Breaking News in Hindi Saturday, April 19, 2014
ताज़ा ख़बर >

आपके शहर की ख़बरें

Home > Samachar > Business > Business Diary

कृषि उत्पादों की बर्बादी पर गुमराह कर रही है सरकार

फसलों के खेत से लेकर उपभोक्ता के घरों में पहुंचने तक होने वाली बर्बादी को सरकार बढ़ा चढ़ाकर बताकर न सिर्फ देश को गुमराह कर रही है। बल्कि गलत आंकड़ों के जरिए की जा रही झूठी बयानबाजी से स्थिति को भयावह बनाने की कोशिश भी की जा रही है।

मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई पर अमर उजाला की ओर से आयोजित की गई परिचर्चा मंथन में भाग लेते हुए कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि कृषि उत्पादों के खेत से उपभोक्ता के हाथों तक पहुंचने में होने वाली बर्बादी के आंकड़ों को सरकार बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रही है।

खासबात यह है कि उत्पादकों से लेकर उपभोक्ताओं तक में भ्रम फैलाने का काम प्रधानमंत्री से लेकर सभी आला मंत्री कर रहे हैं। जबकि हकीकत में ना ही इतनी बड़ी मात्रा में अनाज की बर्बादी हो रही है और ना ही फल-सब्जी सहित अन्य उत्पादों की । यही नहीं जिस सर्वे के आधार पर सरकार दो तिहाई फसलों की बर्बादी की बात कह रही है, उन आंकड़ों में कृषि उत्पादों के साथ बड़ी हिस्सेदारी पशु उत्पादों की भी है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से लेकर कृषि राज्य मंत्री तक सभी फसल के बाद होने वाली बर्बादी 40 फीसदी बता रहे हैं, जो सरासर झूठ है। सरकार यह आंकड़ा सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट हार्वेस्ट इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपहेट) के ताजा सर्वे के आधार पर बता रही है। जबकि सिपहेट ने अपने सर्वे में सालाना 3 से 12 फीसदी तक सब्जी और 5 से 18 फीसदी तक फसल बर्बाद होने की बात कही है। मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई की वकालत में सरकार झूठ बोल कर स्थिति को भयावह बनाने की साजिश कर रही है।

दरअसल सिपहेट के 13 जुलाई 2010 के सर्वे में सालाना 44,000 करोड़ के कृषि व पशु उत्पादों के नष्ट होने की बात कही गई है। सर्वे के मुताबिक हर साल 12,593 करोड़ रुपये का अनाज, 1,735 करोड़ रुपये मूल्य की दालें, 5,107 करोड़ रुपये के तिलहन और 5,764 करोड़ रुपये मूल्य के मसाले एवं अन्य प्लांटेशन वाली फसलों की बर्बादी हो रही है।

यही नहीं, आधुनिक तकनीक जिसमें कटाई, छटाई और शीतगृहों का अभाव होने से 7,437 करोड़ रुपये के फसल और 5,872 करोड़ रुपये मूल्य की सब्जियां नष्ट हो रही हैं। इस बर्बादी से पशुधन अछूते रह गए हैं बल्कि उनकी बर्बादी भी दूसरों से कम नहीं है। हर साल लगभग 5,635 करोड़ रुपये मूल्य के पशुधन जिसमें दुग्ध उत्पादों के अलावा मांस, अंडा और मछली भी शामिल है।

कैट के महामंत्री नरेंद्र मदान के मुताबिक एफडीआई के समर्थन में सरकार यह भी ढोल पीट रही है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां 30 फीसदी उत्पाद देश के लघु और मध्यम उद्योग से खरीदेंगी। लेकिन मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई पर जो नोटिफिकेशन सरकार की ओर जारी किया गया है उसमें यह स्पष्ट नहीं है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां हर साल 30 फीसदी खरीद देश के लघु उद्योगो से करेंगी। इस परिचर्चा में व्यापारी नेता सतीश गर्ग, विजय बुद्धिराजा, विजय प्रकाश जैन और किशोर खारावाला सहित उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड से आए अनेक व्यापारियों ने हिस्सा लिया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

राजस्थान रॉयल्स ने हैदराबाद को हराया

Rajasthan beat Hyderabad राजस्थान रॉयल्स ने रोमांचक मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद को तीन गेंद शेष रहते...

नजरें मिलीं, मोदी ने जोशी के पांव छुए और दे दी अपनी कुर्सी

narendra modi and murli manohar joshi meeting in rally कानपुर के कोयला नगर में शुक्रवार को चुनावी रैली के दौरान मंच पर...

सीएसके और रैना ने पूरा किया आईपीएल में मैचों का शतक

 Raina and CSK completed  century in IPL matches चेन्नई सुपरकिंग्स और पहले सत्र से उसकी तरफ से प्रत्येक मैच खेलने वाले...

मुंबई को चीयर करेंगे नौ गरीब बच्चे

Mumbai Indians invites 9 underprivileged children to Dubai मुंबई इंडियंस की मालकिन नीता अंबानी और टीम के आइकन मास्टर ब्लास्टर सचिन...

ख़बरें राज्यों से

भयानक हादसे में अब तक 40 की मौत

many died in accident in mp मुरैना से भिंड जिले के अटेर की ओर जा रही बस पर हाईटेंशन...

आतंकी कहर: चुनावी माहौल में सरपंच की हत्या

murder in pulwama kashmir आतंकी कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला दक्षिणी कश्मीर...

नक्सली हिंसा के बीच हुआ 62 फीसदी मतदान

62% voting in jharkhand नक्सलियों ने रेल की पटरी उड़ा दी और सुरक्षा बलों पर हमला किया...

मोदी को ठिकाने लगाने के लिए मुलायम ने चला ब्रह्मास्‍त्र!

mulayam dont want to make election in up modi centric मुलायम यह क्यों साबित करना चाहते हैं कि मोदी को भाजपा नेता ही...