटोक) की ओर से फुटबॉल की साई स्कॉलरशिप मिल गई थी। 16 साल की उम्र में सन्तोष ट्रॉफी में उन्होंने अपना कौशल दिखाया और इसी के परिणाम स्वरूप उन्हें ईस्ट बंगाल टीम में शामिल कर लिया गया। इसके बाद 1999 में उन्हें बेलायत के ब्यूरी क्लब में एफसी के तरफ से खेलने का मौका मिला। बाईचुंग भारत फुटबॉल टीम के कप्तान भी रहे है।

इस खिलाड़ी की प्रतिभा का आकलन आप इसी बात से कर सकते है कि एलजी एशियन क्लब 2003 में सर्वाधिक 9 गोल करके भूटिया 'गोल्डन बूट' से नवाजे गए थे। इसी दौरान कलकत्ता डरबी में सर्वाधिक 14 गोल जिसमे ईस्ट बंगाल की ओर से 13 और मोहन बागान की ओर से 01 गोल का रिकॉर्ड बनाया। फुटबॉल के मैदान में उनके विपक्षी खिलाड़ी उन्हें विज किड, क्राइसिस मैन, वंडर किड व स्कॉरपियन के नाम से पहचानते हैं।

वर्ष 2004 में भूटिया ने माधुरी नाम की लड़की के साथ सात फेरे ले लिए और अपने जीवन को आगे बढ़ाया। भूटिया न सिर्फ फुटबॉल के मैदान के कारण चर्चा में रहते है बल्कि कई सामाजिक कार्य से भी जुड़ने के कारण उन्हें पहचान मिली। भारतीय फुटबॉल में उनके योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने उन्हें 2008 के पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया था। इसके बावजूद वह खुद को भारतीय फुटबॉल का सबसे बड़ा सितारा नहीं मानते है उनकी नजर में सुनील छेत्री उनसे बेहतर है। हालांकि विश्व फुटबॉल में वह सबसे बड़ा सितारा डिएगो माराडोना को मानते है।

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

ईद पर हर आम और खास की पहली पसंद होते हैं ये व्यंजन

  • सोमवार, 26 जून 2017
  • +

कुछ तो समझिए जनाब! लड़कियों के ये इशारे बताते हैं उनके दिल की बात

  • सोमवार, 26 जून 2017
  • +

गुस्सा आए तो पहले कहीं टहल आएं...और भी हैं कई टिप्स काम के

  • सोमवार, 26 जून 2017
  • +

...ताकि इस बरसात न खराब हो आपके बालों की सेहत, ये टिप्स हैं कारगर

  • रविवार, 25 जून 2017
  • +

पहली बार बिकिनी में नजर आईं टीवी की 'नागिन', बॉलीवुड एक्ट्रेस को दे रहीं कड़ी टक्कर

  • रविवार, 25 जून 2017
  • +

Most Read

फीफा अंडर-17 विश्व कप की तैयारियां लगभग पूरी: गोयल

Vijay goyal Says India Is Ready For Under 17 Football World Cup
  • रविवार, 21 मई 2017
  • +

चीन में अभ्यास के दौरान न्यूकैसल के पूर्व मिडफील्डर चीक टीओटे का निधन

Cheick Tiote: former Newcastle midfielder dies at aged 30 in China
  • सोमवार, 5 जून 2017
  • +

स्पेनिश सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की मेसी की याचिका, लेकिन नहीं जाना पड़ेगा जेल

Spain's Supreme Court confirms Lionel Messi's sentence over tax fraud reports 
  • बुधवार, 24 मई 2017
  • +

रोनाल्डो के आधे दिन की कमाई 7.6 करोड़ रुपये

Footballer Cristiano Ronaldo earns Rs 7.6 crore in half-day
  • शुक्रवार, 12 मई 2017
  • +

फीफा अंडर-17 विश्व कप की तैयारियां लगभग पूरी: गोयल

Vijay goyal Says India Is Ready For Under 17 Football World Cup
  • रविवार, 21 मई 2017
  • +

फीफा रैंकिंग: 21 साल बाद भारतीय टीम टॉप 100 में शामिल

Indian Football attains highest ranking in 21yrs of 100
  • गुरुवार, 4 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top