Breaking News in Hindi Friday, May 22, 2015
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Samachar > Business > Business Diary

कृषि उत्पादों की बर्बादी पर गुमराह कर रही है सरकार

agricultural products is misleading government Praveen Khandelwal
फसलों के खेत से लेकर उपभोक्ता के घरों में पहुंचने तक होने वाली बर्बादी को सरकार बढ़ा चढ़ाकर बताकर न सिर्फ देश को गुमराह कर रही है। बल्कि गलत आंकड़ों के जरिए की जा रही झूठी बयानबाजी से स्थिति को भयावह बनाने की कोशिश भी की जा रही है।

मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई पर अमर उजाला की ओर से आयोजित की गई परिचर्चा मंथन में भाग लेते हुए कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि कृषि उत्पादों के खेत से उपभोक्ता के हाथों तक पहुंचने में होने वाली बर्बादी के आंकड़ों को सरकार बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रही है।

खासबात यह है कि उत्पादकों से लेकर उपभोक्ताओं तक में भ्रम फैलाने का काम प्रधानमंत्री से लेकर सभी आला मंत्री कर रहे हैं। जबकि हकीकत में ना ही इतनी बड़ी मात्रा में अनाज की बर्बादी हो रही है और ना ही फल-सब्जी सहित अन्य उत्पादों की । यही नहीं जिस सर्वे के आधार पर सरकार दो तिहाई फसलों की बर्बादी की बात कह रही है, उन आंकड़ों में कृषि उत्पादों के साथ बड़ी हिस्सेदारी पशु उत्पादों की भी है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से लेकर कृषि राज्य मंत्री तक सभी फसल के बाद होने वाली बर्बादी 40 फीसदी बता रहे हैं, जो सरासर झूठ है। सरकार यह आंकड़ा सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट हार्वेस्ट इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपहेट) के ताजा सर्वे के आधार पर बता रही है। जबकि सिपहेट ने अपने सर्वे में सालाना 3 से 12 फीसदी तक सब्जी और 5 से 18 फीसदी तक फसल बर्बाद होने की बात कही है। मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई की वकालत में सरकार झूठ बोल कर स्थिति को भयावह बनाने की साजिश कर रही है।

दरअसल सिपहेट के 13 जुलाई 2010 के सर्वे में सालाना 44,000 करोड़ के कृषि व पशु उत्पादों के नष्ट होने की बात कही गई है। सर्वे के मुताबिक हर साल 12,593 करोड़ रुपये का अनाज, 1,735 करोड़ रुपये मूल्य की दालें, 5,107 करोड़ रुपये के तिलहन और 5,764 करोड़ रुपये मूल्य के मसाले एवं अन्य प्लांटेशन वाली फसलों की बर्बादी हो रही है।

यही नहीं, आधुनिक तकनीक जिसमें कटाई, छटाई और शीतगृहों का अभाव होने से 7,437 करोड़ रुपये के फसल और 5,872 करोड़ रुपये मूल्य की सब्जियां नष्ट हो रही हैं। इस बर्बादी से पशुधन अछूते रह गए हैं बल्कि उनकी बर्बादी भी दूसरों से कम नहीं है। हर साल लगभग 5,635 करोड़ रुपये मूल्य के पशुधन जिसमें दुग्ध उत्पादों के अलावा मांस, अंडा और मछली भी शामिल है।

कैट के महामंत्री नरेंद्र मदान के मुताबिक एफडीआई के समर्थन में सरकार यह भी ढोल पीट रही है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां 30 फीसदी उत्पाद देश के लघु और मध्यम उद्योग से खरीदेंगी। लेकिन मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई पर जो नोटिफिकेशन सरकार की ओर जारी किया गया है उसमें यह स्पष्ट नहीं है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां हर साल 30 फीसदी खरीद देश के लघु उद्योगो से करेंगी। इस परिचर्चा में व्यापारी नेता सतीश गर्ग, विजय बुद्धिराजा, विजय प्रकाश जैन और किशोर खारावाला सहित उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड से आए अनेक व्यापारियों ने हिस्सा लिया।

ज़बर खबर : पढ़ना न भूलें

खुल गया भेद, यही था सलमान का तीन उंगली दिखाने का मतलब

इस महीने की शुरुआत में जेल जाते-जाते बचे सलमान के उस इशारे का भेद खुल गया है, जो उन्होंने सरेआम बालकनी में खड़े होकर किया था।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Business Diary News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

केंद्र के एक साल पर जेटली ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड

FM Arun Jaitley gives report card on one year anniversary of NDA Govt. पीएम मोदी के नेतृत्व में एनडीए सरकार के एक साल के कामकाज का...

मुफ्त में भी काम करने को तैयार हैं ग्रीनपीस इंडिया के कर्मचारी

Greenpeace India workers ready to work for free देश में एनजीओ को बंद न होने देने के लिए कर्मचारी बिना तनख्वाह...

42 साल बाद मिला इस पर्वतारोही का शव

mountaineer body found after 42years ग्लेशियर पर हुए हिमस्खलन में लापता हुए पर्वतारोही के शव की पहचान 42...

पीएम मोदी का जातिवादी राजनीति पर निशाना

PM Modi in a programme on the works of Rashtrakavi Dinkar. राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की कालजयी कृतियों के पचास साल पूरे होने पर...

ख़बरें राज्यों से

चुनाव आयोग को 400 'ईमानदारों' की तलाश

EC demands to govt 400 clean IAS officers for BIhar election बिहार चुनावों को निष्पक्ष और शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग ने...

बेबसी: कर्ज चुकाने को अपने बच्चों को गिरवी रख रहे किसान

farmer mortgage his sons to repay his debt प्राकृतिक आपदा से जूझते किसान अब अपना और परिवार का पेट भरने के...

फिर पटरियों पर उतरे गुर्जर, उखाड़ने लगे पटरियां

Gurjar andolan started again in Rajsthan for reservation आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान एक बार फिर सुलग उठा है, वहां...

बिहार में प्रेम विवाह करने पर देना होगा 'लवमैरिज टैक्स'

Love marriage tax demanded to couple in Bihar बिहार में एक युगल को प्रेम विवाह करने पर 50 हजार का 'लवमैरिज...