आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

स्क्रीन के सामने बैठे-बैठे आंखें थक जाएं तो करें ये व्यायाम

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क

Updated Fri, 19 Oct 2012 02:41 PM IST
try these exercises for eyes relief
दिन भर दफ्तर में कंप्यूटर के आगे बैठकर काम करने, घर पर टीवी, पीसी या लैपटॉप से चिपके रहने के बाद अगर सिरदर्द, आंखों में थकान या जलन होने लगे तो हैरानी किस बात की है। जरूरत से ज्यादा आंखों को स्ट्रेस देने पर यही नतीजा सामने आएगा। दरअसल हमारी लाइफस्टाइल ऐसी हो गई है, जिससे हमारी आंखों पर लगातार दबाव पड़ता रहता है।
दफ्तर या घर पर कंप्यूटर पर काम करना अब हमारी मजबूरी बनती जा रही है, मगर आप चाहें तो आंखों के कुछ व्यायाम के जरिए अपनी आइसाइट को मजबूत रख ही सकते हैं। इनमें से कुछ व्यायाम ऐसे हैं जिनके लिए आपको अलग से समय निकालने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आप काम के दौरान भी इन्हें कर सकते हैं इससे आंखों को तुरंत आराम और तरोताजगी मिलेगी।

काम के दौरान करें ये व्यायाम
लगातार कंप्यूटर के आगे बैठकर काम करते वक्त अगर आप कुछ छोटे-छोटे आंखों के व्यायाम करेंगे तो आपकी आंखों पर अधिक दबाव नहीं पड़ेगा। कुछ आसान व्यायाम हैं-

काम के दौरान थकान होने पर भी आप आंखों को राहत दे सकते हैं। पहले स्टेप में हथेलियों को रब करें और आंखों पर रख लें। ध्यान रहें कि आंखों पर हथेलियों का दबाव न पड़े। थोड़ी देर बार हाथ हटाएं और आंखों को धीरे-धीरे खोलें। इससे आंखों को तुरंत आराम मिलेगा। लगातार काम करने से आंखों में थकान महसूस हो तो कुछ सेंकड्स के लिए 10-12 बार जल्द-जल्दी पलकें झपकाएं और फिर तेजी से आंखों को बंद करें।  

आंखों पर हथेलियां रखें और आंखों को बाएं से दाएं और दाएं से बांएं घुमाएं। 4-5 बार ऐसा करने के बाद सामान्य हो जाएं और आंखें ऊपर से नीचे व नीचे से ऊपर की ओर घुमाएं। आंखों को सामान्य करें और फिर क्लॉकवाइज व एंटी-क्लॉकवाइज घुमाएं।

त्राटक का अभ्यास करें
त्राटक के लिए सीधे बैठकर एक प्वाइंट पर आंखों को केंद्रित करें। ज्यादा स्ट्रेस लिए बिना उस प्वाइंट पर कुछ देर आंखें केंद्रित रखें। आज जितनी देर तक एक प्वाइंट पर आंखों को केंद्रित रख सकते हैं उतनी देर तक उन्हें बिना पलक झपकाए केंद्रित रखें। इस दौरान श्वास सामान्य रखें। कुछ मिनटों बाद सामान्य अवस्था में आ जाएं।

त्राटक एक ऐसी टेकनीक है जो आंखों को आराम देती है, आइ साइट मजबूत करती है और आंखों को संक्रमण से लड़ने की शक्ति देती है। इसके अलावा यह मन की एकाग्रता के लिए भी यह बेहद उपयोगी है।

शवासन भी है लाभदायक

शवासन में शरीर के समस्त भागों को आराम मिलता है और आंखों की थकान व भारीपन हटाने के लिए भी यह बेहद उपयोगी आसन है। इसके करने के लिए पीठ के बल सीधे लेट जाएं। पैरों को ढीला छोड़ दें और बाजुओं को शरीर से सटाकर ढीला छोड़ दें। आंखें बंद करें और अपनी श्वास पर ध्यान केंद्रित करें। लंबी सांस लें और छोड़ें। शरीर स्थिर रखें। इससे आंखों को आराम और तरोताजगी मिलेगी।

आंखों की देखभाल के लिए नियमित रूप से इन आसनों को आप अपनी सुविधा के अनुसार शामिल तो करे हीं, साथ ही नींद भी भरपूर लें।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

इस घर के ऊपर देखी गई विचित्र चीज, अचानक हो गई गायब, देखें वीडियो

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

पति की वजह से कंगाल हो गई थी ये हीरोइन, ठेले पर रखकर ले जाना पड़ा था शव

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

25 की उम्र के बाद लड़कियों को शुरू कर देने चाहिए ये काम

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

नागिन डांस हुआ पुराना, अब है पहिया डांस का जमाना...

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

OMG: फिर से शादी करने जा रहीं प्रेग्नेंट ईशा देओल, जानें कौन होगा दूल्हा

  • मंगलवार, 22 अगस्त 2017
  • +

Most Read

अगर आप तनाव में रहते हैं तो, हर द‌िन 5 म‌िनट यह काम जरूर करें

yog dhyan and meditation benefits in life
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +

बस कुछ म‌िनट में आप भी बनाइये अपनी सुरक्षा कवच, जान‌िए फायदे

research about benefits of meditation
  • गुरुवार, 2 फरवरी 2017
  • +

अगर आप टेंसन में रहते हैं तो, हर द‌िन 5 म‌िनट यह काम जरूर करें

benefits of yog dhyan and meditation
  • गुरुवार, 23 फरवरी 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!