आपका शहर Close

अहोई अष्टमी 2017: क्यों रखा जाता है ये व्रत, क्या है इसके पीछे की कथा?

ahoi ashtami 2017 know importance of ashtami and vrat katha

कार्तिक माह में कृष्‍ण पक्ष की अष्टमी को पुत्रवती महिलाएं अपनी संतान और परिवार को किसी भी अनहोनी से बचाने के लिए निर्जला व्रत रखती है और शाम को दीवार पर 8 कोनों वाली एक पुतली अंकित करती हैं। इसे अहोई अष्टमी भी कहा जाता है। पुतली के पास स्याऊ माता और उनके बच्चों को बनाया जाता है। इस दिन शाम को चंद्रमा को अर्घ्य देकर कच्चा भोजन खाया जाता है।

ये भी पढ़ें- अहोई अष्टमी: अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस मुहूर्त में करें साही के बच्चों की पूजा

Most Viewed

Dhanteras 2017: इस मुहूर्त में करें लक्ष्मी पूजा, स्थिर लग्न में खरीदारी करना होता है शुभ

dhanteras 2017 shubh muhurat for purchasing new items
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +

DIWALI 2017: इन 33 चीजों से करें मां लक्ष्मी की पूजा, कभी नहीं होगी धन की कमी

DIWALI 2017 use these 33 things to worship of maa Lakshmi
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

हनुमान जयंती आज, चुटकी भर सिंदूर से दूर हो जाएगा राहु और शनि दोष

hanuman jayanti 2017 importance and its significance
  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

Also View

DIWALI 2017: लक्ष्मी जी और शनिदेव में अच्छा कौन? भगवान विष्‍णु का जवाब पढ़ें

diwali 2017 know who is best between maa lakshmi or laxmi and shani dev according to lord vishnu
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

Dhanteras: पूजा के लिए 1 घंटे का मुहूर्त, जानें किस समय करें कौन सी खरीदारी

dhanteras shubh muhurat time for purchasing gold and new things
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

रमा एकादशीः इस दिन से शुरू होगा देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने का सिलसिला, जानें कैसे करें पूजा

DIWALI 2017 Benefits of rama ekadashi fast and importance of maa lakshmi and lord vishnu worship
  • शनिवार, 14 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!