आपका शहर Close

देखें तस्वीरेंः मोक्षनगरी काशी में पूर्वजों की स्मृतियों में सजी शिवगणों की सबसे बड़ी कचहरी

see the photos of unique shiva temple in varanasi


जन्म के आठवें महीने तक मां उस शिवलिंग की पूजा करती है और फिर उस शिशु के नाम पर उसे स्थापित कर दिया जाता है। इस संप्रदाय में पुनर्जन्म की अवधारणा नहीं है। ऐसे में देहावसान के बाद शिव के रूप में उस आत्मा को प्रतिष्ठापित कर दिया जाता है। एकेन जन्मना मुक्ति:। यानी वीर शैव संप्रदाय के उपासकों का मानना है कि देह त्याग के बाद दूसरा जन्म नहीं होता। इसलिए शिव स्वरूप में उनको मुक्ति प्रदान की जाती है।

 

Most Viewed

कपाट बंद होने के वक्त केदारनाथ धाम में हुआ 'चमत्कार', देखकर अचंभित हुए सब

miracle during kedarnath dham door closing ceremony
  • मंगलवार, 24 अक्टूबर 2017
  • +

बंद घर में रखा सिलेंडर लीक होता रहा, फटा तो मच गई तबाही, 7 लोगों की मौत

Panchkula Cylinder blast: 4 more dead, total 7
  • मंगलवार, 24 अक्टूबर 2017
  • +

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

Auspicious time for diwali 2017 lakshmi puja Muhurta‬‬
  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

Also View

बलिया में वन विभाग के दारोगा को भाजपा विधायक और समर्थकों ने जमकर पीटा

Ballia bjp leader surendra singh beat forest depatrtment staff
  • शनिवार, 7 अक्टूबर 2017
  • +

BHU पहुंची महिला आयोग की अध्यक्ष, बोलीं- कुलपति को भेजेंगे समन

Womens Commission talked about round up to the Vice Chancellor of BHU
  • शुक्रवार, 6 अक्टूबर 2017
  • +

बीएचयू के अस्पताल में इंडस्ट्रियल गैस से हुई थीं मरीजों की मौत, जांच में हुई पुष्टि

bhu hospital used industrial gas for anaesthesia
  • शुक्रवार, 6 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!